Ham na ajnabi hai na paraye hain, shayari

हम ना अजनबी हैं ना पराये हैं,
आप और हम एक रिश्ते के साये है,
जब जी चाहे महसूस कर लीजियेगा,
हम तो आपकी मुस्कुराहटों में समाये है। ❣

Leave a Reply