Hindi Shayari, Dhadkan kashi ho jati hai

Hindi Shayari

धड़कन काशी हो जाती है,
जब साँसें प्यासी हो जाती है,
अँखियों में मदीना झलकता है,
जब रूह सन्यासी हो जाती है। ✍

Dhadkan kashi ho jati hai,
jab saansen pyaasi ho jati hai,
ankhiyon mein madina jhalkata hai,
jab rooh sanyaasi ho jati hai. ✍

Leave a Reply