Hindi SMS Shayari Love 140 Character

Attitude Shayari

A.1:-कौन कहता है हम उसके बिना मर जायेंगे हम तो दरिया है समंदर में उतर जायेंगे वो तरस जायेंगे प्यार की एक बून्द के लिए हम तो बादल है प्यार के किसी और पर बरस जायेंगे

A.2:-Maana ki naseeb mein mere koi sanam nahi, Fir bhi koi shikwa koi gam nahi, Tanha the aur tanha jiye jaa rahe hai…….., Badnasib to wo hai jinke nasib me hum nhi.

A.3:-Make no mistake between my personality and my attitude. My personality is who I am, My attitude depends on who you are.

A.4:-तू बेशक अपनी महफ़िल में मुझे बदनाम करती हैं… लेकिन तुझे अंदाज़ा भी नहीं कि वो लोग भी मेरे पैर छुते है जिन्हें तू भरी महफ़िल में सलाम करती है…….

A.5:-You want to come in my life, the door is open. You want to get out of my life, the door is open. Just one request. Don’t stand in the door, you’re blocking the traffic.

A.6:-Bhula ke mujhko agar tum bhi ho salamat, To bhula k tujko smbhalna muje b aata hai Nahi hain meri fitrat mein ye aadat warna, Teri tarah badalna mujhe bhi aata hain…!!!

A.7:-Jab diljalo se mulaqat hui, Jagmag-jagmag raat ho gayi, Jala dete hum sari duniya ko Achaa hua jo barsaat ho gayi.

Attitude Shayari

A.1:-Abhi Suraj Nahi Dooba Zara Si Shaam Hone Do, Main Khud Hi Laut Jaunga Mujhe Nakam Hone Do, Mujhe Badnaam Karne Ka Bahana Dhundhte Kyun Ho, Main Khud Ho Jaunga Badnaam Pehle Naam Hone Do. अभी सूरज नहीं डूबा जरा सी शाम होने दो, मैं खुद लौट जाऊंगा मुझे नाकाम तो होने दो, मुझे बदनाम करने का बहाना ढूँढ़ते क्यों हो, मैं खुद हो जाऊंगा बदनाम पहले नाम होने दो।

A.2:-Yeh Mat Samajh Tere Kabil Nahi Hain Hum, Tadap Rahe Hain Woh Jinhein Haasil Nahi Hain Hum. ये मत समझ कि तेरे काबिल नहीं हैं हम, तड़प रहे हैं वो जिसे हासिल नहीं हैं हम। Hum Jaa Rahe Hai Waha Jahan Dil Ki Ho Kadar, Baithe Raho Tum Apni Adaayein Liye Huye. हम जा रहे हैं वहां जहाँ दिल की हो क़दर, बैठे रहो तुम अपनी अदायें लिये हुए।

A.3:-Chalo Aaj Phir Thoda Muskuraya Jaye, Bina Maachis Ke Logon Ko Jalaya Jaye. चलो आज फिर थोडा मुस्कुराया जाये, बिना माचिस के कुछ लोगो को जलाया जाये। Rehte Hain Aas-Paas Hi Lekin Saath Nahi Hote, Kuchh Log Mujhse Jalte Hain Bas Khaak Nahi Hote. रहते हैं आस-पास ही लेकिन पास नहीं होते, कुछ लोग मुझसे जलते हैं बस ख़ाक नहीं होते।

A.4:-Zamin Par Rah Kar Aasmaan Chhune Ki Fitrat Hai Meri, Par Gira Kar Kisi Ko Upar Uthane Ka Shauk Nahi Mujhe. ज़मीं पर रह कर आसमां छूने की फितरत है मेरी, पर गिरा कर किसी को, ऊपर उठने का शौक़ नहीं मुझे।

A.5:-Bhulkar Hamein Agar Tum Rehte Ho Salamat, Toh BhulKe Tumko Sambhlna Humein Bhi Aata Hai, Meri Fitrat Mein Yeh Aadat Nahi Hai Varna, Teri Tarah Badal Jana Humein Bhi Aata Hai. भूलकर हमें अगर तुम रहते हो सलामत, तो भूलके तुमको संभलना हमें भी आता है, मेरी फ़ितरत में ये आदत नहीं है वरना, तेरी तरह बदल जाना हमें भी आता है।

A.6:-Dushmano Ko Sazaa Dene Ki Ek Tehzeeb Hai Meri, Main Haath Nahi Uthhata Bas Najron Se Gira Deta Hun. दुश्मनों को सज़ा देने की एक तहज़ीब है मेरी, मैं हाथ नहीं उठाता बस नज़रों से गिरा देता हूँ। Bewaqt, Bewahaj, Behisaab Muskura Deta Hun, Aadhe Dushmano Ko Toh Yun Hi Haraa Deta Hun. बेवक़्त, बेवजह, बेहिसाब मुस्कुरा देता हूँ, आधे दुश्मनो को तो यूँ ही हरा देता हूँ।

A.7:-Chamak Suraj Ki Nahi Mere Kirdaar Ki Hai, Khabar Ye Aasmaan Ke Akhbaar Ki Hai, Main Chaloon To Mere Sang Kaarwan Chale, Baat Guroor Ki Nahi Aitwaar Ki Hai. चमक सूरज की नहीं मेरे किरदार की है, खबर ये आसमाँ के अखबार की है, मैं चलूँ तो मेरे संग कारवाँ चले, बात गुरूर की नहीं, ऐतबार की है।

A.8:-Koshish Yehi Rahti Hai Ki Humse Kabhi Koyi Ruthe Na, Magar Nazar Andaaz Karne Wale Ko Palat Kar Hum Bhi Nahi Dekhte. कोशिश यही रहती है कि हमसे कभी कोई रूठे ना, मगर नजर अंदाज करने वालो को पलट कर हम भी नही देखते।

A.9:-Apni Shakhsiyat Ki Kya Misaal Du Yaro Na Jane Kitne MashHoor Ho Gaye Mujhe Badnaam Karte Karte. अपनी शख्शियत की क्या मिसाल दूँ यारों ना जाने कितने मशहूर हो गये मुझे बदनाम करते करते। Itna Bhi Gumaan Na Kar Apni Jeet Par Ai Bekhabar,

WhatsApp Attitude Status

A.1:-कहानीयो के हकदार नही, इतिहास के वारसदार हैं # हम !!

A.2:-गुमान न कर अपने दिमाग पे मेरे दोस्त , जितना तेरा दिमाग हे उतना तो मेरा दिमाग खराब रेहता हे !!

A.3:-न कहा करो हर बार की हम छोड़ देंगे तुमको, न हम इतने आम हैं, न ये तेरे बस की बात है…!!

A.4:-भाई की पहोंच #दिल्ली से लेकर #कब्रस्तान तक हैं , आवाज दिल्ली तक जाती हैं ओर #दुश्मन कब्रस्तान तक ।

A.5:-मेरी खामोसी को कमजोरी ना समझ ऐ काफिर ,, गुमनाम समन्दर ही खौफ लाता है ।

A.6:-Tags

A.7:-Ahir

A.8:-हम आहिर हे, प्यार से मांग लो ‘ जान हाजिर ‘ । वरना तलवारों से इतिहास लिखना हमारी परंपरा हे ।।

A.9:-माँ ने कहा था कभी किसीका दिल मत तोडना,, इसलिए हमने दिल को छोड के बाक़ी सब तोड़ा !!

A.10:-हमारी गोली जान नही लेती बोस,, दुसरो के अन्दर जानवर जगा देती हे ।

A.11:-क्या करे बुरी आदत हे हमारी ,, नर्क के दरवाजे के सामने खड़े होकर पाप करते हे !!

A.12:-Tags

A.13:-Ahir

A.14:-आहिरों का बस यही अंदाज हे , जब आते हे तो गरमी अपने आप बढ़ जाती हे ।

A.15:-कुत्ते भोंकते हे अपना वजूद बनाये रखने के लिये ,, और लोगो की खामोशी हमारी मौजूदगी बया करती हे ।।

A.16:-माना की तेरी एक आवाज से भीड हो जाती हे ,, …..लेकिन हम भी आहिर हे ,, हमारी एक ललकार से पूरी भीड़ बिखर जाती हे ।।

A.17:-तेवर तो हम वक्त आने पे दिखायेंगे ,, शहेर तुम खरीदलो उस पर हुकुमत हम चलायेंगे…!!!

A.18:-बादशाह नहीं बाजीगर से पहचानते है लोग ,, “……क्यूकी…….” हम रानियो के सामने झुका नहीं करते….!!

A.19:-शेर खुद अपनी ताकत से राजा केहलाता है; जंगल मे चुनाव नही होते.. ।।

A.20:-में बंदूक और गिटार दोनों चलाना जानता हूं । तय तुम्हे करना हे की आप कौन सी धुन पर नाचोगे..।।

A.21:-राज तो हमारा हर जगह पे है…। पसंद करने वालों के “दिल” में ; और नापसंद करने वालों के “दिमाग” में…।।

A.22:-रियासते तो आती जाती रहती हे, मगर बादशाही करना तो.. आज भी लोग हमसे सीखते हे ।

A.23:-खेल ताश का हो या जिंदगी का , अपना इक्का तब ही दिखाना जब सामने बादशाह हो ।

A.24:-तुम गरदन जुकाने की बात करते हो , हम वौ है जो आंख उठाने वालो की गरदन प्रसाद मै बाट देते है..।।

A.25:-शायरी का बादशाह हुं और कलम मेरी रानी, अल्फाज़ मेरे गुलाम है, बाकी रब की महेरबानी ।

A.26:-हथियार तो सिर्फ सोंख के लिए रखा करते हे , खौफ के लिए तो बस नाम ही काफी हे ।

A.27:-अकल कितनी भी तेज ह़ो नसीब के बिना नही जित सकती , बिरबल काफी अकलमंद होने के बावजूद.. कभी बादशाह नही बन सका ।

A.28:-पसंन्द आया तो दिल में , नही तो दिमाग में भी नही ।

A.29:-जिंदगीमें बडी शिद्दत से निभाओ अपना किरदार, कि परदा गिरने के बाद भी तालीयाँ बजती रहे….।।

A.30:-कहानीयो के हकदार नही, इतिहास के वारसदार हैं # हम !!

A.31:-गुमान न कर अपने दिमाग पे मेरे दोस्त , जितना तेरा दिमाग हे उतना तो मेरा दिमाग खराब रेहता हे !!

A.32:-न कहा करो हर बार की हम छोड़ देंगे तुमको, न हम इतने आम हैं, न ये तेरे बस की बात है…!!

A.33:-भाई की पहोंच #दिल्ली से लेकर #कब्रस्तान तक हैं , आवाज दिल्ली तक जाती हैं ओर #दुश्मन कब्रस्तान तक ।

A.34:-मेरी खामोसी को कमजोरी ना समझ ऐ काफिर ,, गुमनाम समन्दर ही खौफ लाता है ।

A.35:-Tags

A.36:-Ahir

A.37:-हम आहिर हे, प्यार से मांग लो ‘ जान हाजिर ‘ । वरना तलवारों से इतिहास लिखना हमारी परंपरा हे ।।

A.38:-माँ ने कहा था कभी किसीका दिल मत तोडना,, इसलिए हमने दिल को छोड के बाक़ी सब तोड़ा !!

A.39:-हमारी गोली जान नही लेती बोस,, दुसरो के अन्दर जानवर जगा देती हे ।

A.40:-क्या करे बुरी आदत हे हमारी ,, नर्क के दरवाजे के सामने खड़े होकर पाप करते हे !!

A.41:-Tags

A.42:-Ahir

A.43:-आहिरों का बस यही अंदाज हे , जब आते हे तो गरमी अपने आप बढ़ जाती हे ।

A.44:-कुत्ते भोंकते हे अपना वजूद बनाये रखने के लिये ,, और लोगो की खामोशी हमारी मौजूदगी बया करती हे ।।

A.45:-माना की तेरी एक आवाज से भीड हो जाती हे ,, …..लेकिन हम भी आहिर हे ,, हमारी एक ललकार से पूरी भीड़ बिखर जाती हे ।।

A.46:-तेवर तो हम वक्त आने पे दिखायेंगे ,, शहेर तुम खरीदलो उस पर हुकुमत हम चलायेंगे…!!!

A.47:-बादशाह नहीं बाजीगर से पहचानते है लोग ,, “……क्यूकी…….” हम रानियो के सामने झुका नहीं करते….!!

A.48:-शेर खुद अपनी ताकत से राजा केहलाता है; जंगल मे चुनाव नही होते.. ।।

A.49:-में बंदूक और गिटार दोनों चलाना जानता हूं । तय तुम्हे करना हे की आप कौन सी धुन पर नाचोगे..।।

A.50:-राज तो हमारा हर जगह पे है…। पसंद करने वालों के “दिल” में ; और नापसंद करने वालों के “दिमाग” में…।।

A.51:-रियासते तो आती जाती रहती हे, मगर बादशाही करना तो.. आज भी लोग हमसे सीखते हे ।

A.52:-खेल ताश का हो या जिंदगी का , अपना इक्का तब ही दिखाना जब सामने बादशाह हो ।

A.53:-तुम गरदन जुकाने की बात करते हो , हम वौ है जो आंख उठाने वालो की गरदन प्रसाद मै बाट देते है..।।

A.54:-शायरी का बादशाह हुं और कलम मेरी रानी, अल्फाज़ मेरे गुलाम है, बाकी रब की महेरबानी ।

A.55:-हथियार तो सिर्फ सोंख के लिए रखा करते हे , खौफ के लिए तो बस नाम ही काफी हे ।

A.56:-अकल कितनी भी तेज ह़ो नसीब के बिना नही जित सकती , बिरबल काफी अकलमंद होने के बावजूद.. कभी बादशाह नही बन सका ।

A.57:-पसंन्द आया तो दिल में , नही तो दिमाग में भी नही ।

A.58:-जिंदगीमें बडी शिद्दत से निभाओ अपना किरदार, कि परदा गिरने के बाद भी तालीयाँ बजती रहे….।।

Leave a Reply