Hirday se ache log budhimaan hone ke baad bhi

Hirday se ache log budhimaan hone ke baad bhi

हृदय से अच्छे लोग
बुद्धिमान होने के बाद भी
धोख़ा खा जाते हैं,
क्योंकि..
वे दूसरों को भी..
हृदय से अच्छा होने का
विश्वास कर बैठते हैं।

%d bloggers like this: