Humse Jada To Khushnasib

Love Shayari

हमसे जादा तो खुश नसीब होते हैं बादल,
जो बहुत दूर रहकर भी ज़मीन पर बरसते हैं,
और हम कितने बदनसीब हैं,
जो एक शहर में रहकर भी मिलने को तरसते हैं.”

Humse Jada To khus Nasib Hote Hain Badal,
Jo Bahut Dur Rehkar Bhi Jamin Par Baraste Hain
Or Hum Kitne Badnasib Hain
Jo ek shahar Me Rehkar
Bhi Milne Ko Taraste Hain