Love Shayari – Aapka Deedar

Taras gaye apke deedar ko,
Phir bhi dil aap hi ko yaad karta hai,
Humse khusnaseeb to apke ghar ka aaina hai,
Jo har roz apke husn ka deedar karta hai..

तरस गये आपके दीदार को,
फिर भी दिल आप ही को याद करता है,
हुंसे ख़ुसनसीब तो आपके घर का आईना है,
जो हर रोज़ आपके हुस्न का दीदार करता है..

Leave a Reply