Love Shayari – Band kar li aankhen

बंद कर ली आंखें और लब थरथराए,
आ गए करीब फिर तुम क्यूं शरमाए,
दिन में कह लेना जो भी हो गिले शिकवे,
तेरी खामोश जुबां मुझे रातों को समझाए|

Leave a Reply