Love Shayari – Kagaz Ki Kashti

Kagaz ki kashti se paar jane ki na soch,
Chalte hue tufano ko hath mein lane ki na soch,
Bahut bedard hai yeh duniya,
Jahan tak munasib hai,dil bachane ki soch..

काग़ज़ की कश्ती से पार जाने की ना सोच,
चलते हुए तूफ़ानो को हाथ में लाने की ना सोच,
बहुत बेदर्द है यह दुनिया,
जहाँ तक मुनासिब है,दिल बचाने की सोच..

Leave a Reply