Love Shayari – Kasoor Mulaqat Ka

Kasoor Tera Nahi Shayad Us Mulakat Ka Hai,
Par Tere Mere Beech Mein Yeh Fasla Kis Baat Ka Hai,
Tum Kahte The Zindagi Bhar Sath Nibhaynge,
Tum Sirf Kahte The, Dukh Is Baat Ka Hai..

कसूर तेरा नही शायद उस मुलाकात का है,
पर तेरे मेरे बीच में यह फासला किस बात का है,
तुम कहते थे ज़िंदगी भर साथ निभायँगे,
तुम सिर्फ़ कहते थे, दुख इस बात का है..

Leave a Reply