Love Shayari – Khud se karib, bahut karib aa gaya tha wo mere

Khud se karib, bahut karib aa gaya tha wo mere,
Wo zuda ho jayega main ye nahi kabhi samajh paya tha.

Rone lag jata tha meri zara si takleef se,
Meri Zindagi men ek shaksh aisa bhi aaya.

खुद से करीब, बहुत करीब आ गया था वो मेरे,
वो जुदा हो जायेगा मैं ये नहीं कभी समझ पाया था।

रोने लग जाता था मेरी ज़रा सी तकलीफ से,
मेरी ज़िन्दगी में इक शक्श ऐसा भी आया था।

Leave a Reply

%d bloggers like this: