Love Shayari – Mera dil jis par fida hai

Mera dil jis par fida hai
Vohi mujh se juda hai

Main ne kab kaha ke tanha hoon
Mere sath mera khuda hai

Main kyon naa usey pyar karun
Wo mere dil ki nida hai

Us se bichad kar yun lagta hai
Jaise yeh jeevan ik saza hai

Wo jahan bhi rahe khush rahe
Asghr ke dil ki yehi dua hai…

– M. Asghar Mirpuri

मेरा दिल जिस पर फिदा है
वोही मुझ से जुड़ा है

मैं ने कब कहा के तन्हा हूँ
मेरे साथ मेरा खुदा है

मैं क्यों ना उसे प्यार करूँ
वो मेरे दिल की निदा है

उस से बिछड़ कर यूँ लगता है
जैसे यह जीवन इक सज़ा है

वो जहाँ भी रहे खुश रहे
असग़र के दिल की यही दुआ है…

– म. असग़र मीरपुरी

Leave a Reply