Love Shayari – Mohabbat Ka Intezar

सुख गये फूल पर बाहर वोही है,
डोर रहते हो पर प्यार वोही है,
जानते हैं हम मिल नही पा रहे हैं आपसे,
मगर इन आँखों में मोहब्बत का इंतेज़ार वोही है..

Sukh gaye phool par bahar wohi hai,
Door rehte ho par pyar wohi hai,
Jante hain hum mil nahi pa rahe hain aapse,
Magar in aankhon mein mohabbat ka intezar wohi hai..

Leave a Reply