Love Shayari – Yeh Raatein

तेरे बिना कैसे मेरी गुज़रेंगी यह रातें,
तन्हाई का घाम कैसे सहेंगी यह रातें,
बहुत लंबी है यह घड़ियाँ इंतेज़ार की,
करवट बदल-बदल कर कटेंगी यह रातें..

Tere Bina Kaise Meri Guzarengi Yeh Raatein,
Tanhai Ka Gham Kaise Sahengi Yeh Raatein,
Bahut Lambi Hai Yeh Ghadiyan Intezar Ki,
Karwat Badal-Badal Kar Katengi Yeh Raatein..

Leave a Reply