Mis you Sad Shayari, Jeene Ki Khwahish Me Har Roj Marte Hai

जीने की ख्वाहिश में हर रोज़ मरते हैं,
वो आये न आये हम इंतज़ार करते हैं,
झूठा ही सही मेरे यार का वादा,
हम सच मान कर ऐतबार करते हैं।

Jeene Ki Khwahish Me Har Roj Marte Hai,
Wo Aaye Na Aaye Hum Intezaar Karte Hai,
Jhutha Hi Sahi Mere Yaar Ka Vaada Hai,
Hum Sach Maankar Aitbar Karte Hai!

Leave a Reply