Mohabbat Shayari Dard Bhari

Mohabbat Shayari Dard Bhari

तेरी सांस मे क्या नज़म कहू.
अल्फ़ाज़ नहीं मिलते.
कुछ गुलाब ऐसे भी है जो.
हर शाख पर नहीं खिलते.

Teri Sans Me Kya Najam Kahu.
Alfaj Nahi Milte Kuch Gulab Aise.
Bhi Hai Jo Har Shakh Par Nahi Khilte.

मै तेरी जुल्फों और आंखो मे खोया रहता हूँ.
बस इसी तरह जिंदगी जीता रहता हूँ.

Mai Teri Julfo Aur Ankho Me.
Khoya Rahta Hun Bas Isi Tarah.
Jindagi Jita Rahta Hu.

Aa Jaao Kisi Roj Tum To.
Tumhari Ruh Me Utar Jau.
Saath Rahu Mai Tumhare.
Naa Kisi Aur Ko Najar Aau

लत तुम्हारी इस कदर लग गयी है.
की तेरे जिस्म की महक हर वक्त.
मदहोश कर रही है.

Lat Tumahari Is Kadar Lag Gayi.
Hai Ki Tere Jism Ki Mehek Har.
Wakt Madhosh Kar Rahi Hai.

होठो पे हंसी आती है निगहे झुक जाती है.
जब आप सामने आते हो तो.
प्यास लबो की बुझ जाती है.

Hoto Pe Hansi Aati Hai.
Nigahe Jhuk Jati Hai.
Jab Aap Samne Aate Ho To.
Pyas Labo ki Bujh Jati Hai.

आ जाओ किसी रोज तुम तो तुम्हारी.
रूह मे उतर जाऊ साथ रहु मै तुम्हारे.
ना तेरे सिवा कुछ और मै देख पाऊं.

Leave a Reply