Pyar bhari shayari – बेस्ट प्यार भरी शायरी

Looking for the best pyar bhari shayari ? If yes then you are in right place because here we have collected प्यार भरी शायरी. Read these pyar bhari shayari in hindi font and share with friends, relative and social media also. thanks

pyar bhari shayari in hindi font

—#1—

चाँद तारो से रात जगमगाने लगी,

फूलों की खुश्बू से दुनिया महकने लगी,

सो जाइये रात हो गयी है काफ़ी,

निंदिया रानी भी आपको देखने है आने लगी

—#2—

सिर्फ एक बात ही सीखी है हुस्न आँख वालो से
हसीन जिस की जितनी अदा है वो उतना ही बेवफा है

—#3—

बहुत छोटी List है, मेरी ख्वाइशों की,
पहली भी तुम और आखरी भी तुम।

—#4—

ज़ब खामोश आँखों से बात होती है,
ऐसे ही मोहब्बत की शुरुआत होती है,
तुम्हारे ही खयालो में खोये रहते है,
पता नहीं कब दिन कब रात होती है.

—#5—

हमारी गलतियों से कही टूट न जाना,
हमारी शरारत से कही रूठ न जाना,
तुम्हारी चाहत ही हमारी जिंदगी हैं,
इस प्यारे से बंधन को भूल न जाना.

—#6—

बदलना आता नही हमे मौसम की तरह
हर एक रुत में तेरा इंतज़ार करते है
ना तुम समझ सकोगे जिसे कयामत तक
कसम तुम्हारी तुम्हे हम इतना प्यार करते है

—#7—

चले गये है दूर कुछ पल के लिए,
मगर करीब है हर पल के लिए,
कैसे भुलायेंगे आपको एक पल के लिए,
जब हो चुका है प्यार उम्र भर के लिए.

—#8—

तुम्हारे इश्क़ का मौसम,
हर मौसम से सुहाना होता है

—#9—

प्यार हो जाता है करता कौन हैं ?
हम तो कर देंगे प्यार में जान भी कुरबान..
लेकिन पता तो चले कि..
हम से प्यार करता कौन हैं

—#10—

पहले तुझको तमन्ना मेरी थी और मुझ को तमन्ना तेरी थी
अब तुझको तमन्ना किसी और की है जा अब तेरी तमन्ना कौन करे

—#11—

उसकी याद हमें बेचैन बना जाती हैं,
हर जगह हमें उसकी सूरत नज़र आती हैं,
कैसा हाल किया हैं मेरा आपके प्यार ने,
नींद भी आती हैं तो आँखे बुरा मान जाती हैं.

pyar bhari shayari

—#12—

हम वो नहीं की भूल जाया करते हैं,
हम वो नहीं जो निभाया करते हैं,
दूर रहकर मिलना सायद मुस्किल हो,
पर याद करके सांसो में बस जाया करते हैं.

—#13—

क्या ऐसा नहीं हो सकता?
हम प्यार मांगे और तुम,
गले लगा कर कहो,
और कुछ?

—#14—

कागज पे तो अदालत चलती है,
हमने तो तेरी आँखों के फैसले मंजूर किये….

—#15—

वो वक़्त वो लम्हे कुछ अजीब होंगे,
दुनिया में हम खुश नसीब होंगे,
दूर से जब इतना याद करते है आपको,
क्या होगा जब आप हमारे करीब होंगे!

—#16—

एक हसरत थी, कि
कभी वो भी हमें मनायें।
पर ये कमबख्त दिल कभी,
उनसे रूठा ही नहीं।

—#17—

वो वक्त वो लम्हे अजीब होंगे,
दुनियाँ में हम खुश नशीब होंगे,
दूर से जब इतना याद करते हैं आपको,
क्या हाल होगा जब आप हमारे करीब होगे.

—#18—

पत्थर के दिल में भी जगह बना ही लेता है
ये प्यार है अपनी मंजिल को पा ही लेता है

—#19—

आदत बदल दू कैसे तेरे इंतेज़ार की,
ये बात अब नही है मेरे इकतियार की,
देखा भी नही तुझ को फिर भी याद करते है,
बस ऐसी ही खुश्बू है दिल मे तेरे प्यार की।

—#20—

इनकार करते करते इकरार कर बैठे
हम तो एक बेवफा से प्यार कर बैठे

—#21—

है हक़ीक़त कि हमें आपके सिवा,
कुछ भी नज़र नहीं आता,
यह भी हकीकत है आपके सिवा,
किसी और को देखने की चाहत ही नहीं।

—#22—

आपके आने से ज़िन्दगी कितनी ख़ूबसूरत है,
दिल में बसायी है जो वोह आपकी ही सूरत है,
दूर जाना नहीं हमसे कभी भूलकर भी,
हमे हर कदम पर आपकी ज़रूरत है,

—#23—

हालत जो भी हो।
हर हाल में एक दुसरे को,
समझ पाना ही “सच्ची मोहब्बत” है।

—#24—

ज़िंदगी से अपना हर दर्द छुपा लेना,
ख़ुशी न सही गम गले लगा लेना,
कोई अगर कहे मोहब्बत आसान है,
तो उसे मेरा टूटा हुआ दिल दिखा देना।

—#25—

मासूम चहेरा निगाहें फरेबी लबो पे हँसी और में जगह है
मिले यार यहाँ तेरे जैसा आये सनम तो दुस्मानो की ज़रूरत किया है

—#26—

उनकी चाहत में हम कुछ इस तरह बंधे है
की वो साथ भी नहीं और हमअकेले भी नहीं

—#27—

कर दो अपनी नज़र करम हम पर,
कि हम आप पर ऐतबार कर लें,
आशिक़ हैं हम आपके इस क़दर,
कि आशिक़ी की हद को पार कर लें

—#28—

कुछ सोचू तो तेरा ख्याल आ जाता है
कुछ बोलूं तो तेरा नाम आ जाता है,
कब तक छुपाऊ दिल की बात
उसकी हर अदा पर मुझे प्यार आ जाता है|

pyar shayari

—#29—

हमें क्या पता था?
कि इश्क कैसा होता है?
हमें तो बस आप मिले और,
इश्क हो गया।

—#30—

कितना प्यार है तुमसे वो लफ्ज़ो के सहारे कैसे बताऊ !

महसूस कर मेरे एहसास, गवाही कहाँ से लाऊ !!

—#31—

ये कायम कैसा है रह में तेरे जिक्र इश्क को किया हुवा
अभी चंद कांटे चुभे नहीं तेरे सब इरादे बदल गए

—#32—

दिल में छुपा रखी है,मोहब्बत तुम्हारी,
खजाने की तरह।
बताते नहीं किसी को भी,
कि कहीं शोर ना मच जाए।

—#33—

प्यार कहते हैं, आशिकी कहते हैं।
कुछ लोग उसे बंदगी कहते हैं।
मगर जिसके साथ हमें मोहब्बत है,
हम उन्हें अपनी जिंदगी कहते हैं।

—#34—

हमारी बाहों में आने की,
सज़ा भी जान लो ऐ सनम,
ज़िन्दगी भर हमारी आगोश से,
तुम आज़ाद नहीं हो सकोगे

—#35—

इश्क़ तो इतना किया है मैंने उनसे,
कि यह ज़िन्दगी ही कम पड़ जाएगी,
इसकी हद को बयां करने में

—#36—

दिल चाहता था,
उसे नजरअंदाज करना।
मगर आंखें थी कि,
उस पर से हटी ही नहीं।

—#37—

शामिल कर लो मुझे भी ऐसे,
अपनी आदतों में,
कि बातें मेरी ही हों,
तुम्हारी इबादतों में।

—#38—

बातें कम और वादें ज्यादा करते हैं,
कसम से हमारे सनम हमसे बहुत प्यार करते हैं

—#39—

ना जाने क्यों,
आपको खोने का डर लगा रहता है,
जबकि हम यह जानते हैं,
कि आप हमारे हो ही नहीं सकते।

—#40—

कोई तुम्हें ना मांगे,
ये भी दुआ मांगता हूँ मैं।