Pyar tumhen bhi hai kabhi kah do zara

Bebsi meri kabhi samjho jara,
dil mera aakar kabhi padh lo zara,
zakhm tune jo diye kaise sahe,
Pyar tumhen bhi hai kabhi kah do zara.

बेबसी मेरी कभी समझो ज़रा,
दिल मेरा आकर कभी पढ़ लो ज़रा,
ज़ख़्म तूने जो दिए कैसे सहें,
प्यार तुम्हें भी है कभी कह दो ज़रा!

Leave a Reply