Sad Shayari – Aankh ashqon se khoonbaar hui jaati hai

Aankh ashqon se khoonbaar hui jaati hai,
Zindagi baes-e-aazaar hui jaati hai,

Hamara milna bhi ab khawab lagta hai,
Hamaare darmiyaan judai deewar hui jaati hai,

Na jaane vasal ki shab kab aayegi,
Ab to saans bhi dushwaar hui jaati hai,

Main isey kaise zindagi keh doon,
Jo basar tere bagair hui jaati hai…

– M. Asghar Mirpuri

आँख अश्क़ों से खूंबार हुई जाती है,
ज़िंदगी बाएस-ए-आज़ार हुई जाती है,

हमारा मिलना भी अब खवाब लगता है,
हमारे दरमियाँ जुदाई दीवार हुई जाती है,

ना जाने वसल की शब कब आएगी,
अब तो साँस भी दुशवार हुई जाती है,

मैं इसे कैसे ज़िंदगी कह दूं,
जो बसर तेरे बगैर हुई जाती है…

– म. असग़र मीरपुरी

Leave a Reply