Sad Shayari – Chale bhi aao dost ke eid aane waali hai

Chale bhi aao dost ke eid aane waali hai,
tum na aaye to asghar ki jaan jaane waali hai,

Tere milne ki aas pe jiye ja raha hoon yara,
dekhta hoon kismat kya ruang dikhane waali hai,

Yeh haseen mausam kahi beet na jaaye,
chale bhi aao ke yeh rutt badal jaane waali hai,

Muqaddar ne hamesha rulaya kismat ne sada sataya,
na jaane ab taqdeer kya aur sitam dhaane waali hai,

Tera mera pyar sada ke liye amar rahega jaanam,
baaki iss qayenaat ki har cheez mit jane waali hai…

– M.Asghar Mirpuri

चले भी आओ दोस्त के ईद आने वाली है,
तुम ना आए तो असग़र की जान जाने वाली है,

तेरे मिलने की आस पे जिए जा रहा हूँ यारा,
देखता हूँ किस्मत क्या रंग दिखाने वाली है,

यह हसीन मौसम कही बीत ना जाए,
चले भी आओ के यह रुत बदल जाने वाली है,

मुक़द्दर ने हमेशा रुलाया किस्मत ने सदा सताया,
ना जाने अब तक़दीर क्या और सितम ढाने वाली है,

तेरा मेरा प्यार सदा के लिए अमर रहेगा जानम,
बाकी इस क़ायेनात की हर चीज़ मिट जाने वाली है…

– म. असग़र मीरपुरी

Leave a Reply

%d bloggers like this: