Sad Shayari – Mujh se kinara kar ke, kuch pal toh us ne

Mujh se kinara kar ke, kuch pal toh us ne, apni ankhon ko dhoya hoga,
Baith ke kisi kone me sar-e-shaam kuch aansu toh wo roya hoga,
Peshemaan toh wo bahut hua hoga apni he berukhi se,
Khwaab me na sahi, neend se pehle meri yaad ke baad hi wo soya hoga,

Ahbab ke qarb me maine yahi aik baat seekhi hai,
Us ne bhi kisi tareeqi ke kone main apne aansu ko peeroya hoga,
Mera dil nhi dukha par main hazaar aansu roya,
Meri manind na sahi, par fursat me qaraar toh wo khoya hoga,

Mere dard-e-dil ko koi samjtaa, toh phir kisi ko gila na rehta harf.e.muhabbat se,
Use kya maloom, maine kis kis samandar main khud ko dooboya hoga,
Main apne fan-e-naqsh-e-nigari ke charche kyun karon, kyun sunaau main apne afsaany sb ko,
Mujhe maloom hai wo kisi aur ka ho ke bhi mere he khayalon main khoya hoga.

– Vicky Khokhar

 
मुझ से किनारा कर के, कुछ पल तो उस ने, अपनी आँखों को धोया होगा,
बैठ के किसी कोने मे सर-ए-शाम कुछ आँसू तो वो रोया होगा,
पेशेमान तो वो बहुत हुआ होगा अपनी ही बेरूख़ी से,
ख्वाब मे ना सही, नींद से पहले मेरी याद के बाद ही वो सोया होगा,
 
आहबाब के क़र्ब मे मैने यही एक बात सीखी है,
उस ने भी किसी तरीक़ी के कोने मैं अपने आँसू को पीरोया होगा,
मेरा दिल न्ही दुखा पर मैं हज़ार आँसू रोया,
मेरी मानिंद ना सही, पर फ़ुर्सत मे क़रार तो वो खोया होगा,
 
मेरे दर्द-ए-दिल को कोई संजता, तो फिर किसी को गिला ना रहता हरफ़.ए.मुहब्बत से,
उसे क्या मालूम, मैने किस किस समंदर मैं खुद को डूबोया होगा,
मैं अपने फन-ए-नक़्श-ए-निगारी के चर्चे क्यूँ करूँ, क्यूँ सुनाउ मैं अपने अफ़साने सब को,
मुझे मालूम है वो किसी और का हो के भी मेरे ही ख़यालों मैं खोया होगा.
 
– विकी खोखर

Leave a Reply