Sad Shayari – Sazish Zamane Ki

Ek ajeeb dastan hain, mere afsane ki,
Maine pal pal ki koshish, uske pass jaane ki,
Naseeb the meri ya, sazish zamane ki,
Door hui mujhse utni, jitni umeed thi kareeb aane ki..

एक अजीब दास्तान हैं, मेरे अफ़साने की,
मैने पल पल की कोशिश, उसके पास जाने की,
नसीब थे मेरी या, साज़िश ज़माने की,
डोर हुई मुझसे उतनी, जितनी उमीद थी करीब आने की..

Leave a Reply