Sad Shayari – Zulfon ko jab wo sanwaare nikle

Zulfon ko jab wo sanwaare nikle,
Din me aasman pe sitaare nikle,

Dil ke phool khilne hi wale they,
Raqeeb haton me lekar aarey nikle,

Un ki yaadon ko apne sath lekar,
Ghar se hum hijhr ke maare nikle,

Mohabbat to tum ne bhi ki thi jaanam,
Magar ishq mein saare jurm humaare nikle,

Unki gali mein jane ka koi bahana na tha,
Aaj asghar bhi hathon mein lekar gubaare nikle…

– M.Asghar Mirpuri

ज़ुल्फ़ों को जब वो संवारे निकले,
दिन में आसमान पे सितारे निकले,

दिल के फूल खिलने ही वाले थे,
रक़ीब हाथों मे लेकर आरे निकले,

उन की यादों को अपने साथ लेकर,
घर से हम हीझर के मारे निकले,

मोहब्बत तो तुम ने भी की थी जानम,
मगर इश्क़ में सारे जुर्म हमारे निकले,

उनकी गली में जाने का कोई बहाना ना था,
आज असग़र भी हाथों में लेकर गुबारे निकले…

– म. असग़र मीरपुरी

Leave a Reply