Sahir Ludhianvi – Ab aayen ya na ayen idhar puuchte chalo…

Ab aayen ya na ayen idhar puuchte chalo,
Kyaa chahti hai un ki nazar puuchte chalo,

Ham se agar hai tark-e-talluq to kya hua,
Yaaro koi to un ki khabar puuchte chalo,

Jo khud ko keh rahe hain ke manzil-shanaas hain,
Un ko bhi kya khabar hai magar puuchte chalo,

Kis manzil-e-muraad ki janib ravaan hain hum,
Ae raah-e-ravaan e khaak–bassar puuchte chalo…

अब आएं या ना आएं इधर पूछते चलो,
क्या चाहती है उन की नज़र पूछते चलो,

हम से अगर है तर्क-ए-तल्लुग तो क्या हुआ,
यारो कोई तो उन की खबर पूछते चलो,

जो खुद को कह रहे हैं के मंज़िल-शनास हैं,
उन को भी क्या खबर है मगर पूछते चलो,

किस मंज़िल-ए-मुराद की जानिब रवाँ हैं हम,
ऐ राह-ए-रवाँ ए ख़ाक–बसर पूछते चलो…

Leave a Reply