Sahir Ludhianvi – Bujhaa diye hain khud

Bujhaa diye hain khud apne hathon mohabton ke diye jala ke,
Meri wafaa ne ujaad di hain umeed ki bastiyaan basaa ke,

Tujhe bhulaa denge apne dil se yeh faisla to kiya hai lekin,
Na dil ko maluum hai na hum ko jiyenge kaise tujhe bhula ke,

Kabhi milenge jo raaste mei to muunh phiraa kr palatt parrenge,
Kahin sunen ge jo naam tera to chup rahenge nazar jhuka ke,

Na sochne pr bhi sochti huun ke zindgaani mein kya rahega,
Teri tamanna ko dafn kr ke tere khayaalon se duur jaa ke…

बुझा दिए हैं खुद अपने हाथों मोहबतों के दिए जला के,
मेरी वफ़ा ने उजाड़ दी हैं उम्मीद की बस्तियां बसा के,

तुझे भुला देंगे अपने दिल से ये फैसला तो किया है लेकिन,
ना दिल को मालूम है ना हम को जियेंगे कैसे तुझे भुला के,

कभी मिलेंगे जो रास्ते में तो मूँह फिरा कर पलट पड़ेंगे,
कहीं सुनेंगे जो नाम तेरा तो चुप रहेंगे नज़र झुक के,

ना सोचने पर भी सोचती हूँ के ज़िंदगानी में क्या रहेगा,
तेरी तमन्ना को दफन कर के तेरे ख्यालों से दूर जा के…

Leave a Reply