Sahir Ludhianvi – Iss taraf se guzre they

Iss taraf se guzre they qaafile bahaaron ke,
Aaj tak sulagte hain zakhm raahguzaaron ke,

Khalvaton ke shaidaayi khalvaton mei khulte hain,
Hum se puuch kr dekho raaz parda-daaron ke,

Gesu.on ki chaaon mei dil-nawaz chehre hain,
Ya haseen dhundlakon mei phool hain baharon ke,

Pehle hanss ke milte hain phir nazar churaate hain,
Aashnaa-sift hain log ajnabi dayaaron ke,

Tum ne sirf chaaha hai hum ne chhu ke dekhe hain,
Pairahan ghataaon ke jism barq-paaron ke,

Shughl-e-mai-parasti go jashn-e-na-muraadi tha,
Yuun bhi katt gaye kuch din tere sogvaaron ke…

इस तरफ से गुज़रे थे क़ाफ़िले बहारों के,
आज तक सुलगते हैं ज़ख्म राहगुज़ारों के,

खल्वतों के शैदाई खल्वतों में खुलते हैं,
हम से पूछ कर देखो राज़ परदा-दरों के,

गेसुओं की छाओं में दिल-नवाज़ चेहरे हैं,
या हसीं धुंधलकों में फूल हैं बहारों के,

पहले हंस के मिलते हैं फिर नज़र चुराते हैं,
आशना-सिफ़्त हैं लोग अजनबी दायरों के,

तुम ने सिर्फ चाहा है हम ने छू के देखे हैं,
पैरहन घटाओं के जिस्म बर्क़-पैरों के,

सहगल-ए-मै-परस्ती गो जश्न-ए-ना-मुरादी था,
यूं भी कट गए कुछ दिन तेरे सोगवारों के…

Leave a Reply