Sahir Ludhianvi – Kabhi kabhi mere dil main khayaal ata hai…

Kabhi kabhi mere dil main khayaal ata hai,
Ke zindagi teri zulfon ki narm chaaon main,

Guzarne paati to shadaab ho bhi sakti thi,
Yeh teergi jo meri zeest ka muaqaddar hai,

Teri nazar ki shuaaon main kho bhi sakti thi,
Ajab na tha ke main begana-e-alam ho kar,

Tere jamaal ki raaa-nayion main kho rehta,
Tera gudaaz badan teri neem-baaz ankhen,

Inhin haseen fasaanon main mehvv ho rehta,
Pukaartin mujhe jab talkhiyaan zamane ki,

Tere labon se halaavat ke ghoont pe leta,
Hayaat cheekhti phirti barhana sar aur main,

Ghaneri zulfon ke saaye main chhup ke jee leta,
Magar yeh ho na saka aur ab yeh aalam hai,

Ke tu nahin tera gham teri justaju bhi nahin,
Guzar rahi hai kuch is tarah zindagi jaise,

Isay kisi ke sahaaray ke aarzuu bhi nahin,
Zamane bhar ke dukhon ko laga chuka hoon galay,

Guzar raha hoon kuch anjani rah-guzaaron se,
Muheeb saaye meri samt barrhte aatey hain,

Hayaat o maut ke pur-haul kharzaaron se,
Na koi jaada-e-manzil na raushni ka suraagh,

Bhatak rahi hai khalaaon main zindagi meri,
Inhin khayaalon main reh jaaon ga kabhi kho kar,

Main janta hoon meri ham-nafas magar yunhi,
Kabhi kabhi mere dil main khayaal ata hai..

कभी कभी मेरे दिल मैं ख़याल आता है,
के ज़िन्दगी तेरी ज़ुल्फ़ों की नरम छाओं में,

गुजरने पाती तो शादाब हो भी सकती थी,
यह तीरगी जो मेरी ज़ीस्त का मुकाददर है,

तेरी नज़र की शुआओं में खो भी सकती थी,
अजब ना था के में बेगाना-ए-आलम हो कर,

तेरे जमाल की रा-नायिओं में खो रहता,
तेरा गुदाज़ बदन तेरी नीम-बाज़ ऑंखें,

इन्हीं हसीं फसानों में महव्व हो रहता,
पुकारतीं मुझे जब तल्खियां ज़माने की,

तेरे लबों से हलावत के घूँट पी लेता,
हयात चीखती फिरती बढ़ाना सर और में,

घनेरी ज़ुल्फ़ों के साये में छुप के जी लेता,
मगर यह हो ना सका और अब यह आलम है,

के तू नहीं तेरा ग़म तेरी जुस्तजू भी नहीं,
गुज़र रही है कुछ इस तरह ज़िन्दगी जैसे,

इसे किसी के सहारे के आरज़ू भी नहीं,
ज़माने भर के दुखों को लगा चूका हूँ गले,

गुज़र रहा हूँ कुछ अंजनी रह-गुज़ारों से,
मुहीब साये मेरी समत बरर्हते आते हैं,

हयात ओ मौत के पुर-हौल खर्ज़रों से ,
ना कोई ज्यादा-ए-मंज़िल ना रौशनी का सुराग,

भटक रही है ख़लाओं में ज़िन्दगी मेरी,
इन्हीं ख्यालों में रह जाऊं गा कभी खो कर,

मैं जनता हूँ मेरी हम-नफ़स मगर यूँही,
कभी कभी मेरे दिल मैं ख़याल आता है…

Leave a Reply