Sahir Ludhianvi – Mohabbat tark ki mene

Mohabbat tark ki mene, garebaan sii liya mene,
Zamane ab to khush ho zeher yeh bhi pii liya mene,

Abhi zinda hoon magar sochta rehta hoon khalvat me,
Ke ab tak kis tamanna ke sahare jii liya mene,

Unhe apnaa nahin sakta magar itna bhi kya kamm hai,
Ke kuch muddat haseen khawbon mein kho ker jii liya mene,

Bass ab to daaman-e-dil chorr do bekaar umeedo,
Bahut dukh sehh liye mene, bohat din jii liya mene…

मोहब्बत तर्क की मेने, गरेबाँ सी लिया मेने,
ज़माने अब तो खुश हो, ज़हर ये भी पी लिया मेने,

अभी ज़िंदा हूँ मगर सोचता रहता हूँ खल्वत में,
के अब तक किस तमन्ना के सहारे जी लिया मेने,

उन्हें अपना नहीं सकता मगर इतना भी क्या कम् है,
के कुछ मुद्दत हसीं खाव्बों में खो कर जी लिया मेने,

बास अब तो दामन-ए-दिल छोड़ दो बेकार उम्मीदों,
बहुत दुःख सह लिए मेने, बहुत दिन जी लिया मेने…

Leave a Reply