Sahir Ludhianvi – Tang aa chuke hain kashmakash-e-zindagi se hum…

Tang aa chuke hain kashmakash-e-zindagi se hum,
Thukraa na dain jahaan ko kahin be-dili se hum,

Mayuusi-e-maal-e-mohabbat na puuchiye,
Apnon se paish aaye hain begaaangi se hum,

Lo aaj hum ne torr diya rishta-e-umeed,
Lo ab kabhi gila na karenge kisi se hum,

Ubhren ge ek baar abhi dil ke valvale,
Go dabb gaye hain baar-e-gham-e-zindagi se hum,

Gar zindagi mein mil gaye phir ittifaaq se,
Puuchen ge apnaa haal teri bebassi se hum,

Allah re faraib-e-mashiyat ki aaj tak,
Duniyaa ke zulm sehte rahe khamoshi se hum..

तंग आ चुके हैं कश्मकश-ए-ज़िन्दगी से हम,
ठुकरा ना दें जहां को कहीं बे-दिली से हम,

मायूसी-ए-माल-ए-मोहब्बत ना पूछिये,
अपनों से पेश आये हैं बेगानगी से हम,

लो आज हम ने तोड़ दिया रिश्ता-ए-उम्मीद,
लो अब कभी गिला ना करेंगे किसी से हम,

उभरेंगे एक बार अभी दिल के वलवले,
गो दबाब गए हैं बार-ए-ग़म-ए-ज़िन्दगी से हम,

गर ज़िन्दगी में मिल गए फिर इत्तिफ़ाक़ से,
पूछेंगे अपना हाल तेरी बेबसी से हम,

अल्लाह रे फरेब-ए-मशीयत की आज तक,
दुनिया के ज़ुल्म सहते रहे ख़ामोशी से हम..

Leave a Reply