Umar bhar teri mohabbat meri khidmat rahi

तेरी खिदमत के क़ाबिल

उम्र भर तेरी मोहब्बत मेरी खिदमत रही
मैं तेरी खिदमत के क़ाबिल जब हुआ तो तू चल बसी

हिंदी और उर्दू शायरी – अल्लम इक़बाल शायरी – तेरी खिदमत के क़ाबिल

Teri Khidmat Ke Qabil

Umer Bhar Teri Mohabbat Meri Khidmat Rahi
Main Teri Khidmat Ke Qabil Jab Huwa Tu Chal Basi

Hindi and urdu shayari – Allama Iqbal ki (dedicated to maa) shayari – Teri Khidmat Ke Qabil

ऐ बेखबर

सौदागरी नहीं , यह इबादत खुदा की है
ऐ बेखबर ! जज़ा की तमन्ना भी छोड़ दे

हिंदी और उर्दू शायरी – अल्लम इक़बाल शायरी – ऐ बे -खबर

Ae Be-Khabar

Sodagari Nahin, Ye Ibadat Khuda Ki Hai
Ae Be-Khabar! Jaza Ki Tamanna Bhi Chor De

Hindi and urdu shayari – Allama Iqbal ki shayari – Ae Be-Khaba

इश्क़ क़ातिल से

इश्क़ क़ातिल से भी मक़तूल से हमदर्दी भी
यह बता किस से मुहब्बत की जज़ा मांगेगा
सजदा ख़ालिक़ को भी इबलीस से याराना भी
हसर में किस से अक़ीदत का सिला मांगेगा

हिंदी और उर्दू शायरी – अल्लम इक़बाल शायरी – इश्क़ क़ातिल से भी मक़तूल से हमदर्दी भी

Ishq Qatil Se

Ishq Qatil Se Bhi Maqtool Se Hamdardi Bhi
Ye Bata Kis Se Muhabbat Ki Jaza Maangay Ga
Sajda Khaliq Ko Bhi Iblees Se Yaarana Bhi
Hashr Mein Kis Se Aqeedat Ka Sila Maangay Ga

Hindi and urdu shayari – Allama Iqbal ki shayari – Ishq Qatil Se Bhi Maqtool Se Hamdardi Bhi

इक़रार -ऐ-मुहब्बत

इक़रार -ऐ-मुहब्बत ऐहदे-ऐ.वफ़ा सब झूठी सच्ची बातें हैं “इक़बाल”
हर शख्स खुदी की मस्ती में बस अपने खातिर जीता है

हिंदी और उर्दू शायरी – अल्लम इक़बाल शायरी – इक़रार -ऐ-मुहब्बत ऐहदे-ऐ.वफ़ा

Iqrar-ae-muhabbat

iqrar-ae-muhabbat Ehd-ae-wafa sub jhuti sachi batain hain “Iqbal”
Har shaks khudi ke masti main bas apne khatir jeta hai

Hindi and urdu shayari – Allama Iqbal ki shayari – iqrar-ae-muhabbat Ehd-ae-wafa
Read More

हर एक सांस पर शक है के आखरी होगी – अल्लम इक़बाल शायरी

बड़ा बे-अदब हूँ

तेरे इश्क़ की इन्तहा चाहता हूँ
मेरी सादगी देख क्या चाहता हूँ
भरी बज़्म में राज़ की बात कह दी
बड़ा बे-अदब हूँ , सज़ा चाहता हूँ

Bada be-Adab Hoon

Tairay ishq kii intehaa chahataa hoon
mairi saadagii daikh kyaa chahataa hoon
bharii bazm mein raaz ki baat kah di
bada bai-adab hoon, sazaa chahataa hoon….


इक़बाल दुनिया तुझ से नाखुश है

बड़े इसरार पोशीदा हैं इस तनहा पसंदी में .
यह मत समझो के दीवाने जहनदीदा नहीं होते .
ताजुब क्या अगर इक़बाल दुनिया तुझ से नाखुश है
बहुत से लोग दुनिया में पसंददीदा नहीं होते .

IQBAL dunia tujh se nakhush hai

Barray israr poshida hain is tanha pasnadi mein.
Ye mat samjho k dewanay jahan’deeda nahi hotay.
Tajub kya agar IQBAL duniya tujh se nakhush hai
Bohat se log duniya mein pasanddeeda nahi hotay….


दर्द में इज़ाफ़ा

और भी कर देता है दर्द में इज़ाफ़ा
तेरे होते हुए गैरों का दिलासा देना

Dard mein Izaafa

Or bhi kar daita hai Dard mein Izaafa
Tere hote huwe Gairoon ka Dilasa daina….


ज़ख्मो से भर दिया सीना

किसी की याद ने ज़ख्मो से भर दिया सीना
हर एक सांस पर शक है के आखरी होगी

Zakhmoon se bhar Diya Seena

Kisi Ki Yaad ne Zakhmoon se bhar Diya Seena
Har aik Saans Par Shak hai k Aakhri Hogi…

Read More

शब-ऐ-इंतज़ार – Mirza Galib,Ahmed Faraz,Mohsin Naqvi,Raaz Sarwer Shayari

मेरी वेहशत

इश्क़ मुझको नहीं वेहशत ही सही
मेरी वेहशत तेरी शोहरत ही सही
कटा कीजिए न तालुक हम से
कुछ नहीं है तो अदावत ही सही

Meri Wehshat

Ishq mujhko nahin wehshat hi sahi
Meri wehshat teri shohrat hi sahi
kta kijiay na taaluq hum se
kuch nahin hai to adaawat he sahi…


शब-ऐ-इंतज़ार

वो गया तो साथ ही ले गया सभी रंग उतार के शहर के
कोई शख्स था मेरे शहर में किसी दूर पार के शहर का
चलो कोई दिल तो उदास था , चलो कोई आँख तो नम थी
चलो कोई दर तो खुला रहा शब-ऐ-इंतज़ार के शहर का

Shab-ae-Intezaar

Wo Gaya To Saath Hi Le Gaya Sabhi Rang Utaar Ke Shehar Ke
Koi Shakhs Tha Mere Shehar Mein Kisi Door Paar Ke Shehar Ka
Chalo Koi Dil to Udaas Tha, Chalo Koi Aankh To Num thi
Chalo Koi Dar To Khula Raha Shab-ae-Intezaar Ke Shehar Ka…


तुम्हारे ख्याल

बहुत दिनों से मेरे ज़ेहन के दरीचे मैं
ठहर गया है तुम्हारे ख्याल का मौसम
यूं भी यकीन हो बहारें उजड़ भी सकती हैं
तो आ के देख मेरे ज़वाल का मौसम

Tumhare Khyal

Bahut Dino Se Mere Zehan Ke Darichoon Main
Thehar Gaya Hai Tumhare Khyal Ka Mausam
Jo bhi Yaqeen hio Baharain Ujar Bhi Sakti Hain
To Aa Ke Deakh Mere Zawaal Ka Mausam…


खुदा बचाए

हमारे हाल पर वो मुस्करा तो देते हैं
चलो यही सही , कुछ तो ख़याल करते हैं
खुदा बचाए तुझे इन वफ़ा के मारों से
जवाब जिस का न हो वो सवाल करते हैं

Khudaa bachaaye

hamaare Haal par wo muskura to dete hain
chalo yahi sahi, kuChh to Khayaal karte hain
Khudaa bachaaye tujhe in wafaa ke maaron se
jawab jis ka na ho wo savaal karte hain……

Read More

अगर न बदलू तेरी खातिर हर एक चीज़ तो कहना – आलम इक़बाल की शायरी

अगर न बदलू तेरी खातिर हर एक चीज़ तो कहना

मुहब्बत की तमना है तो फिर वो वस्फ पैदा कर
जहां से इश्क़ चलता है वहां तक नाम पैदा कर

अगर सचा है इश्क़ में तू ऐ बानी आदम
निग़ाह -ऐ -इश्क़ पैदा कर

मैं तुझ को तुझसे ज़्यादा चाहूँगा
मगर शर्त ये है के अपने अंदर जुस्तजू तो पैदा कर

अगर न बदलू तेरी खातिर हर एक चीज़ तो कहना
तू अपने आप में पहले अंदाज़ -ऐ -वफ़ा तो पैदा कर

Agar Na Badlu Teri Khatir Har Ek Cheez To Kehna

Muhabbt Ki Tamna Hai To Phir Wo Vasf Peda Kar
Jahan Se Ishq Chalta Hai Wahan Tak Naaam Peda Kar

Agar Sacha Hai Ishq Mein Tu Ae Bani ADAM
Nighah-E-Ishq Peda Kar

Main Tujh Ko Tujh Se Ziada Chahunga
Magar Shart Yeh Hai Ki Apne Andar Justju To Pedaa Kar

Agar Na Badlu Teri Khatir Har Ek Cheez To Kehna
Tu Apne Aap Mein Pehle ANDAAZ-AE-Wafa To Paida Kar

Read More

Best Ever Shayari Colletion of Munir Niazi – मुनीर नियाज़ी शायरी मजमूआ

उसके जाने का रंज

मेरी सदा हवा में बहुत दूर तक गयी
पर मैं बुला रहा था जिसे , वो बेखबर रहा
उसकी आखिरी नज़र में अजब दर्द था “मुनीर”
उसके जाने का रंज मुझे उम्र भर रहा

Uske Jaane Ka Ranj

Meri Sada Hawa Mein Bohat Door Tak Gayi
Par Main Bula Raha Tha Jise, wo Bekhabar Raha
Uski Aakhiri Nazar Mein Ajab Dard Tha “Munir”
Uske Jaane Ka Ranj Mujhe Umar Bhar Raha


हम जवाब क्या देते

किसी को अपने अमल का हिसाब क्या देते
सवाल सारे ग़लत थे, हम जवाब क्या देते
हवा की तरह मुसाफिर थे, दिलबरों के दिल
उन्हें बस एक ही घर का अजाब क्या देते

Hum Jawab Kya Dete

Kisi Ko Apnay Amal Ka Hisaab Kya Dete
Sawaal Saare Ghalat The, Hum Jawab Kya Dete
Hawa Ki Tarha Musafir The, Dilbaron Ke Dil
Unhain Bus Ak Hi Ghar Ka Azaab Kya Dete


ज़ुल्म मेरे नाम

शहर में वो मोअतबर मेरी गवाही से हुआ
फिर मुझे इस शहर में नमोअतबर उसी ने किया
शहर को बर्बाद करके रख दिया उस ने “मुनीर”
शहर पर यह ज़ुल्म मेरे नाम पर उसने किया

Zulam Mere Naam

Shehar mein wo moatbir meri gawahi se huwa
Phir mujhe is shehar mein namoatbir usi ne kiya
Shehar ko barbaad kar kay rakh diya us ne “Munir”
Shehar par yeh zulam mere naam per usi ne kiya


ऐसे भी हम नहीं

ग़म से लिपट जाएंगे ऐसे भी हम नहीं
दुनिया से कट ही जाएंगे ऐसे भी हम नही
इतने सवाल दिल में हैं और वो खामोश देर
इस देर से हट जाएंगे ऐसे भी हम नहीं

Aise Bhi Hum Nahi

Gham say lipat jaingay Aise bhi hum nahi
Duniya say kat hi jaingay Aise b hum nahi
Itnay sawal dil mein hain or wo khamosh der
Is der say hat jaingay Aise bhi hum nahi


गम की बारिश

गम की बारिश ने भी तेरे नक़्श को धोया नहीं
तूने मुझ को खो दिया मैंने तुझे खोया नहीं
जानता हूँ एक ऐसे शख्स को मैं भी “मुनीर”
गम से पत्थर हो गया लेकिन कभी रोया नहीं

Gam Ki Barish

Gam ki barish ne bhi tere naqsh ko dhoya nahin
Tune mujh ko khoo diya mainne tujhe khoya nahin
Janata hoon Ek aise shaKhs ko main bhi “Munir”
Gam se patthar ho gaya lekin kabhi roya nahin


शहर-ऐ-संगदिल

इस शहर-ऐ-संगदिल को जला देना चाहिए
फिर इस की ख़ाक को भी उड़ा देना …

Read More

यारों की इनायत – ख्वाजा मीर दर्द की शायरी

यारों की इनायत

न कोई इलज़ाम , न कोई तंज़ , न कोई रुस्वाई मीर ,
दिन बहुत हो गए यारों ने कोई इनायत नहीं की

Yaron ki Inayat

Na koi ilzaam, Na koi tanz, Na koi ruswai Mir,
din bohat hogaye yaron ne koi inayat nahi ki..


ज़ोर आशिक़ मिज़ाज है कोई

जब मैंने आकर इधर उधर देखा
तू ही आया नज़र जिधर देखा

जान से हो गया बदन खाली
जिस तरफ तूने आँख भर के देखा

उन लबों ने की न मसीहाई
हम ने सौ -सौ तरह से मर देखा

ज़ोर आशिक़ मिज़ाज है कोई
“दर्द ” को किसे -ऐ -मुख़्तसर देखा

ख्वाजा मीर दर्द

Zor Ashiq Mizaj Hai koi

Jag main aakar idhar udhar dekha
tu hi aya nazar jidhar dekha

Jaan se ho gaye badan khali
jis taraf tune ankh bhar ke dekha

Un labon ne ki na masihai
ham ne sau -sau tarah se mar dekha

Zor ashiq mizaj hai koi
Dard” ko qisa-e-mukhtasar dekha..…

Read More

यह इश्क़ नहीं आसां – Jigar Moradabadi – Urdu Shayar

यूं ही दिल के तड़पने का कुछ तो है सबब आखिर
या दर्द ने करवट ली है या तुमने इधर देखा
माथे पे पसीना क्यों आँखों में नमी सी क्यों
कुछ खैर तो है , तुमने जो हाल -ऐ -जिगर देखा

                                                           Jigar Moradabadi – Urdu Shayar

यह इश्क़ नहीं आसां

क्या हुस्न ने समझा है क्या इश्क़ ने जाना है
हम ख़ाक-नाशिनो की ठोकर में ज़माना है

वो हुस्न -ओ -जमाल उनका यह इश्क़ -ओ -शबाब अपना
जीने की तम्मना है मरने का ज़माना है

या वो थे खफा हम से या हम थे खफा उनसे
कल उनका ज़माना था आज अपना ज़माना है

यह इश्क़ नहीं आसां इतना तो समझ लीजिये
एक आग का दरिया है और डूब के जाना है

आँसू तो बहुत से हैं आँखों में “जिगर” लेकिन
बन जाए सो मोती है बह जाए सो पानी है

Yeh Ishq Nahin Aasaan

kya husn ne samjha hai kya ishq ne jaana hai
ham Khaak-nashinoo ki Thokar mein zamana hai

wo husn-o-jamaal unkaa yeh ishq-o-shabaab apana
jeene ki tamanaa hai marne ka zamana hai

yaa wo the Khafaa hum se yaa hum the Khafaa unse
kal unkaa zamana tha aaj apana zamana hai

yeh ishq nahin aasaan itanaa to samajh lijiye
Ek aag kaa dariyaa hai aur Doob ke jaanaa hai

aansuu to bahut se hain aankhon mein “Jigar” lekin
ban jaaye so moti hai beh jaaye so pani hai..


तुझ को खुदा का वास्ता

इश्क़ फना का नाम है इश्क़ में ज़िन्दगी न देख
जलवा-ऐ-आफताब बंजारे में रोशनी न देख

शौक़ को राहनुमा बना , जो हो चुका कभी न देख
आग दबी हुई निकाल , आग बुझी हुई न देख

तुझ को खुदा का वास्ता तू मेरी ज़िन्दगी न देख
जिस की सहर भी शाम हो उस की सियाह की छबि न देख

Tujh ko Khudaa kaa Baastaa

ishq fanaa kaa naam hai ishq mein zindagi na dekh
jalwa-ae-aaftaab banzarre mein roshani na dekh

shauq ko rahnumaa banaa jo ho chukaa kabhi na dekh
aag dabi huii nikaal aag bujhi hui na dekh

tujh ko Khudaa kaa Baastaa tu meri zindagi na dekh
jis ki sahar bhi shaam ho us ki siyaah shavvi na dekh..


इश्क़ में लाजवाब

इश्क़ में लाजवाब हैं हम लोग
माहताब आफताब हैं हम लोग

गरचे अहल -ऐ -शराब हैं हम लोग
यह न समझो खराब हैं हम लोग

शाम से आ गए जो पीनी पर
सुबह तक आफताब हैं हम लोग…

Read More

ज़िन्दगी की किताब उर्दू शायरी – मुनीर नियाज़ी

ज़िन्दगी की किताब

यह जो ज़िन्दगी की किताब है
यह किताब भी क्या किताब है
कहीं एक हसीं सा ख्वाब है
कहीं जान लेवा अज़ाब है

मुनीर नियाज़ी – ज़िन्दगी की किताब उर्दू शायरी – यह जो ज़िन्दगी की किताब है

Zindgi ki Kitab

Yeh jo Zindgi ki kitab hai
Yeh kitab bhi kya kitab hai
Kahin ek haseen sa khwab hai
Kahin jaan levaa azaab hai

Munir Niazi – Zindgi ki kitab Urdu Shayari – Yeh jo Zindgi ki kitab hai

रहमतों की हैं बारिशें

कभी खो दिया कभी पा लिया
कभी रो लिया कभी गा लिया
कहीं रहमतों की हैं बारिशें
कहीं तिशनगी बेहिसाब है

मुनीर नियाज़ी – ज़िन्दगी की किताब उर्दू शायरी – कभी खो दिया कभी पा लिया


Rehmaton ki Hain Barishain

Kbhi kho diya kbhi pa liya
Kabhi ro liya kbhi gaa liya
Kahin rehmaton ki hain barishain
Kahin tishnagi behisab hai

Munir Niazi – Zindgi ki kitab Urdu Shayari – Kbhi kho diya kbhi pa liya

वो क़यामतें जो गुज़र गयीं

कोई हद नहीं है कमाल की
कोई हद नहीं है जमाल की

वो ही क़ुर्ब-ओ-दौर की मंज़िलें
वो ही शाम खवाब-ओ-ख्याल की

न मुझे ही उसका पता कोई
न उसे खबर मेरे हाल की

यह जवाब मेरी सदा का है
के सदा है उसके सवाल की

वो क़यामतें जो गुज़र गयीं
थी अमानतें कई साल की

यह नमाज़-ऐ-असर का वक़्त है
यह घडी है दिन के ज्वाल की

है “मुनीर ” सुबह -ऐ -सफर नया
गयी बात शब् के मलाल की

मुनीर नियाज़ी – ज़िन्दगी की किताब उर्दू शायरी – वो क़यामतें जो गुज़र गयीं

Wo Qayamatein Jo Guzar Gayein

Koi had nahi hai kamaal ki
Koi had nahi hai jamaal ki

Wo hi qurb-O-daur ki manzilein
Wo hi sham khawab-O-khyaal ki

Na mujhe hi uska pata koi
Na use khabar mere haal ki

Yeh jawaab meri sada ka hai
Ke sada hai uske sawaal ki

Wo Qayamatein Jo Guzar Gayein
ThiN amanaten kayee saal ki

Yeh namaaz-AE-asar ka waqt hai
Yeh ghadi hai din ke zawaal ki

Hai “MONIR” subh-AE-safar naya
Gayee baat shab ke malaal ki

Munir Niazi – Zindgi ki kitab Urdu Shayari – Wo Qayamatein Jo Guzar Gayein

दिल की खलिश

ज़िंदा रहे तो क्या है जो मर जाएं हम तो क्या
दुनिया से ख़ामोशी से गुज़र जाएं हम तो क्या

हस्ती ही अपनी क्या है ज़माने के सामने
एक ख्वाब है जहां में बिखर जाएं हम तो क्या…

Read More