यह उदास शाम और तेरी जुदाई – यह शाम तेरे नाम शायरी

शाम-ऐ-तन्हाई

शाम से है मुझ को सुबह-ऐ-ग़म की फ़िक्र
सुबह से ग़म शाम-ऐ-तन्हाई का है

Shaam-ae-Tanhai

Sham se hai mujh ko subha-ae-gham ki fikar
Subha se gham shaam-ae-tanhai ka hai


शाम के बाद

तू है सूरज तुझे मालूम कहाँ रात का दर्द
तू किसी रोज़ मेरे घर में उतर शाम के बाद
लौट आये न किसी रोज़ वो आवारा मिज़ाज
खोल रखते हैं इसी आस पर दर शाम के बाद

Shaam ke Baad

Tu hai suraj tujhe maloom kahan raat ka dard
Tu kisi roz mere ghar mein utar sham ke baad
Laut aaye na kisi roz wo aavara mizaaj
Khol rakhte hain isi aas par dar shaam ke baad


शाम की दहलीज़

भीगी हुई एक शाम की दहलीज़ पे बैठा हूँ
मैं दिल के सुलगने का सबब सोच रहा हूँ
दुनिया की तो आदत है बदल लेती है आंखें
में उस के बदलने का सबब सोच रहा हूँ

Shaam Ki Dehleez

Bheegi hui ek Shaam Ki Dehleez Pe Baitha hoon
Main dil Ke Sulagne Ka Sabab Soch Raha Hoon
Duniya Ki to Aadat Hai Badal leeti Hai Ankhain
Mein us Ke Badlaney Ka Sabab Soch Raha Hoon


ज़रा सी शाम होने दो

अभी सूरज नहीं डूबा ज़रा सी शाम होने दो
मैं खुद ही लौट जाऊंगा मुझे नाकाम होने दो
मुझे बदनाम करने के बहाने ढूँढ़ते हो क्यों
मैं खुद ही हो जाऊंगा बदनाम पहले नाम तो होने दो

Zara si Shaam Hone Do

Abhi suraj nahi dooba zara si shaam hone do
Main khud hi laut jaounga mujhe nakaam hone do
Mujhe badnaam karne ke bahane dhoondte ho kyon
Main khud hi ho jaunga badnaam pehle naam to hone do


हमें मालूम था उस शाम भी

जुस्तुजू ख्वावों की उम्र भर करते रहे
चाँद के हमराह हम हर शब् सफर करते रहे
वो न आएगा हमें मालूम था उस शाम भी
इंतज़ार उसका मगर कुछ सोच कर करते रहे

Humein Maaloom Tha us Shaam Bhi

Justuju khwawon ki umar bhar karte rahe
Chand ke humraah hum har shab safar karte rahay
Wo na aayega Humein maaloom tha us shaam bhi
Intezaar uska magar kuch soch kar karte rahay


शाम की पलकों पे लरज़ते रहना

आंसुओं शाम की पलकों पे लरज़ते रहना
डूब जाये जो यह मंज़र तो बरसते रहना
उस की आदत न बदली हर बात अधूरी करना
और फिर बात का मफ़हूम बदलते रहना

Shaam Ki Palkon Pe Larazty Rehna

Ansuoon Shaam Ki Palkon Pe Larazty Rehna…

Read More

बारिशों के मौसम में – शायरी

बारिशें नहीं रुकतीं

बारिशों के मौसम में , तुम को याद करने की
आदतें पुरानी हैं

अब की बार सोचा है , आदतें बदल डालें
फिर ख्याल आया के

आदतें बदलने से  बारिशें नहीं रुकतीं..

Baarishain Nahin Ruktee

Barishon ke mousam mein, Tum ko yaad karnay ki
Aadatain purani hain

Ab ki baar socha hai, Aadatain badal dalain
Phir khayal aaya ke

Aadatain badalnay say, Baarishain nahin ruktee..


बारिशों से दोस्ती

ये बारिशों से दोस्ती अच्छी नहीं  “फ़राज़”
कच्चा तेरा मकान है कुछ तो ख़याल करो

BAARISHON SE DOSTI

YEH  BAARISHON SE DOSTI ACHI NAHI FARAAZ
KACHA TERA MAAKAN HAI KUCH TO KHAYAAL KER..


वो तेरे नसीब की बारिशें

वो तेरे नसीब की बारिशें किसी और छत पे बरस गई
दिल बेखबर मेरी बात सुन , उससे भूल जा , उससे भूल जा .

Woh Tere Naseeb Ki Barishain

Woh Tere Naseeb Ki Barishain Kissie Aur CHat pe Baras Gayein
Dil Bekhabar Meri Baat Sun, Ussay Bhool Ja, Ussay Bhool Jaa……

Read More

आज की रात

आज की रात

वो कह के चले इतनी मुलाक़ात बहुत है
मैंने कहा रुक जाओ अभी रात बहुत है

आँसू मेरे थम जाएं तो फिर शौक से जाना
ऐसे मैं कहाँ जाओगे बरसात बहुत है

वो कहने लगे जाना मेरा बहुत ज़रूरी है
नहीं चाहता दिल तोडू तेरा पर मजबूरी है

गर हुई हो कोई खता तो माफ़ कर देना
मैंने कहा हो जाओ चुप इतनी कही बात बहुत है

समझ गए हों सब और कुछ कहो ज़रूरी नहीं
बस आज की रात रुक जाओ , जाना इतना भी ज़रूरी नहीं है

फिर कभी न आऊँगी तुम्हारी ज़िन्दगी में लौट के
सारी ज़िन्दगी तन्हाई के लिए , आज की रात बहुत है

Aaj Ki Raat

Wo Keh Ke Chalay Itni Mulaqat bahut hai
Maine Kaha Ruk Jao Abhi Raat bahut hai

Aansoo Mere Thum Jayein To Phir Shoq Say Jana
Aisay Main Kahan JaoGey Barsaat bahut hai

Wo Kehne Lagey Jana Mera Bohot Zaroori Hai
Nahi Chahta Dil Todun Tera Par Majboori Hai

Gar Hui Ho Koi Khata To Maaf Ker Dena
Maine Kaha Ho jao Chup Itni Kahi Baat bahut hai

Samajh Gayi Hon Sab Aur Kuch Kaho Zaroori Nahi
Bas Aaj Ki Raat Ruk Jao, Jana Itna Bhi Zaroori Nahi Hai

Phir Kabhi Na Aaongi Tumhari Zindagi Mein Lot Ke
Saari Zindagi Tanhayee Ke Liye, Aaj Ki Raat bahut hai…

Read More

ग़ज़ल – वो मेरा हमसफ़र हुआ भी तो लम्हा भर

हम तो अकेले रहे

हमेशा रहेगा यह आलम कहाँ
यह महफ़िल कहाँ और यह हमदम कहाँ

सदा चोट पर चोट खाता रहा
मुक़द्दर में इस दिल के मरहम कहाँ

कहाँ अब्र कोई कड़ी धुप में
झुलसते बयाबां में शबनम कहाँ

ना मस्त आँखें होंगी ना ज़ुल्फे रसा
हमेशा रहेगा यह मौसम कहाँ

अकेले थे हम तो अकेले रहे
कोई अपना गमख्वार हो , हमदम कहाँ

जहांगीर-ओ-नौशेरवां चल बसे
रहा डर में अद्ल पैहम कहाँ

ना अय्यूबी कोई ना खालिद कोई
गया रखता अपना परचम कहाँ

Hum To Akele Rahe

Hamesha Rahega Yeh Aalam Kahan
Yeh Mahfil Kahan aur Yeh Humdam Kahan

Sada Chot Par Chot Khata Raha
Muqaddar Mein Is Dil Ke Marham Kahan

Kahan Abr Koi Kadi Dhoop Mein
Jhulaste Bayabaan Mein Shabnam Kahan

Naa Mast Aankhein Hongi Naa Zulfe Rasaa
Hamesha Rahega Yeh Mausam Kahan

Akele The Hum To Akele Rahe
Koi Apna Ghamkhwaar , Humdam Kahan

Jahangeer-O-Nausherwaan Chal Base
Rahaa Daar Mein Adl Paiham Kahan

Naa Ayyubi Koi Naa Khalid Koi
Gaya Rekhta Apna Parcham Kahan..


दिखाई दिए यूँ

दिखाई दिए यूँ की बेखुद किया
हमें आप से भी जुदा कर चले

जबीं सजदा करते ही करते गए
हक़-ऐ-बंदगी हम अदा कर चले

गई उम्र दर बंद-ऐ-फ़िक्र-ऐ-ग़ज़ल
वो इस फन को ऐसा बढ़ा कर चले

कहें क्या जो पूछे कोई हम से “मीर”
जहाँ में तुम आए थे , क्या कर चले

Dikhai Diye Yun

Dikhai diye yun ki bekhud kiya
Hamain ap se bhi juda kar chale

Jabin sajda karte hi karte gai
Haq-ae-bandagi ham ada kar chale

Gai umar dar band-ae-fikar-ae-gazal
So is faan ko aisas bada kar chale

Kahen kya jo puche koi ham se “Meer”
Jahan main tum aaye the, kya kar chale..


वफाओं की मोहरें

न सोचा न समझा न सीखा न जाना
मुझे आ गया खुद ब खुद दिल लगाना
ज़रा देख कर अपना जलवा दिखाना
सिमट कर यहीं आ न जाए ज़माना
ज़ुबान पर लगी हैं वफाओं की मोहरें
ख़ामोशी मेरी कह रही है फ़साना
गुलों तक बात आई तो आसान है लेकिन
है दुष्वार काँटों से दामन बचाना
करो लाख तुम मातम -ऐ -नौजवानी
पर ‘मीर’ अब नहीं आएगा वो ज़माना

Wafaon ki Mohrain

Na socha na samajha na sikha na jana
mujhe aa gaya khudbakhud dil lagana
zara dekh kar apna jalwa dikhana
simat kar yahin aa na jaye zamana
zuban par lagi hain wafaon ki mohrain
khamoshi meri keh rahi hai fasana
gulon tak lagayi to aasan …

Read More

Barish Shayari, Kaisi beeti raat kisi se

Kaisi beeti raat kisi se mat kahena,
Sapno wali baat kisi se mat kahena,
Kaise uthe badal aur kahan jaakar takraye,
Kaisi hui barsaat kisi se mat kahena!

कैसी बीती रात किसी से मत कहना,
सपनो वाली बात किसी से मत कहना,
कैसे उठे बादल और कहां जाकर टकराए,
कैसी हुई बरसात किसी से मत कहना!…

Read More

ऐ बारिश ज़रा थम के बरस – Romantic बारिश शायरी

ऐ बारिश

ऐ बारिश ज़रा थम के बरस
जब मेरा यार आ जाये तो जम के बरस
पहले न बरस की वो आ न सकें
फिर इतना बरस की वो जा न सकें

AE Barish

Ae barish zara tham ke baras
Jab mera yaar aa jaye to jam ke baras
Pehle na baras ki woh aa na sake
Phir itna baras ki wo ja na sake..


बारिश की बूँद

मत पूछ कितनी “मोहब्बत ” है मुझे उस से ,
बारिश की बूँद भी अगर उसे छु ले तो दिल में आग लग जाती है

Baarish Ki Boond

Mat Pooch Kitni “Mohabbat” Hai Mujhe Us Se,
Baarish Ki Boond Bhi Agar Use Chu Le To Dil Mein Aag Lag Jati Hai..


बरसात का मौसम

जब जब आता है यह बरसात का मौसम
तेरी याद होती है साथ हरदम
इस मौसम में नहीं करेंगे याद तुझे यह सोचा है हमने
पर फिर सोचा की बारिश को कैसे रोक पाएंगे हम

Barsaat Ka Mausam

Jab Jab Aata Hai Ye Barsaat Ka Mausam
Teri Yaad Hoti Hai Saath Hardam
Is Mausam Mein Nahi Karege Yaad Tujhe Ye Socha Hai Humne
Par Fir Socha Ki Barish Ko Kaise Rok Payege Hum..


ज़रा ठहरो के बारिश है

ज़रा ठहरो के बारिश है यह थम जाए तो फिर जाना
किसी का तुझ को छु लेना मुझे अच्छ नहीं लगता

Zara Thehro Ke Baarish Hai

Zara Thehro K Baarish Hai Yeh Tham Jaey To Phir Jana…
Kisi Ka Tujh Ko Choo Laina Mujhe Acha Nahi Lagta…


पहली बारिश

जब भी होगी पहली बारिश तुमको सामने पाएंगे
वो बूंदों से भरा चेहरा तुम्हारा हम कैसे देख पाएंगे

Pehli Baarish

Jab Bhi Hogi Pehli Baarish Tumko Samne Payenge
Woh Bundo Se Bhara Chehra Tumhara Hum Kaise Dekh Payenge…

Read More

छोड़ दिए हम ने ऐतबार किस्मत की लकीरों पे – Aitbar Shayari

कोई तो बरसात ऐसी हो

कोई तो बरसात ऐसी हो जो तेरे संग बरसे …
तनहा तो मेरी आँखें हर रोज़ बरसती हैं …

Koi To Barsat Aisi Ho

Koi To Barsat Aisi Ho Jo Tere Sang Barsy…
Tanha To Meri Aankhen Har Roz Barasti Hain…


ऐतबार

छोड़ दिए हम ने ऐतबार किस्मत की लकीरों पे “वासी”
जो दिलों में बस जाएँ वो लकीरों में नहीं मिला करते …

Aitbar

Chod Dia Hum Ne Aitbar Qismat Ki Lakeeron Pe “Wasi”
Jo Dilon Me Bus Jaen Wo Lakeeron Me Nahi Mila Karte…


हमराज़

यूँ फ़िज़ा महकी के बदला मेरे हमराज़ का रंग
यूँ सजा चाँद के झलका तेरे अंदाज़ का रंग

Humraaz

yun fiza mehaki kay badala mere humraaz ka rang
Yun saaja chand kay jhalaka tere andaaz ka rang


बरसात में काग़ज़ की तरह

रहने दो अब के तुम भी मुझे पढ़ न सकोगे
बरसात में काग़ज़ की तरह भीग गया हूँ मैं …

Barsat Me Kaghaz Ki Tarha

Rehne Do Ab K Tum Bhi Mujhe Parh Na Sako Ge
Barsat Me Kaghaz Ki Tarha Bheeg Gaya Hun main…


तस्वीर

तस्वीर तेरी मेरे मन में इस क़दर बसी है
की हर वक़्त इन आँखों में तू ही नज़र आता है

Tasveer

Tasveer teri mere man mein is kadar basi hai
ki har waqt in ankhoo mein tu hi nazar ataa hai..…

Read More

SAAKI AUR JAAM SHAYARI – साक़ी ओर पिला की पीने पिलाने की रात है

वो पिला कर जाम

वो पिला कर जाम “लबों ” से अपनी मोहब्बत का “मोहसिन”
और , अब कहते हैं के नशे की आदत अच्छी नहीं होती ।

Wo Pila Kar “Jaam” Labon Se Apni Muhabbat Ka “Mohsin”
Aur , Ab Kehte Hain Ke Nashay Ki Aadat Acchi Nahi Hoti.


जाम पे जाम

जाम पे जाम पीने से क्या फ़ायदा
रात गुज़री तो फिर उतर जाएगी
पीना है तो किसी की आँखों से पियो
उम्र सारी नशे में गुज़र जाएगी ।

Jaam Pe Jaam Pene Se Kya Faida
Raat Guzri To Phir Utar Jayegi
Peena Hai To Kisi Ki Ankhon Se Piyo
Umar Sari Nashay Mein Guzar Jayegi.


जाम आँखों से पिलाया किसी ने

कल जो जाम आँखों से पिलाया किसी ने
मदहोश पड़ा रहा , न उठाया किसी ने

 

मुझे भी कुछ ज़्यादा शौक़ था पीने का
पीने के बाद जो हुआ , न बताया किसी ने

कभी मस्जिद , कभी मंदिर मैं घूमता रहा रात भर
कभी मुस्लमान , कभी हिन्दू बनाया किसी ने

आदि बना के महखाना छीन लिया गया मुझसे
कुछ इस तरह मुझे सताया किसी ने

Kal Jo Jaam Aankhon Se Pilaya Kisi Ne
MadHosh Pada Raha, Na Uthaya Kisi Ne

Mujhe Bhi Kuch Ziada Shoq Tha Pene Ka
Pene Ke Bad Jo Hua, Na Bataya Kisi Ne

Kabhi Masjid, Kabhi Mandir Main Ghoomta Raha Rat Bhar
Kabhi Musalman, Kabhi Hindu Banaya Kisi Ne

Aadi Bana Ke MayKahaana Cheen Liya Gaya Mujhse
Kuch Is Tarha Mujhe Staya Kisi Ne.


कसूर शराब का नहीं

मदहोश हम हरदम रहा करते हैं,
और इल्ज़ाम शराब को दिया करते हैं ,
कसूर शराब का नहीं , उनका है यारों ,
जिनका चेहरा हम हर जाम में तलाश किया करते हैं ।

Madhhosh Hum Hardam Raha Karte Hain,
Aur Ilzaam Sharaab Ko Diya Karte Hain,
Kasoor Sharaab Ka Nahi, Unka Hai Yaron,
Jinka Chehra Hum Har Jaam Mein Talaash Kiya Karte Hain.


मोहब्बत और जाम

आशिकों को मोहब्बत के आलावा अगर कुछ काम होता ,
तो मयख़ाने जा के हर रोज़ यूँ बदनाम न होता ,
मिल जाती चाहने वाली उसे भी कहीं राह में कोई ,
अगर क़दमों में उसके नशा और हाथ में जाम न होता ।

Aashikon Ko Mohabbat Ke Alava Agar Kuchh Kaam Hota,
To Maikhane Ja ke Har Roz Yun Badnam Na Hota,
Mil Jaati Chahne Wali Usse Bhi Kahin Raah Mein Koi,
Agar Kadmon Mein Nasha Aur Hath Mein Jaam Na Hota.


हाथ में

Read More