बशीर बद्र – उर्दू शायरी & ग़ज़ल

हमा वक़्त रंज-ओ-मलाल क्या , जो गुज़र गया सो गुज़र गया
उसे याद कर के न दिल दुखा , जो गुज़र गया सो गुज़र गया ।

                  न गिला किया न खफा हुए , यूं ही रास्ते में जुदा हुए
                  न तू बेवफा न में बेवफा , जो गुज़र गया सो गुज़र गया ।

वो ग़ज़ल की एक किताब था , वो गुलाबों में एक गुलाब था
ज़रा देर का कोई ख्वाब था , जो गुज़र गया सो गुज़र गया ।

                   मुझे पतझड़ों की कहानिया , न सुना सुना कर उदास कर
                   तू ख़िज़ाँ का फूल है मुस्कुरा , जो गुज़र गया सो गुज़र गया ।

वो उदास धूप समेट कर , कहीं वादियों में …

Continue Reading

Bashir Badr – Phool sa kuch qalaam

Phool sa kuch qalaam aur sahi,
Ik ghazal us kay naam aur sahi,
Us ki zulfen bohat ghaneri hain,
Ek shab ka qayam aur sahi,
Zindagi kay udaas qissey hain,
Ek ladki ka naam aur sahi,
Kursiyon ko sunaiye ghazlien,
Qatal ki ek sham aur sahi,
kapkapati hai rat seeney me,
zehar ka ek jaam aur sahi…

फूल सा कुछ क़लाम और सही,
इक गाज़ल उस के नाम और सही,
उस की ज़ुल्फ़ें बहोत घनेरी हैं,
एक शब का क़याम और सही,
ज़िंदगी के उदास क़िस्से हैं,
एक लड़की का नाम और सही,
कुर्सियों को सुनाए ग़ज़लें,
क़तल की एक शाम और सही,
कंपकंपाती है रात सीने मे,
ज़हर का एक जाम और सही…

Continue Reading

Bashir Badr – Yunhi be-sabab na phira karo

Yunhi be-sabab na phira karo koi sham ghar main raha karo,
Woh ghazal ki sahi kitaab hai ussey chupke chupke padha karo,
Koi haath bhi na milaayega jo gale miloge tapaak se,
Yeh naye mizaaj ka sheher hai zara faasle se mila karo,
Abhi raah main kayi morr hain koi aayega koi jaayega,
Tumhe jis ne dil se bhulaa diya ussey bhoolne ki dua karo,
Mujhe ishtihaar si lagti hain yeh mohabton ki kahaniyan,
Jo kaha nahin woh suna karo jo suna nahin woh kaha karo,
Kabhi husn-e-parda-nasheen bhi ho zara aashiqana libaas main,
Jo main ban sanwar ke kahin chaloon mere sath tum bhi chala karo,
Nahin be-hijaab woh chand sa ke nazar ka koi assar na ho,
Ussey itni garmi-e-shauq se badi der tak na taaka karo,
Yeh khizaan ki zard si shaal main jo udaas pair ke paas hai,
Yeh tumhare ghar ki bahaar hai ussey aansuyon …

Continue Reading

Bashir Badr – Us ki chahat ki chandni hogi

Us ki chahat ki chandni hogi,
Khoobsoorat si zindagi hogi,
Ek ladki bahut sey phool liye,
Dil ki dehleez par khadi hogi,
Chahey jitney charagh gul kar do,
Us key ghar roshni to hogi,
Neend tarseygi meri ankhon me,
Jab bhi khawbon sey dosti hogi,
Hum bohat door they magar tumney,
Dil ki awaz to suni hogi,
Sochta hun key wo kahan hogi,
Kis key angan me chandni hogi…

उस की चाहत की चाँदनी होगी,
खूबसूरत सी ज़िंदगी होगी,
एक लड़की बहुत से फूल लिए,
दिल की दहलीज़ पर खड़ी होगी,
चाहे जितने चराग गुल कर दो,
उस के घर रोशनी तो होगी,
नींद तरसेगी मेरी आँखों मे,
जब भी खाव्बों से दोस्ती होगी,
हम बहोत दूर थे मगर तुमने,
दिल की आवाज़ तो सुनी होगी,
सोचता हूँ के वो कहाँ होगी,
किस के आँगन मे चाँदनी होगी…

Continue Reading

Bashir Badr – Aansuoon se dhuli khushi ki tarah

Aansuoon se dhuli khushi ki tarah,
Rishtey hotey hain shayari ki tarah,
Door reh kar bhi hoon issi ki tarah,
Chaand se door chandni ki tarah,
Khoobsurat, udaas, khaufzada,
Woh bhi hai beesween sadi ki tarah,
Jab bhi kabhi badlon mein ghirta hai,
Chand lagta hai aadmi ki tarah,
Hum khuda ban ke ayenge warna,
Hum se mil jao aadmi ki tarah,
Sab nazar ka fareb hota hai,
Koi hota nahin kisi ki tarah,
Janta hoon ke aik din mujhko,
Woh badal dega diary ki tarah,
Aarzu hai ke koi sher kahoon,
Khoobsurat teri gali ki tarah…

आंसुओं से धुली खुशी की तरह,
रिश्ते होते हैं शायरी की तरह,
दूर रह कर भी हूँ इसी की तरह,
चाँद से दूर चाँदनी की तरह,
खूबसूरत, उदास, ख़ौफज़दा,
वो भी है बीसवीं सदी की तरह,
जब भी कभी बादलों में घिरता है,
चाँद लगता है आदमी की तरह,
हम खुदा बन के …

Continue Reading

Bashir Badr – Thaa ‘mir’ jin ko sher ka

Thaa ‘mir’ jin ko sher ka aazaar mar gaye,
Ghaalib tumhare saare tarafdaar mar gaye,

Jazbon ki woh sadaaqten marhoom ho gayin,
Ehsaas ke naye naye izhaar mar gaye,

Saaqi teri sharaab barra kaam kar gayi,
Kuch raaste main, kuch passs-e-deewar mar gaye,

Sehron main ab jahaad hai, roza namaz hai,
Urdu ghazal main jitne thay kufaar mar gaye,

Misron ko hum ne naara-e-takbeer kar diya,
Geeton ke pukhtaa-kaar gulukaar mar gaye,

Ya rab tilism hosh-rubaa hai mushaayera,
Jin ko nahin bulaaya woh gham-khoaar mar gaye…

था ‘मीर’ जिन को शेर का आज़ार मर गये,
ग़ालिब तुम्हारे सारे तरफदार मर गये,

जज़बों की वो सदाक़तें मरहूम हो गयीं,
एहसास के नये नये इज़हार मर गये,

साक़ि तेरी शराब बड़ा काम कर गयी,
कुछ रास्ते मैं, कुछ पस्स-ए-दीवार मर गये,

सहरों मैं अब जहाद है, रोज़ा नमाज़ है,
उर्दू गजल मैं जीतने थे कुफ़ार मर गये,

मिसरों को हम ने नारा-ए-तकबीर

Continue Reading