Chori Karne Wale Bhoot Ki Pitai

Mera name sumit hai aur aaj mein apko ek real bhoot ki kahani bataunga jo mujhe mere dadaji ne bataya thaa.Mere dadaji ke sath yeh ghatna real mein ghatit ho chuka hai toh unhone mujhe bataya thaa islie mein aap sab ko yeh darawni kahani batayunga.

Yeh kahani tab ki hai jab mere dadadji 24 saal ke huya karte thee.Ek raat jab mere dadaji apne room mein soye huye thee.Uss time humare area mein electricity nahi thee isliye room mein ek lamp jalaya huya thaa jisse bahut hi dheemi rosni aah rahi thee.Tabhi mere dadji ko laga ki koi unke kamre mein ghus kar koi kuch chori kar raha hai.

Mere dadaji ko laga ko koi chor hai unhone apna ankh khola aur chupke se dekha toh unhone dekha ki ek chotta sa bacha ek bada sa chawal ka bag utha kar le ja raha hai.Yeh dekh unko hairaani huyi fir woh samajh gaye ki yeh koi chor ya bacha nahi yeh ek bhoot hai jo kisi ka paltu hai,yeh dekh mere dadaji aag babula ho gaye aur waha padi ek laathi lekar uss bhoot ko khoob pitne lage.Pitai ke kuch der baad wo bhoot dadaji ko dhakel kar bhaag gaya.Par mere dadaji ko bahut gussa ah raha thaa.

Woh chup-chaap so gaye,fir dusri raat dadaji purii taiyaari ke sath soye thee yaani laati aur machli pakadne ka jaali lekar soye thee.Uss raat toh wo bhoot toh nahi aaya par 2 din baad woh bhoot apne 4 bhoot lekar aaya.Dadaji ne samajhdari se faisala liya aur unko pehle machli pakadne wali jaal ko unke upar fek kar pakada fir unn 4 bhoot ki laathi se pitai karne lage.Bhoot toh chilla rahe thee aur dadaji unn bhooto par laathi barsane lage.Inn awaaz se baaki ghar wale bhi aah gaye.

Ghar ke logo ne bhi unn bhooto ki pitai ki aur woh bhoot jaali tod kar bhaag gaye.Fir kuch der baad sab so gaye.Kuch din tak sahi raha fir kuch time baad mere dadaji ko bazar jana pada woh apna cycle lekar nikal pade.Raste par ek ghar ke paas unhone uss bhoot ko fir dekha aur woh ek aadmi se baat kar raha thaa ki uss ghar mein aaj fir se jao lekin aaj tumhare sath ek aatma bhi jaygi jisse tumlog aaj usko khatm kar dena.

Mere dadaji ne yeh sab dekha aur bazar gaye waha par unhone apne 8 dosto …

Read More

मेरे और मेरे बहन के साथ Paranormal Activity घटित हुआ

क्या आपके साथ कभी Paranormal Activities हुई है पर मेरे साथ तो Paranormal घटनाए घट चुकी है जिसका वर्णन मैं आप सभी के साथ करूँगा तो आप इस भूतिया घटना को पढ़ कर आनन्द लीजिए तो मैं अपनी कहानी शूरु करता हूं।

मेरा नाम मनोज है और मेरी एक छोटी बहन है जिसका नाम रंजना है तो आज से कुछ साल पहले मेरे पिताजी का अपने जॉब के सिलसिले में एक नए जगह पर ट्रांसफर हो गया तो हम दोनों भाई-बहन अपने माता-पिता के साथ उस नए घर पर शिफ्ट हो गए जहाँ पर मेरे पिताजी का ट्रांसफर हुआ था।

शूरूवात के दिन वहाँ पर मन तो नहीँ लग रहा था पर हमारा मन कुछ ही दिनों में उस नए जगह पर लग गया। आस पड़ोस के लोगो से हमारी दोस्तो हो चुकी थी। अब एक रात हम सब सो रहे थे तो मेरी बहन रोते हुए उठी फिर मैं उठने ही वाला था कि मम्मी उठी और बहन से पूछी क्या हुआ तो वह कुछ बोली नहीं फिर सो गई।

मैंने अपनी बहन से उस रात कुछ भी नहीं पूछा फिर दूसरे दिन मैंने अपनी बहन से पूछा कि तुम उस रात क्यों रो रही थी तो उसने बताया कि मैंने सपनें में देखा कि कोई मुझे खिंचते हुए घर के किचन में ले जा रहा था और मैं चिल्ला रही थी तो मेरी कोई मदद भी नही कर रहा था तो मैं रोने लगी फिर मैं जाग गई।

मैंने अपनी बहन को कहा इन सब के बारे में ज्यादा मत सोचो यह सब बस सपने है ऐसा कुछ नहीं होगा तो मैं अब इन सब सोच में पड़ गया आखिर मेरी बहन को ऐसा सपना क्यों आया और उसी रात मैंने देखा कि कोई मेरे भी पैर खिंचते हुए किचन में ले जा रहा है और मैं नींद से जाग गया।

मुझे और मेरे बहन को ऐसा ही सपना कैसे आया इसके बारे में मैं सोच रहा था की तभी मैंने अपनी मम्मी को इन सब के बारे में बताया और इसके कुछ दिनों बाद हम सब पूरा परिवार मेरे नानी के पास छुट्टियां मनाने गए तो मम्मी ने मुझे और मेरी बहन को एक ज्योतिष के पास ले गए और उस ज्योतिष ने कहा कि उस घर में एक आत्मा भटकती है जो आप सबको हकीकत में नुकसान तो नहीं पहुँचाएगी पर सपने में डराएगी जरूर तो उस ज्योतिष ने मेरे पूरे परिवार को एक-एक ताविज दिया …

Read More

Ghost House Ki Woh Bhayanak Raat

Hello friends Mera name Yanshu Priya hai aur Mai aapko apni real ghost story share karne jaa rahi hu jo mere or meri family ke sath ghati.

Mere father government job krte Hai, isliye unka hamesha hi transfer hota rehta Hai, jiske karan hume new ghar khojna parta Hai. To yaise hi fir se unka new jagah transfer ho gya aur hume new ghar khojna pada, Hume ghar ki jarurat thi toh humne jaldbaaji mein ghar khoji or uss jagah par sipt ho gye bina puri jankari liye ki uss ghar ke bare me bas yehi galti ho gayi mere parents se.

Aise hi Kuch months hamari time uss ghar par ache se gujri par kuch samay baad ajeeb-ajeeb se ghatnaye hone lgi, pr aaj ke samay par bhoot pret par kaun yaaken karta hai yahi soch kar hume bhi laga ki kuch or hoga ye shoch kr hum ignore karte thee.

Morning me padosi se puchne ke baad pata chala ki wo house par ek ladke ki bimari ke karan mout ho gayi thi aur yahi paresaan karta hai uss ghar mein rehne wale logo ko bas ye sunne ke baad to hume bahut hi bada sadma laga jisse kuch raat hum dar ke maare ache se sote nahi thee fir kuch dino baad humne woh ghar change kar di aur ab hum new ghar mein rehte hai jaha hum bahut hi ache se rehte hai.…

Read More

Mera Darawna Sapna Sach Ho Gaya

Mera name akhil hai aur mera umra 20 saal hai.Mein U.P India ka rehne wala hu. Pichle saal mene ek bhayaanak sapna dekhna aur woh ghatna sach ho gaya, bhale hi aapko meri story jhuth lag rahi hogi par mera darawna sapna wali story ek dum sach hai.

Pichle saal kadkadati thand ki raat mein apne bed par leta aur mein gehri nind par sone laga.Tabhi mein ek sapna dekh raha thaa jisme mein apne room mein raat ko table mein beth kar padhai kar raha thaa aur 2 kaali parchaayi aakar mere ko piche se taan kar jameen par jor se gira diya aur mene un parchayi ka chehra dekha dono kaale thee aur unke ankh laal thee,yeh nazara dekh kar mein toh bahut dar gaya.

Mere muh se dar ke mare awaaz tak nahi ah rahi thee aur wo dono mujhe maarne lage bahut hi bhayaanak tareeke se maarne lage kabhi mujhe laat se maarte aur kabhi mujhe haath se uthakar jameen par patak dete.

Mere muh se dar ke mare awaaz tak nahi aah rahi thee aur mein man mein ram-ram japne laga aur mein nind se jaag gaya. Mein jab nind se utha pura tarah dar gaya aur itni thand mein bhi paseene se latpath thaa,kuch der baad mein normal huya aur sone laga tabhi kisine mera kambal taana mene bahut jor se cheekh maari dar ke maare aur tabhi mene piche mud kar dekha toh wo kaali parchaayi thee,mein dar ke maare kaanpne laga tabhi mere maa aur papa dor kar mere room mein aaye aur unn dono ne bhi unn parchaayi ko dekha fir wo parchaayi gayab ho gaye.

Mammi ne mujhe aate hi gale se laga liya aur mein kaanp raha thaa aur ab rone bhi laga,papa bhi bahut chintit thee.Raat ko mammi aur papa mere sath so gaye aur subah mene saari baat mere papa ko bataya, tabhi papa ne ek pandit se mulakaat ki aur yeh ghatna batayi.

Pandit ne yeh bataya ki woh parchaayi ko kisi dusre aadmi ne kisi dusre log ko paresaan ke liye bheja thaa par badkismati se woh mujhe paresaan karne lagi.Pandit ne humare ghar mein ek yagya karne ko kaha aur papa ne yagya karwaya aur mujhe ek tabeez badha. Ab sab normal ho gaya, mera life ab ache se guzar raha hai.

Agar aapko mera darawna sapna wali story pasand aaye toh share jarur …

Read More

दो सच्ची Bhoot Ki Kahani – Ghost Story In Hindi

मेरा नाम रमेश है और आज मैं आप सब के सामने दो Bhoot Ki Kahani पेश करने जा रहा हुँ। यह Ghost Story In Hindi पूरा तरह सच है क्योंकि यह भूतिया घटना मेरे साथ घटित हुआ था तो मैं आप सबको दो कहानी बताता हूं।

1. दिवाली की रात की Bhoot Ki Kahani

मैं दिवाली मनाने अपने गाँव गया हुआ था। दिवाली के रात मैने गाँव के दोस्तो के साथ फटाके फोड़े और मस्ती किए। कुछ देर बाद मैं एक पेड़ के पास अकेला बैठा हुआ था तभी मेरे पास एक लड़की मेरे पास दौड़ते हुए आई। वह लड़की पूरी तरह से डरी हुई थी। मैंने उसको कहा क्या हुआ तुम इतनी डरी हुई क्यों हो।

वो मुझसे कहने लगी तुम मेरे साथ चलो मेरे घर मे आग लगी हुई है। मेरे परिवार को कृप्या बचा लो। मैं उस लड़की के साथ दौड़ते हुए चला गया। जब उसके घर के पास पहुँचा तो सच मे पूरा घर आग से जल रहा था और तभी मेरा एक दोस्त आ गया और मैने कहा देखो इस घर मे आग लगी हुई है। यहा पर मदद करो। मेरा दोस्त कहने लगा कहा, किधर आग लगा हुआ है। तभी मेने देखा कि आग और लड़की गायब हो चुकी है। वह घर पूरा टूटा हुआ था। मैंने भी ज्यादा कुछ नही बोला और घर आ गया।

इस घटना से मुझे एक बात का जरूर पता चला कि वह लड़की कोई आत्मा ही थीं जो उसने मुझे अपनी बीती हुई दुर्घटना दिखाई।

2. मुझे पीछे से आत्मा ने बुलाया Bhoot Ki Kahani

दीवाली की घटना के दो दिन के बाद मैं अपने दोस्त के घर गया हुया था तब शाम के 6 बज रहे थे। वहा पर मेरे चार दोस्त थे और वो tv पर भूत की मूवी देख रहे थे और मैं भी उनके साथ वह मूवी देखने लगा। मूवी बहुत ही डरावनी थी। मूवी खत्म होते-होते शाम के 7:30 बज रहे थे और मैं घर जाने लगा तभी रास्ते में मुझे पीछे से कोई आवाज देकर बुलाने लगा।

मुझे लगा कि पीछे मुड़कर देखना चाहिए पर मैने यह भी सुना था कि अगर कोई आत्मा पीछे से बुलाए और पीछे मुड़कर देखने से जान भी जा सकती है। मैंने बहुत ही हिम्मत जुटा कर घर की तरफ दौड़ लगा दिया और मै घर पहुच गया। मुझे यह नही पता कि कौन मुझे पीछे से बुला रहा था पर जो भी बुला रहा था …

Read More