संकष्टी चतुर्थी, Sankashti Chaturthi Ki Hardik Shubhkamnaye

संकष्टी चतुर्थी गणेश को समर्पित एक शुभ दिन है। यह दिन हिंदू कैलेंडर के कृष्ण पक्ष के चैथे दिने हर चंद्र मास में मनाया जाता है। अगर यह चतुर्थी एक मंगलवार को होती है तो इसे अंगारकी संकष्टी चतुर्थी कहा जाता है। इस दिन, भक्त उपवास रखते हैं। वे रात को उपवास तोड़ते हैं और प्रार्थना के बाद चंद्रमा की शुभ दृष्टि गणेश से प्रार्थना करते हैं।

संकष्टी चतुर्थी, Sankashti Chaturthi Ki Hardik Shubhkamnaye

कोई देवा कहे कोई चिंतामणी,
कोई बाप्पा कहे जो है दिलका धनी,
तेरे चरणों में जो शिर्ष रखता है वो,
है फिकर उसको किसकी रे मौर्या
संकट चतुर्थी की शुभकामनाये


धरती पर बारिश की बूंदे बरसे, आपके ऊपर अपनों का प्यार बरसे,
गणेश जी से बस यही दुआ है, आप खुशी के लिए नहीं, खुशी आपके लिए तरसे!
संकष्टी चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनाएं


देख कर तेरा मनमोहक चेहरा, सुध-बुध खो गया मेरे ईश्वर,
मन करता है मैं जीवनभर तेरी भक्ति में खो जाऊं मेरे ईश्वर,
संकष्टी चतुर्थी की शुभकामनाएं.!!


कर दो हमारे जीवन से दुःख दर्दों का नाश,
चिंतामन कर दो कृपा पूरण सबके काज..
सकट चौथ की शुभकामनाएं!


आपका सुख बाप्पा के पेट जितना बडा हो,
आपका दुःख मूषक जितना छोटा हो,
आपकी लाईफ सूंड जितनी लंबी हो,
आपके बोल मोदक जैसे मीठे हो,


हम भक्त तुम्हारे जाये कहां संकट मैं है हम, तू सुन ले सदा,
कुछ समझ नहीं आता हमको, ये हमरे संग क्या हो रिया
कुछ करो, बाप्पा कुछ करो… हे गणपति बाप्पा मौर्या
संकट सबके दूर कर दोना हेप्पी संकष्ठी चतुर्थी


धरती पर बारिश की बूंदे बरसे, आपके ऊपर अपनों का प्यार बरसे,
गणेश जी से बस यही दुआ है, आप खुशी के लिए नहीं, खुशी आपके लिए तरसे!
संकष्टी चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनाएं


देखकर तेरा मनमोहक चेहरा सुध बुध खो जाता है
मन करता है जीवन भर, तेरी भक्ति में खो जाऊं


कोई देवा कहे कोई चिंतामणी,
कोई बाप्पा कहे जो है दिलका धनी,
तेरे चरणों में जो शिर्ष रखता है वो,
है फिकर उसको किसकी रे मौर्या
गणपति बाप्पा मौर्या
संकट चतुर्थी की शुभकामनाये


संकष्ट चतुर्थी के पवन पर्व पर विघ्नहर्ता को आओ सब करे नमन
हर कोई हो स्नेह से बंधा, मन की भक्ति कर दे अर्पण…


हम भक्त तुम्हारे जाये कहां
संकट मैं है हम, तू सुन ले सदा,
कुछ समझ नहीं आता हमको,
ये हमरे संग क्या हो रिया
कुछ करो, बाप्पा कुछ करो…
हे गणपति बाप्पा मौर्या
संकट सबके दूर कर दोना
हेप्पी संकष्ठी चतुर्थी…

Read More