बात निकली है तो दूर तक जानी चाहिये.

बेटी निकलती है तो कहते हो छोटे कपड़े पहन कर मत जाओ,
पर बेटे से नहीं कहते हो की नज़रों मैं गंदगी मत लाओ.
बेटी से कहते हो की कभी घर की इज़्ज़त खराब मत करना.
बेटे से क्यों नहीं कहते की किसी के घर
की इज़्ज़त से खिलवाड़ नहीं करना?
हर वक़्त हो नज़र बेटी के फोनपे पर,
ये भी तो देखो बेटा क्या करता है इंटरनेटपे.
किसी लड़के से बात करते देख जो भाई भड़कता है,
वोही भाई अपनी गर्लफ्रेंड के
किस्से घर मैं हंस हंस कर सुनाता है.
बेटा घूमे गर्लफ्रेंड के साथ तो कहते हो
अरे बेटा बड़ा हो गया.
बेटी अपने अगर दोस्त से भी बातें
करें तो कहते हो बेशर्म हो गयी,
इसका दिमाग खराब हो गया.
पहले शोषण घर से बंद करो तब
शिकायत करना समाज से.
हर बेटे से कहो की हर बेटी की इज़्ज़त करे आज से,
बात निकली है तो दूर तक जानी चाहिये.
#Tushidha
Read More