सूरज की रौशनी फीकी पड़ जाए ऐसी चांदनी रात होनी चाहिए

सूरज की रौशनी फीकी पड़ जाए
ऐसी भी कोई चांदनी रात होनी चाहिए

आँखों में गुम हो जाऊ तुम्हारी,
ऐसी भी कोई बात होनी चाहिए

पीठ पीछे तो सब बोलते है मेरी जान
जो सामने बोलके दिखाए वो औकात होनी चाहिए

झुकता नहीं सर यूँही किसी डर के आगे
हर सर झुक जाये उस डर में वो बात होनी चाहिए

~ Pari…

Read More

मुश्किलें राह पर मिलती रहेंगीं

प्यार से रिश्ता निभाना चाहिए।
सोचकर के दिल लगाना चाहिए।
मुश्किलें राह पर मिलती रहेंगीं।
कर्म पथ पर चलते जाना चाहिए।

~ जितेंद्र मिश्र ‘भरत जी’…

Read More

गांव का जीवन, गांव के नज़ारे

गांव के बाजारों में भी, खूब नज़ारे होते थे।
चाट पकौड़ी और बताशों के चटकारे होते थे।
नीम और बरगद की छाया में बैठा करते थे।
खुशियों के पल आपस में वारे न्यारे होते थे।

~ जितेंद्र मिश्र ‘भरत जी’…

Read More

माँ बाप के आशीर्वाद की चाह

पौधा अच्छे से उग नहीं सकता, बिना खाद
याद आता है मुझे आपके हाथो से खिलाए खाने का स्वाद,
निकल चुका हुआ जीवन के सफर पर होने आबाद
बस बची यही मेरी आखिरी मुराद
काश फिर से मिल पाता आपका आशीर्वाद।

~ Rahul verma (Rv)…

Read More