वो जो दबी सी आस बाकी है….Love Breakup Bewafai Zindagi !

Bewafai Story in Hindi

मेरा नाम अनु है और ये बात है 4 साल पहले की, मेरी नयी-नयी शादी हुई थी. वैसे तो मेरी arranged marriage थी लेकिन शादी से पहले मेरा एक बॉयफ्रेंड भी था जिसे मैं बहुत प्यार करती थी, उसका नाम अर्जुन था. शादी के बाद अभी एक महीना ही हुआ था कि मेरे पुराने बॉयफ्रेंड को मेरे ही ऑफिस में नौकरी मिल गयी. मुझे इससे कोई फर्क नहीं पड़ा क्यूंकि मेरी शादी हो चुकी थी लेकिन फिर भी पता नहीं मुझे क्या सूझा कि मैंने अर्जुन से बात करनी शुरू कर दी, आखिर हम एक ही ऑफिस में तो थे.

एक दिन मैं ऑफिस के वाशरूम से निकल रही थी कि सामने अर्जुन खड़ा था, वो मेरे करीब आया, आँखों में आँखे डाले मुझे घूर रहा था, वो मेरे और करीब आया और हमने एक दुसरे को Kiss की. उस वक़्त पता नहीं मुझे क्या हो गया था, मैं शायद भूल गयी थी कि मैं शादीशुदा हूँ. कुछ देर इंटिमेट होने के बाद मुझे थोड़ा होश आया और मैंने अर्जुन को एकदम से अपने से दूर धक्का दिया और जा कर अपना काम करने लगी.

shayarisms4lovers.in- New Hindi Shayari on Love, Sad, Funny, Friendship, Bewafai, Dard, GoodMorning, GoodNight, Judai, Whatsapp Status in Hindi

अर्जुन ने मुझे बहुत समझाया लेकिन मुझे पता था कि शादी के बाद ये गलत है. मुझे इस बात का इतना अफ़सोस हुआ कि मैंने नौकरी छोड़ दी और फिर कभी ऑफिस नहीं गयी.

मुझे ये बात अंदर ही अंदर खाये जा रही थी कि मैंने अपने पति जिसका नाम रोहित है उसके साथ धोखा किया. मैंने शादी के बाद एक दुसरे मर्द के साथ सम्बन्ध बनाये और यही बात मुझे दिन रात परेशान कर रही थी. यूँही 2 महीने बीत गए, मुझे ऑफिस छोड़े अब 2 महीने होने को आये थे और मैंने सोचा क्यों ना मैंने अपने पति (रोहित) को सब सच सच बता दू.

मैंने ठीक समय देख कर रोहित को सब बता दिया. उस दिन रोहित शाम को ऑफिस से घर आये थे, मैं डरी हुई थी लेकिन फिर भी हिम्मत करके उसे कहा “रोहित मुझे माफ़ कर दो”

रोहित: अनु… किस बात की माफ़ी?

वो, मैंने शादी के बाद भी एक लड़के के करीब आ गयी थी लेकिन वो सब एक गलती थी और मैं तुमसे माफ़ी मांगती हूँ. मैं तुम्हे यकीन दिलाती हूँ कि कभी फिर ऐसा नहीं होगा.

रोहित: तुमने मेरे साथ धोखा किया है अनु, मैं घर छोड़ कर जा रहा हूँ।

“नहीं रोहित, प्लीज ऐसा मत करो, वो सिर्फ एक गलती थी, …

वो जो दबी सी आस बाकी है….Love Breakup Bewafai Zindagi ! Read More

अर्चना और विवेक – सच्ची दोस्ती की कहानी Best Friendship Short Story in Hindi

Story on True Friendship in Hindi

.           बहुत साल पहले शिवमपुर नाम के गांव में, दो दोस्त रहते थे, एक का नाम था, अर्चना और एक का नाम था, विवेक। अर्चना और विवेक एक ही क्लास में पढ़ते थे। बचपन से ही दोनों, साथ में खेलते, खाना खाते और एक बेहतरीन जिंदगी जी रहें थे दोनों।

Best Friendship Short Story in Hindi

True Friendship Short Story in Hindi

.           अर्चना और विवेक, एक दूसरे से बहुत मस्ती भी करते और एक दूसरे का ध्यान भी बहुत रखते। एक बार, दोनों दोस्त कुछ फल खाने के लिए, जंगल की ओर जाने लगे। अचानक दोनो की नजर, एक बेहद ही खूबसूरत और विशालकाय पेड़ पर पड़ी । जहा ऊपर, मीठे मीठे रसदार फल लगे हुए थे। विवेक को पेड़ पर चढ़ना आता था; वह फ़ौरन पेड़ पर चढ़ गया और मीठे मीठे फल का आनंद लेने लगा और कुछ फल, नीचे अपनी दोस्त को भी ऊपर से दिया । उसके बाद, अचानक विवेक का ध्यान, एक बहुत बड़े फल के ऊपर पड़ा, जो उसे अपनी ओर आकर्षित करने लगा एवं वह फल बाकी सब फल से अधिक बड़ा और उसको देखते ही, विवेक के मुंह में पानी आ गया! उससे नही रहा गया और वो उस फल को पाने के लिए आगे जा रहा था।

.           अचानक, अर्चना ने जोर से आवाज दिया और कहा, “ विवेक, जरा संभलकर! उस फल को छोड़ो। नीचे आ जाओ, वह फल जिस डाली पे है, वह डाली बहुत नाजुक एवं पतली है, तुम गिर सकते हो।” लेकिन विवेक ने अर्चना की बात नही मानी और वो आगे बढ़ने लगा। यहां पर, अर्चना का जी बहुत घबरा रहा था। आखिरकार वही हुआ; जिसका अर्चना को डर था। अर्चना ने एक आवाज सुनी, कुछ टूटने की और पेड़ की ओर देखा। वह आवाज डाली टूटने की थी और डाली टूटते ही, विवेक, नीचे जमीन पर गिर पड़ा।

.             पेड़ बहुत विशालकाय था और विवेक जिस डाली से नीचे गिरा था; वह काफी ऊंचाई पर थी। इसी वजह से, विवेक नीचे गिरते ही, उसके सिर और बदन से खून बहने लगा और विवेक बेहोश हो गया। यह देखकर अर्चना घबरा गई और फुट – फुट कर रोने लगी । अर्चना ने बहुत कोशिश की उसको उठाने की, उसने कहा, “विवेक अपनी आंखे खोलो। है भगवान! यह क्या अनर्थ हो गया। मेरे दोस्त, विवेक की जान बचा लीजिए, भगवान। विवेक, आंखे खोलो ( पानी की बुंदे छिड़कते हुए )। तुम्हे कुछ नही होगा, में तुम्हारे …

अर्चना और विवेक – सच्ची दोस्ती की कहानी Best Friendship Short Story in Hindi Read More

School Life Love Story in Hindi | वो  पहली चिठ्ठी  

साथियों नमस्कार, आज हम आपके लिए ” School Life Love Story in Hindi | वो पहली चिठ्ठी ” लेकर आएं हैं जिसे पढ़कर आपको भी आने स्कूल में हुए पहले प्यार की याद ज़रूर आएगी|

School Life Love Story in Hindi | वो पहली चिठ्ठी

क्या वो सच में तुम्हे पसंद करता है ..रीना ने ये पुछकर जैसे मेरे मन के सारे तार झनझना दिए हो..पर ऊपर से कठोर भाव में मैंने बात बदलने की कोशिश की….
मुझे क्या पता, तुम उससे ही पूछ लो| पर पहले प्रिंसिपल मैडम के ऑफिस में चलो कल हमारे फेयरवेल का ड्रेस कोड क्या रहेगा ये डिसकस करना है वैसे भी उसके बाद पता नहीं कब स्कूल आना हो दुबारा..आज ही उनका आशीर्वाद भी ले लेंगे बारहवीं के बोर्ड एग्जाम के लिए भी|
रीना: हां ये तो है …ये आखिरी मौका है सौरभ को जी भर के देख लो …क्या पता कल नज़रे मिलाने का टाइम ना मिले.. रीना ने चुटकी लेते हुए कहा…
मैं : नजरे ना भी मिले पर मुझे पता है उसकी नज़रे मेरे अलावा किसी और को नहीं देखेगी.. (मैंने भी बात को हवा दी…)
रीना :ओहो इतना विश्वास है अपने प्यार पर..
मै : ना ना प्यार पर नहीं! अपने हुस्न पर गुरुर है मैडम …हुस्न अगर काबिल हो, तो इश्क कहीं जा ही नहीं सकता …
रीना: वाह वाह क्या बात कही…और हम दोनों हंसते हुए प्रिंसिपल मैडम के ऑफिस की ओर चल पड़ी|
यूँ तो इश्क की अफवाहे बहुत सुनी थी हमने अपने स्कूल में ..सुना ये था की इश्क इंसान को निकम्मा बना देता है.. जिसे इश्क़ हो जाये वो किसी काम का नहीं रहता…
पर क्या पता था…इस इश्क़ की आरज़ू मुझे स्कूल की हेड गर्ल बना देगी… कभी किताबो की तरफ रुख न करने वाली लड़की आज हर विषय में टॉप करेगी… की कल तक किसी कार्नर बेंच पे बैठने वाली मैं आज सबकी आंखों में आइडियल गर्ल के रूप में छॉ जाउंगी..ये इश्क़ का कमाल नहीं तो और क्या है|
सौरभ को पहली नज़र में ही मैंने अपना बना लिया था.. कोई लड़की उससे बात तो क्या उसकी बेंच पे बैठे भी तो मुझे बर्दाश्त नहीं था..जाने क्या सम्मोहन था उसकी आवाज़ में…
मुझे आज भी याद है जब उसने पहली बार गिरी हुई पेन उठाने के लिए मेरा नाम पुकारा था… अगर मुझे कोई एक पल की भी जिंदगी दे तो मैं वही लम्हा दुबारा जीना चाहुगी…
पर करे तो क्या करे… …

School Life Love Story in Hindi | वो  पहली चिठ्ठी   Read More

Girlfriend Ko Manane ke Liye Love Letter – लव लेटर से पल में मनाये GF को

Girlfriend ko Manane ke Liye Love Letter

दोस्तों, ज़िन्दगी में प्यार की बहुत अहमियत है. कई लोगों को अपना प्यार बड़ी आसानी से मिल जाता है, कई लोगों को बड़े जतन करने के बाद मिलता है लेकिन कई लोग ऐसे भी होते है जिन्हे अपना सच्चा प्यार मिल नहीं पाता। मेरा नाम ऋषि है और मुझे जब मिताली से प्यार हुआ था, मुझे ऐसा लगता था मैं दुनिया का सबसे खुश लड़का हूँ. फ्रेंड्स, जहाँ प्यार है वहां तकरार भी होती है और ये बिलकुल नार्मल है. इसीलिए हम आपके लिए लाये है Girlfriend ko Manane ke Liye Love Letter.

shayarisms4lovers.in- New Hindi Shayari on Love, Sad, Funny, Friendship, Bewafai, Dard, GoodMorning, GoodNight, Judai, Whatsapp Status in Hindi

अगर आपकी गर्लफ्रेंड आपसे नाराज़ है तो जल्दी से उसे मनाने के लिए एक लव लेटर लिखिए, अपना दिल खोल कर रख दीजिये उसके सामने ताकि उसे एहसास हो जाए कि आप उससे कितना प्यार करते हो. तो चलिए अपनी गर्लफ्रेंड के लिए या उसे मनाने के लिए आप इस लव लेटर का इस्तेमाल कर सकते है. जब मेरी गर्लफ्रेंड मुझसे नाराज़ थी तो मैंने ये लेटर उसे लिख कर दिया था और उसने फ़ौरन मुझे माफ़ कर दिया था.

Dear Mitali,

I Am Sorry….मुझे माफ़ कर देना क्यूंकि मैं तुम पर गुस्सा हुआ. मुझे पता है कि मैंने तुम्हारा दिल दुखाया और मैं तुमसे वादा करता हूँ कि ऐसा दोबारा कभी नहीं होगा. मिताली….जब से तुमने मुझे फ़ोन करना बंद किया है, मुझे ना नींद आती है और ना ही भूख लग रही है, प्लीज वापिस आ जाओ ना.

तुम्हारे बिना रहने की मैं सोच भी नहीं सकता. तुम्हारे बिना मेरी ज़िन्दगी black & white हो गयी है और सिर्फ तुम ही हो जो मेरी ज़िन्दगी में रंग भर सकती हो. मुझे पता है कि तुम मुझसे बहुत नाराज़ हो लेकिन मैं तुमसे प्रॉमिस करता हूँ कि ऐसा फिर कभी नहीं होगा. कई बार ज़िन्दगी हमें ऐसे मोड़ पर ला कर खड़ा कर देती है जो हमने कभी सोचा नहीं था, कई बार गुस्सा आ जाता है लेकिन मिताली प्लीज मुझे एक चांस तो  न…

मैं तुम्हे बताना चाहता हूँ कि मैं चाहे जहाँ भी रहु, कुछ भी करू, मैं हमेशा तुम्हारे बारे में ही सोचता रहता हूँ, मैं हमेशा उस वक़्त के बारे में सोचता हूँ जब तुम मेरे साथ होती हो और कसम से जब तुम मेरे साथ होती हो तो मैं अपने आप को इस दुनिया का सबसे खुश इंसान समझता हूँ.

तुम्हारी आँखें मुझे आसमान के सितारों से

Girlfriend Ko Manane ke Liye Love Letter – लव लेटर से पल में मनाये GF को Read More

पत्नी के लिए प्यारी सी लव लेटर – Love Letter for Wife in Hindi

पत्नियां हम पतियों के लिए इतना कुछ करती है और इसलिए ये हमारा फ़र्ज़ है कि हम उन्हें कुछ special होने का एहसास दिलाये. इसीलिए हम आपके लिए लाये है love letter for Wife in Hindi. पत्नी के लिए ऐसा प्रेम पत्र लिखोगे तो आप अपना प्यार का इज़हार भी कर पाओगे और पत्नी को बहुत अच्छा भी फील होगा. आजकल मोबाइल का युग है लेकिन फिर भी लव लेटर की बात ही कुछ और है. एक कागज़ में अपने इमोशंस डाल कर लिखने में जो बात है वो फेसबुक या WhatsApp के मैसेज में कहाँ. अगर आप भी अपनी पत्नी के लिए कोई ख़ास लव लेटर लिखना चाहते है तो इस पत्र से आपको काफी आईडिया मिल जाएगा.

Love letter for wife in hindi

Love Letter for Wife in Hindi

Dear रश्मि ( आपकी पत्नी का नाम ),

आज जब मैं सुबह सो कर उठा तो रोज़ की तरह तुम बिस्तर पर नहीं थी, मुझे पता है कि तुम घर का काम करने के लिए जल्दी उठ जाती हो लेकिन जब भी तुम मुझे उठती हो तो मेरा दिन बहुत अच्छा निकलता है. जब हमारी नयी-नयी शादी हुई थी तो हम दोनों एक साथ उठते थे, साथ में चाय पीते थे और कई बार तो हम सुबह मॉर्निंग वाक के लिए भी जाते थे, कितने प्यारे दिन थे वो, मैं आज भी वो दिन याद करता हूँ और सोचता हूँ कम से कम संडे को हमें इकठ्ठा सुबह की सैर के लिए जाना चाहिए.

रश्मि…मैं हैरान हूँ कि मुझे जो भी चाहिए होता है उसका तुम्हे पहले से कैसे पता चल जाता है. सच में, तुम अंतर्यामी हो. और जब भी तुम मुझे दिन में फ़ोन करती हो जब मैं ऑफिस में होता हूँ तो मेरा दिल करता है कि सब काम छोड़ तुम्हारे पास आ जाऊ. सच में रश्मि, दोपहर जे वक़्त फ़ोन करके तुम्हारा वो पूछना “खाना खा लिया आपने?” मुझे बहुत अच्छा लगता है लेकिन मेरी धर्म पत्नी जी, दोपहर को थोड़ा आराम भी कर लिया करो वरना तुम्हारी कमर दर्द और ज़्यादा बढ़ जायेगी.

रश्मि….तुम मुझे आज भी बिलकुल वैसी ही लगती हो जैसे शादी की पहली रात लग रही थी, उतनी ही सुन्दर और उतनी ही प्यारी. काफी दिन हो गए हमें कही बाहर घूमे को, बहुत जल्द हम तुम्हारी पसंदीदा रेस्टोरेंट में जाएंगे, मुझे पता है तुम्हे वहां का पिज़्ज़ा बहुत अच्छा लगता है. जब हमारी शादी हुई थी तो मैं तुम्हे थोड़ी-थोड़ी देर के बाद मैसेज

पत्नी के लिए प्यारी सी लव लेटर – Love Letter for Wife in Hindi Read More

इमोशनल सच्ची कहानी – खुशियों का कोई सौदा नहीं होता Emotional Sachi Kahani

Emotional Sachi Kahani 
Submitted by Sudha Thakur

मेरा नाम सुधा ठाकुर है और मैं कानपूर में रहती हूँ. मैं एक कास्मेटिक की दुकान चलती हूँ. मेरे पति ने ये दुकान शुरू की थी लेकिन 4 साल पहले उनका देहांत हो गया था इसलिए अब मैं ही ये दूकान चलाती हूँ. दुकान पर एक सेल्स गर्ल भी है जो काफी अच्छा काम करती है और मैं भी उसे बेटी की तरह ही मानती हूँ.

शाम के 7 बजे का वक़्त था कि दूकान पर पति पत्नी आये और वो सेल्स गर्ल से कुछ बाते कर रहे थे. मैंने ज़्यादा ध्यान नहीं दिया। तभी सेल्स गर्ल ने ऊंची आवाज़ में कहा “आप सुबह भी आये थे, मैंने तब भी कहा था कि ये कंगन 1000 रुपये से कम नहीं मिलेंगे, चले जाईये अब”. मैंने जब ये सुना तो मुझे कुछ याद आ गया. मुझे वही वक्त याद आ गया जब मेरी नयी नयी इनके साथ शादी हुई थी. उस वक़्त हमारी फाइनेंसियल हालत ज़्यादा अच्छी नहीं थी. आज भी मुझे याद है मैं और मेरे पति पहली बार घर से बाहर घूमने गए थे और एक दुकान पर मुझे चूडियो का सेट पसंद आ गया था.

khushi kahani

Sachi Kahani in hindi

वो इतनी प्यारी चूडिया थी कि देखते ही मैंने अपने पति को कहा था “कितनी प्यारी चूडिया है, ये ले लू”

उस वक़्त वो चूडियो का सेट 10 रुपये का था.

मेरे पति ने दुकान वाले से पुछा “भाई साहब कितने का है ये चूड़ियों का सेट?”

दुकानदार ने कहा “10 रुपये का”

मेरे पति ने अपना पर्स देखा और कहा “भाई साहब 5 रुपये का दे दो”

दूकानदार ने मना कर दिया था. मैं समझ गयी थी कि इनके पास इतने पैसे नहीं है इसलिए मैंने भी कह दिया “चलिए रहने दीजिये, ये महंगा लगा रहा है”

लेकिन मेरे की आँखों में मेरी इच्छा पूरी ना करने का अफ़सोस मैं साफ़ देख रही थी. मेरे पति ने 3 – 4 बार दुकानदार से मिन्नतें की लेकिन वह नहीं माना.

Sachi Kahani

उस दिन मेरे पति की आँखों में मैंने पढ़ लिया था कि ये मुझसे बहुत प्यार करते है और मेरे लिए कुछ भी कर सकते है. उस दिन के ठीक 2 महीने बाद मेरे पति ने उसी दुकान से मुझे वही चूड़ियों का सेट खरीद का दिया था. मैं समझ सकती थी कि वो इन चूड़ियों को कभी भूले ही नहीं थे, बस उन्हें इस बात का अफ़सोस था कि …

इमोशनल सच्ची कहानी – खुशियों का कोई सौदा नहीं होता Emotional Sachi Kahani Read More

सच्ची प्रेम कहानी Part I – Swapnil

मस्ते आप सभी को , मेरा नाम स्वप्निल है मैं बिलासपुर छत्तीसगढ़ का रहने वाला हूँ मैं अपनी सच्ची कहानी यहाँ लिखने जा रहा हूँ क्यूंकि यह मेरी पहली कहानी है तो अगर कोई गलती हो जाये तो माफ़ कीजियेगा.

यह कहानी उस समय की है जब मैं अपने मामाजी के घर गया हुआ था उस समय मेरी मौसी की शादी थी
तो मेरी फॅमिली में मैं मेरी माँ , दीदी , और बड़ा भाई गए थे  मेरे मामाजी का कंप्यूटर सेण्टर है वो कंप्यूटर सिखाते भी हैं .मैं अपने मामाजी के साथ ही उनके सेंटर पर चला जाता था और रात को घर आता था . एक उनके सेण्टर में एक लड़की आई थी उनका नाम गरिमा था वो बहुत ही सादगी से रहने वाली लड़की थी मैंने जब उन्हें पहली बार देखा था तो वो नीले रंग के सलवार सूट में सेण्टर में आई थी. वो उम्र में मुझ से काफी बड़ी थी , मैं आप सभी को गरिमा जी के बारे में बता देता हूँ वो एक सादगी से रहनी वाली , बड़ी बड़ी आखे  , चेहरे पर हलकी सी मुस्कान , बाल अच्छी तरह से बंधे हुए थे , हाथ में एक डायरी
जिसमे वो पोएम लिखा करती थी उन्हें पोएम लिखना बहुत पसंद था . वो अक्सर अपनी ३ सहेलियों के साथ आया करती थी  , उस दिन भी वो अपनी ३ सहेलियों के संत आई थी . तब मैंने उन्हें पहली बार देखा था बहुत ही सुन्दर लग रही थी  फिर जब उनकी क्लास ख़तम हुई तो मेरे मामाजी ने मुझ से कहा की जाओ इनको इनके घर छोड़ आओ और इनसे Hindi Typing वाला पेज ले आना , मैं उनके साथ चला गया उन्हें घर छोड़ के और वो पेज लेकर लौट आया , जब मैं और गरिमा जी घर जा रहे थे तो मुझे अन्दर ही अन्दर अच्छा लग रहा था शायद यह पहली बार था की मैं इतनी सुन्दर लड़की के साथ जा रहा था उनका घर सेण्टर से थोड़ी ही दूर पर था .

मैं रात को घर आ कर बहुत खुस था फिर आगले दिन वो शाम को ४ बजे आयें तो मैं उसी कंप्यूटर पर बैठा था जिसमे वो बैठा करती थी मेरे मामाजी ने कहा की छोटू तू उठ और इनको बैठने दे तो मैं उठ गया और वो अपना काम करने लगीं उस दिन हमारे सेण्टर में इन्टरनेट नही चल रहा था. तो उन्होंने मुझसे कहा …

सच्ची प्रेम कहानी Part I – Swapnil Read More

इन्तजार – Arvind

ऐ हवा …..

जाकर उसका दिल धडका दें
उसे याद दिला दें

कि कोई हैं जो उसे
हर पल याद करता हैं ……इन्तजार – Arvind

किसी ने सही कहा है की हद से ज्यादा प्यार शायद अधूरा रह जाता है ।

दिल्ली……!   जितनी रफ्तार से यह शहर चलता है उतनी ही थमी थमी सी जिंदगी है यहां की। इन लोगों को देखकर ऐसा लगता है जैसे इन्हें इंतजार है किसी के आने का| इन सबके बीच मैं भी इंतजार कर रहा था। लेकिन किसी के आने का नहीं बल्कि किसी के पास जाने का।

अब मेरे मन में थोड़ी सी भी उलझन नहीं थी बस इंतजार था, उससे मिलने का। अगर थोड़ी बहुत उलझन बची हुई थी तो उसमें इतना दम नहीं था कि वह मुझको रोक सके| मुझे लग रहा था कि मैं चिल्ला-चिल्लाकर सारी दुनिया से कह दू कि मुझे उससे प्यार हो गया है। और कल उससे इजहार करने वाला हूं।

पर बताऊं तो कैसे? काश मेरी कोई छोटी बहन होती या फिर कोई दोस्त! जिससे मैं अपने मन की बात कह पाता। मेरा मन किया कि मम्मी को बता दूं। लेकिन मेरी उलझन तब और बढ़ गई! जब मुझे ख्याल आया कि-अगर उन्हें पता चला तो वह मुझे घर से बाहर भी न निकलने देगे। उन्होंने गांव जरूर छोड़ा था लेकिन वहां के विचार नहीं।

वैसे भी पापा मम्मी इन चीजों में कहां विश्वास रखते है और मेरी कहां सुनने वाले थे। हम गांव से आकर शहर में जरूर रहते है! और पापा एक उच्च पद पर सर्विस मैन भी है। लेकिन उनके खयालात अभी भी गांव वाले हैं। मैं यही सोच कर डर जाता हूं|लेकिन करू तोह क्या करूँ! अपनी love story किसके साथ शेयर करू।

लेकिन में उसे भुला भी तो नही सकता हूं। क्योंकि उसको इतना पसंद जो करता हूं। खैर छोड़िए! यह उलझन दिमाग में लिए मैं अपने कमरे में आ गया। और अपना हेडफोन लगाकर अपने कमरे गाने सुनने लगा और डांस करने लगा। कुछ समय हुआ ही था।  तभी थोड़ी देर में दूसरे कमरे से आवाज आई -“आज सोना नहीं है क्या? बेटा 11:00 बज रहे हैं! सुबह कॉलेज नहीं जाना क्या?”

लेकिन आज मेरे कदम कहां रुकने वाले थे। इतनी खुशी जो हो रही थी कि शब्दो मैं बयान करना मुश्किल था। मैंने नाचते हुए ही कहा- “हां मम्मी बस सोने ही वाला हूं आप सो जाइए|”अगर आज मेरे कोई नाचने का कोई मजाक उड़ाता तो भी मुझे आज कोई परवाह …

इन्तजार – Arvind Read More

Heart broken – Priyanka

Hi frnd mera naam priyanka hai aaj mai apko meri ek dost ki story batane ja rehi hu. Mere frnd ka naam niki hai (name change) uske bf ka naam raj hai (name change).

Un dono ka relation fb se start hua. Raj usse 2 saal chota hai. Starting me unloge ki relationship achi chal rahi thi par dheere dheere undono ke bich me misunderstanding create hona shuru ho gayi. Niki raj se bohot love krti hai isliye niki raj ki har baat ko trust krti thi. Raj delhi me rehta tha or niki assam me.

Jab niki delhi gaye uski study ke liye tab usne raj ko nai bataye ki wo delhi me hai. Use surprise dena ke liye niki raj ke birthday ke din uske ghar me gaye to usne dekha ki raj married hai. Tab wo bohot hurt huyi. and uske lye sab kuch khatam ho gaya. Niki abhi bhi raj sa bohot love krti hai. Par usko pata hai ki raj ne uske saath bohot cheat kiya. At least frnds mai apko yeh suggestion krna chati hu kisi ko bhi itna jaldi trust mat krna. Pehla usko jano and uska background check kro uske baad relationship me jao.…

Heart broken – Priyanka Read More

Maine to bs pyar kiya – Anshuman

Hi frnds,my name is Anshuman (ashu), now i m in bba 4th semester,I m from Ranchi capital of Jharkhand. M here to share some precious moment of my life. ye kahani hai tab ki jab main class 8th me tha main saraswati sishu vidya mandir me padha karta tha.us samay mujhe naye-naye Amit name ladke se dosti hui thi, wo mera best frnd ban chuka tha. acchanak ek din (Amit) mere pas aakar bola mujhe apni gf se milna hai tum v chalo mere sath, mai uske sath jaane ke liye taiyar ho gaya, humlog ek sath uski gf se milne gaye, waha jane ke bad pata chala ki uski gf ki dost v sath me aa rhi hai, kuch der humlogon ne restaurant me unka intezar kiya.

Uske bad wo log waha aye humne corner ka table liya tha, kuch der bad main waha se uth kr bahar aa gaya,thodi der main uski gf ki frnd jiska naam (annu) tha wo bhi bahar aa gayi,wo restaurant k gate k bahar khadi thi aur mai usse kuch hi duri par khada tha, lagbhag 5 min k bad wo mere paas ayi aur unhone mera naam pucha, (us samay main first time kisi ladki se baat kar rha tha,kyonki main ladikyon se bhaut sharmaya karta tha) maine apna naam bataya uske baad wo meri gf k bare main puchne lagi, maine kaha meri koi gf nai hai, itne mein hi mera dost or uski gf bahar aya gaye, uske baad humlog ne unhe bye bola or apne ghar aya gaye.

Agle din mere cell p ek unknown no se call aya maine call rec kiya, wo koi ladki thi maine usse pucha ap kaun wo boli (annu), mai ladki ka awaz aur uska naam sun kar chauk gaya maine unse pucha kaun (annu), wo boli amit ki gf ki frnd, aur aise hi humari baat suru ho gayi us din k baad daily 8 bje raat mein unka call ata tha, hum kafi ache dost ban chuke the, 2 mnth tak aise hi chalta rha, baat karte-karte mujhe unse pyar ho gaya, par main batane se darta tha, maine amit ko bataya, usne bola ki propose kr do, mujhe aaj bhi yaad hai wo 23rd aug ki raat thi, har raat ki tarah main us raat bhi unke call ka intezar kar rha tha, thik 8bje unka call aya, humne kuch …

Maine to bs pyar kiya – Anshuman Read More