हमारे दिल ने अगर हौसले किये होते – Noshi Gilani ki Shayari

मेरी सांसें

यह नामुमकिन नहीं रहेगा , मुक़ाम मुमकिन नहीं रहेगा
ग़रूर लहजे में आ गया तो कलाम मुमकिन नहीं रहेगा
तुम अपनी साँसों से मेरी सांसें अलग तो करने लगे हो लेकिन
जो काम आसान समझ रहे हो वो काम मुमकिन नहीं रहेगा

Meri Saansain

Yeh Nammumkin Nahi rahega, Muqaam Mumkin Nahi rahega
Gharoor Lehjay Mein Aa Gaya To Kalaam Mumkin Nahi rahega
Tum Apni Saanson Se Meri Saansain Alag To Karnay Lagay ho Laikin
Jo Kaam Aasaan Samajh Rahay ho Wo Kaam Mumkin Nahi rahega…


एहले-ऐ-इश्क़

कभी यह चुप में कभी मेरी बात बात में था
तुम्हारा अक्स मेरी सारी क़ायनात में था
हम एहले-ऐ-इश्क़ बहुत बदगुमाँ होते हैं
इसी तरह का कोई वस्फ तेरी ज़ात में था ..

Ehle-ae-ishq

Kahbi yeh chup main kabhi meri baat baat main tha,
Tumhara akss meri saari kayenaat mein tha,
Hum ehle-ae-ishq bahut bdgumaan hote hain,
isi tarah ka koi vasf teri zaat mein tha…


अगर हौसले किये होते

हमारे बस में अगर अपने फैसले होते
तो हम कभी के घरों को पलट गए होते

करीब रह के सुलगने से कितना बेहतर था
किसी मुक़ाम पर हम तुम बिछड़ गए होते

हमारे नाम पे कोई चिराग तो जलता
किसी जुबान पर हमारे भी तजकरे होते

हम अपना कोई अलग रास्ता बना लेते
हमारे दिल ने अगर हौसले किये होते

Agar Hoslay Kye Hotay

Hamaray Bas Mein Agar Apne Faislay Hotay
Tou Hum Kubhi Ke gharon Ko Palat Gaye Hotay

Qareeb Reh Ke Sulaghnay Se Kitna Behtar Tha
Kisi Muqaam Per Hum Tum Bicharr Gaye Hotay

Hamaray Naam Pe Koi Charaagh Tou Jalta
Kisi Zabaan Pe Hamaray Bhi Tazkaray Hotay

Ham Apna Koi Alag Raasta Bana Letay
Hamaray Dil Ne Agar Hoslay Kye Hotay……

Read More

छोड़कर तेरी चाहत पराई लगे दुनिया सारी – तेरे इश्क़ में

बला है इश्क़

कहर है , मौत है , सजा है इश्क़
सच तो यह है बुरी बला है इश्क़
करते सब है पर सब से हारा है इश्क़

Blaa Hai IshQ

Kehar Hai, Mout Hai, Saja Hai IshQ
Sach To Yeh Hai Buri Blaa Hai IshQ
karte sab hai par sab se hara hai ishq


आप की मुस्कुराहट

मेरी किसी खता पर नाराज़ मत होना
अपनी प्यारी सी मुस्कान कभी न खोना
सकून मिलता है देख कर आप की मुस्कुराहट को
मुझे मौत भी आये तो भी तुम मत रोना

Aap ki Muskurahat

Meri kisi khata par naraz mat hona
Apni pyari si muskan kabhi kabhi na khona
Sakoon milta hai dekh kar aap ki muskurahat ko
Mujhe mout bhi aaye to bhi tum mat rona


मेरा इंतज़ार

मुझे भी कोई याद कर रही होगी
अपने सपनो मैं वो मुझे सजा रही होगी
कोई कहे या न कहे मगर
वो मेरा इंतज़ार ज़रूर कर रही होगी

Mera Intezar

Mujhe bhi koi yaad kar rahi hogi
Apne sapno main wo mujhe saja rahi hogi
Koi kahe ya na kahe magar
Wo mera intezar zaroor ka rahi hogi


ज़िन्दगी तेरे नाम

हर बला से खूबसूरत तेरी शाम कर दूँ
प्यार अपना मैं तेरे नाम कर दूँ
मिल जाये अगर दोबारा यह ज़िन्दगी
तो हर बार यह ज़िन्दगी तेरे नाम कर दूँ

Zindagi Tere Naam

Har bla se khubsurat teri sham kar du
pyaar apna main tere naam kar du
Mil jaye agar dobara yeh zindagi
To har bar yeh zindagi tere naam kar du


छोड़कर तेरी चाहत

ज़िन्दगी कुछ अधूरी सी लगे तेरे प्यार के बिना
मुनासीब नहीं है जीना मेरे लिए तेरे साथ के बिना
छोड़कर तेरी चाहत पराई लगे दुनिया सारी
इस दिल ने सीखा नहीं धड़कना तेरी याद के बिना

Chodkar Teri Chahat

Zindagi kuch adhuri si lage tere pyaar ke bina
Munasib nahi hai jeena mere liye tere saath ke bina
Chodkar teri chahat parai lage duniya saari
Is dil ne seekha nahi dhadkna teri yaad ke bina…

Read More

हीर शायरी – वारिस शाह

लिखी रांझे नाम ये हीर हुंदी
 

की मुक जाना सी वारिस शाह दा,
लिखी रांझे नाम ये हीर हुंदी .

वख रूह नालो रूह न हो सकदी ,
न दिल चो वख तस्वीर हुंदी .
नशा अख दा इक वारी चढ़ जावे ,
पूरी इश्क़ दी फिर तासीर हुंदी .

झूठा रब्ब नू तुस्सी केहन वालयो ,
निगाह मेरी नाल ये देख लावो ,

झूठ अख कदे नी कह सकदी ,
निगाह यार दी निगाहे -ऐ -पीर हुंदी .

तेरी अख तो ओहले मैं हुँदा न ,
मंदी ऐनी ये न तक़दीर हुंदी .

Likhi Ranjhe Naam Je Heer Hundi
 

Ki Mukk Jana Si Waris Shah Da,
Likhi Ranjhe Naam Je Heer Hundi.

Vakh Rooh Naalo Rooh na Ho Sakdi,
Nai Dil Cho Vakh Tasveer Hundi.

Nasha Akh Da Ik Vaari Chadh Jave,
Poori Ishq Di Fer Taseer Hundi.

Jhootha Rabb Nu Tussi Kehen Waleyo,
Nigah Meri Naal Je Dekh Lavo,

Jhooth Akh Kade Ni Keh Sakdi,
Nigah Yaar Di Nigahe-E-Peer Hundi.

Teri Akh To Ohle Manu Hunda Na,
Maadi Enni Je Na Taqdeer Hundi.…

Read More

कोई तो बात है उस मैं – फैज़ अहमद फैज़ शायरी

कोई तो बात है उस मैं “फैज़ अहमद फैज़”

अब के यूं दिल को सजा दी हम ने
उस की हेर बात भुला दी हम ने

एक एक फूल बहुत याद आया
शाख -ऐ -गुल जब वो जला दी हम ने

आज तक जिस पे वो शर्माते हैं
बात वो कब की भुला दी हम ने

शहर-ऐ-जहाँ राख से आबाद हुआ
आग जब दिल की बुझा दी हम ने

आज फिर याद बहुत आया वो
आज फिर उस को दुआ दी हम ने

 

कोई तो बात है उस मैं फ़राज़
हर ख़ुशी जिस पे लूटा दी हम ने

हिंदी और उर्दू शायरी – फैज़ अहमद फैज़ शायरी – कोई तो बात है उस मैं फ़राज़

Koi To Baat Hai Us Main “Faiz”

Ab Kay Yoon Dil Ko Saza Di Hum Nay
Us Ki Har Baat Bhula Di Hum Nay

Ek , Ek Phool Bahut Yaad Aaya
Shakh-AE-Gul Jab Wo Jala Di Hum Nay

Aaj Tak Jis Pay Wo Sharmatay Hain
Baat Wo Kab Ki Bhula Di Hum Nay

Sheher-AE-Jahan Raakh Say Abaad Hua
Aag Jab Dil Ki Bujha Di Hum Nay

Aaj Phir Yaad Bahut Aaya Wo
Aaj Phir Us Ko Dua Di Hum Nay

Koi To Baat Hai Us Main Faiz
Her Khushi Jis Pay Luta Di Hum Nay

Hindi and urdu shayari – Faiz Ahmed Faiz Shayari – Koi To Baat Hai Us Main Faiz

शब -ऐ -ग़म

दोनों जहां तेरी मुहब्बत में हार के
वो जा रहा है कोई शब -ऐ -ग़म गुज़ार के

हिंदी और उर्दू शायरी – शब -ऐ -ग़म शायरी – एक ग़ैर के पहलु में हमारा प्यार होगा

Shab-E-Gham

Dono jahaan teri muhabbat mein haar ke
wo jaa rahaa hai koi shab-e-Gham guzaar ke

Hindi and urdu shayari – Faiz Ahmed Faiz Shayari – shab-e-Gham
Read More

जिंदगी की रंग-ओ-बू – Shayari of Life

मंजूर कब थी हमको वतन से दूरियां

आईना-ऐ-ख़ुलूस-ऐ-वफ़ा चूर हो गए
जितने चिराग-ऐ-नूर थे बे नूर हो गए
मालूम यह हुआ की वो रास्ते का साथ था
मंज़िल करीब आई और हम दूर हो गए
मंजूर कब थी हमको वतन से यह दूरियां
हालात की जफ़ाओं से मजबूर हो गए
कुछ आ गयी हमे एहले-ऐ-वफ़ा ऐ दोस्तों
कुछ वो भी अपने हुस्न पे मगरूर हो गए
चरागों की ऐसी इनायत हुई हफ़ीज़
के जो ज़ख़्म भर चले थे वो नासूर हो गए

Manzoor Kab Thi Humko Watan Se Dooriyan

Aaina-AE-Khuloos-E-Wafa Churr Ho Gaye
Jitne Chirag-AE-Noor The Benoor Ho Gaye
Malum Yeh Hua Ki Wo Raaste Ka Sath Tha
Manzil Kareeb Aayi aur Hum Door Ho Gaye,
Manzoor Kab Thi Humko Watan Se Yeh Dooriyan
Haalaat Ki Jafaoon Se Majboor Ho Gaye
Kuch Aa Gayi Hume Ahl-AE-Wafa Mein Ae dosto
Kuch Wo Bhi Apne Husn Pe Magroor Ho Gaye
Charagon Ki Aisi Inayaat Hui Hafeez
Ke Jo Zakham Bhar Chale the Wo Nasoor Ho Gaye


ऐ इंसान जरा संभल के चल

कल रात हम गुनगुनाते निकले दिल में कुछ अरमान थे
एक तरफ थे जंगल , एक तरफ श्मशान थे
रस्ते में एक हड्डी पैरो से टकराई , उस के यह बयान थे
ऐ इंसान जरा संभल के चल , वरना कभी हम भी इंसान थे

Ae insaan jara sambhal ke chal

Kal raat hum gungunate nikle dil mein kuch armaan the
Ek taraf thi jangal the, ek taraf shmshan the
Raste mein ek haddi paon se takrai, us ke ye bian the
Ae insaan jara sambhal ke chal, warna kabhi hum bhi insaan the


मुहब्बत के सिवा कुछ भी नहीं

ज़िन्दगी क़ैद-ऐ-मुसलसल के सिवा कुछ भी नहीं
किया था जुर्म-ऐ-वफ़ा इस के सिवा कुछ भी नहीं
जीने की आरज़ू में रोज़ मर रहे हैं
दवा तेरी मोहब्बत के सिवा कुछ भी नहीं
खींचती है अपनी तरफ गुलशन की रंग-ओ-बू
ख्वाइश फूलों मैं खुशबू के सिवा कुछ भी नहीं
भूल जाना एक नय्मत है खुदा की इसलिए
भूलना तेरा हकीकत के सिवा कुछ भी नहीं
थोड़ा है फ़र्क़ बस इंसान और हैवान में
बाकि इस दुनिया में मुहब्बत के सिवा कुछ भी नहीं

Mohabbat ke siwa kuch bhi nahi

Zindagi qaid-ae-musalsal ke siwa kuch bhi nahi
Kiya tha jurm-ae-wafa iss ke siwa kuch bhi nahi
Jeenay ki arzo main roz mar rahey hain
Dawa teri mohabbat ke siwa kuch bhi nahi
Khinchti hai apni taraf gulshan ki rang-o-bu
Khwaish phoolon main …

Read More

तुम वो दुआ हो – ईद शायरी

मेरी मुहब्बत

अब तो मेरी मुहब्बत भी मुझसे खफा हो गयी
अब तो जो होगा मेरी जान बस तमाशा होगा

Meri Mohabbat

Ab to Meri Mohabbat bhi mujse khfa ho gayi
Ab to Jo hoga meri jaan bas tamasha hoga


दिल से किसी को चाहा था

अपनी फितरत बदली है मैंने तुम्हे अपना बनाने के लिए
करेगें याद लोग सदियों तक किसी ने दिल से किसी को चाहा था

Dil Se kisi ko Chaha Tha

Apni Fitrat Badli Hai meine Tumhe Apna Banane Ke liye
Karegein Yaad log Sadiyun Tak Kisi Ne Dil Se kisi ko Chaha Tha


मेरे दिल को गिला रहा

मेरे मुक़द्दर को भी यह गिला रहा मुझसे
के किसी और का होता तो सँवर गया होता

Mere Dil ko Gila Raha

Mere Muqaddar Ko Bhi Yeh Gila Raha Mujh Se
Ke Kisi Aur Ka Hota To Sanwar Gaya Hota


तुम मुझे भूल जाओगी

अपनी डायरी के किसी बर्क पे मुझे तहरीर कर लो न
मैं डरता हूँ मैं नहीं रहूँगा तो तुम मुझे भूल जाओगी

Tum Mujhe Bhol Jaogi

Apni Diary Ke Kisi Waqr Pe Mujhe Tehreer Kardo Na
Mai Darta Hon Mai Nahi rahunga to Tum Mujhe Bhol Jaogi


खुदा याद नहीं

अपनी ज़िल्लत का सबब यही है शायद
सब कुछ है याद मगर सिर्फ खुदा याद नहीं

Khuda Yaad Nahi

Apni Zillat Ka Sabab Yehi Hai Shayad
Sab Kuch Hai Yaad Magar Sirf Khuda Yaad Nahi


यह मेहँदी

तेरे कहने पे लगायी है यह मेहँदी मैंने
ईद पर अब न तू आया तो क़यामत होगी

Yeh Mehndi

Tere Kehney Pe Lagayi Hai Yeh Mehndi Mainne
EID Par Ab Na Tu Aya To Qayamat Hogi


दर -ओ -दीवार

ईद के दिन सब मिलेंगे अपने अपने महबूब से
हम गले मिल मिल के रोएंगे दर -ओ -दीवार से .

Dar-o-Deewar

Eid Ke Din Sab Milainge Apne Apne mehboob Se
Hum Galy Mil Mil Ke Royenge Dar-o-Deewar Se.


तुम वो दुआ हो

तुम वो दुआ हो जिसके मांगने के बाद
यह दुआ भी मांगी जाती है के यह किसी और के हक़ में कबूल न हो

Tum Wo Dua Ho

Tum Wo Dua Ho Jiske Mangne Ke Baad
Yeh DUA Bhi Mangi Jati Hai Ke Yeh Kisi Or Ke Haq Mai Qabool Na Ho…

Read More

सुना है तड़प रहा है वो मेरी वफ़ा के लिए – Wasi Shah Shayari

मेरी वफ़ा

शरीक-ऐ-गम हुआ जो मेरे चोट खाने के बाद
खो दिया मैंने उस को पाने के बाद

मुझे नाज़ रहा फ़क़त उस अमल पर सदा
उसने मुझे अपना माना आज़माने के बाद

सुना है तड़प रहा है वो मेरी वफ़ा के लिए
शायद पछता रहा है मुझे ठुकराने के बाद

 

Meri Wafa

Shareek-ae-Gham hua jo mere chot khane ke baad
Kho diya maine us ko pane ke baad

Muje naaz raha faqat us amal par sada
Usne muje apna mana azmane ke baad

Suna hai tadap raha hai wo meri wafa ke liye
Shayad pachta raha hai mujhe thukhrane ke baad


इलज़ाम बेवफाई का

आज यूं ही सर-ऐ-राह उस से नज़र जा मिली “वासी”
वो रो दिया मुझसे नज़र मिलाने के बाद
किस किस को दूँ मैं इलज़ाम बेवफाई का
हर कोई छोड़ गया मुझको अपनाने के बाद .

ilzaam BEWAFAI ka

Aj youn he Sar-ae-Raah us se nazar ja mili “WASI”
Wo ro Diya mujhse nazar milane ke baad
Kis kis ko doon ilzaam BEWAFAI ka
Har koi chor gaya mujko apnane ke baad.


बिखर जाने दो

मैं यूँ मिलू तुझसे के तेरा लिबास बन जाऊं
तुझे बना के समंदर और खुद प्यास बन जाऊं
अपने पहलूँ में मुझे टूट के बिखर जाने दो
कल को शायद मुमकिन नहीं के मैं तुमको पाऊँ

Bikhar Jane Do

Mein Yun millon Tujhse Ke Tera Libaas Ban Jaon
Tujhe bna Ke Samandar Aur Khud Pyaas Ban Jaon
Apne Pehloon Mein Mujhe Toot Ke Bikhar Jane Do
Kal Ko Shayad Mumkin Nahi Ke Mein Tumko Paon…

Read More

इश्क़ का इम्तिहान – Two Lines Hindi and Urdu Shayari

जब भी ख़्याल आता है

कुछ तो था जो आज भी जेहन से गुजरता है
उदास कर जाता है जब भी ख़्याल आता है

Jab Bhi kyal Ata hai

kuch to tha jo ajj bhi jehan se gujrta hai
udas kar jata hai jab bhi kyal ata hai


जब तक़दीर तू ही लिखता है

क्यों मिलाता है दो दिलो को ऐ खुदा
जब तक़दीर तू ही लिखता है तो मिलाता क्यों है

Jab Taqdeer tu hi Likhta hai

kyon milata hai doo dilo ko ae khudaa
jab taqdir tu hi likhta hai to milata kyon hai


जो खो गया वो मोहबत

न कर तौबा मोहबत की ही तो जीत होती है
जो खो गया वो मोहबत जो पा लिया वो मुक़दर

Jo kho gaya wo mohabat

Na kar tauba mohabat ki hi to jeet hoti hai
Jo kho gaya wo mohabat jo pa liya wo muqadar


इश्क़ का इम्तिहान

क्यों यह हुस्न वाले इतने मिज़ाज़ -ऐ -गरूर होते है
इश्क़ का लेते है इम्तिहान और खुद तालीम -ऐ -जदीद होते है

Ishq ka Imtihaan

Kyon yeah husn wale itne mizaz-ae-groor hote hai
ishq ka lete hai imitihan aur khud Taleem-e-Jadeed hote hai…

Read More