Pilot कैसे बनें? पायलट बनने का पूरा तरीका हिंदी में

आकाश में उड़ान भरने की चाह तो हर कोई रखता है। लेकिन कहते है ना बड़ी सफलता पाने के लिए बड़ा प्रयास करना भी जरूरी होता है।

इस प्रोफेशन के लोगो की सैलरी काफी अच्छी होती है। इस क्षेत्र के लोगो को दुनिया के हर हिस्से में घूमने का मौका दिया जाता है।

नीले आकाश में उड़ान भरने का ख्वाब अपने आप में सुख देने वाला अनुभव है। इन सब कारणो के कारण ही पायलट के प्रोफेशन को सबसे अच्छा प्रोफेशन माना जाता है।

आमतौर पर छात्रों प्रश्न पूछते है कि पायलट कैसे बन सकते है? पायलट बनने के लिए क्या करना होता है? वही प्रोफेशन में आने के लिए पढ़ाई के संबध में भी प्रश्न पूछे जाते है

जैसे कि पायलट बनने के लिए कौन सी डिग्री चाहिए? इसके अलावा अंतिम प्रश्न जो छात्र अक्सर पूछते है कि इसकी पढ़ाई के दौरान कितना खर्च करना पड़ता है।

पायलट बनने का पूरा तरीका हिंदी में

पायलट बनने के लिए शैक्षिक योग्यता

1.प्रतियोगी छात्र का भारतीय नागरिक होना अनिवार्य है।

2.वही शैक्षिक योग्यता के रूप में छात्र का इंटरमीडिएट में साइंस से PCM विषयो से कम से कम 50% अंकों के साथ पास होना अनिवार्य है।

3.कमर्शियल पायलट की उम्र 18 से 32 वर्ष की होनी चाहिए।

4.फोर्स के पायलट की बात करें तो इसके लिए आयु सीमा 16.5-19 वर्ष या 20-24 वर्ष के आस पास होनी चाहिए।

5.पायलट की चाह रखने वालो को यह भी ध्यान देने की आवश्यकता है कि उसकी आंखे पूरी तरह ठीक हो यानी की उसकी ऑय विज़न 6/6 होना बेहद आवश्यक है।

6.पायलट के प्रोफेशन में उसका Fluent English में बोलना जरूरी होता है।

7.पायलट की लंबाई भी बेहद महत्व रखती है। पायलट के लिए उसकी हाइट कम से कम 5 फीट होना अनिवार्य माना गया है।

जैसा की आपको ऊपर बताया जा चुका है कि युवा दो प्रकार से पायलट बन सकते है।

यदि हम मिलिट्री के अंर्तगत आने वाले Air Force Pilot आते है वही दूसरी ओर (Commercial Pilot) आगे चलकर इंडिगो, एयर इंडिया, स्पाइसजेट जैसी एयरलाइंस कंपनी में पायलट बनकर उड़ान भरते है।

पायलट के प्रकार

पायलट के क्षेत्र में जाने के लिए आपको खूब पढ़ाई करनी पड़ती है, तभी आपका करियर बन पाता है। पायलट बनने के लिए प्रतियोगी छात्र को इससे सम्बन्धित Eligibility Criteria के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिये यह compulsory होता है।

तभी आप अपने सपनों की उड़ान भर पाते हैं। पायलट कई प्रकार के होते हैं जिन्हें मुख्य रूप से दो …

Read More