अभी कुछ शेयर बाकी है – By Jaun Elia Shayari

Jaun Elia Shayari


इरादा रोज़ करता हूँ , मगर कुछ कर नहीं सकता
मैं पेशेवर फरेबी हूँ , मोहब्बत कर नहीं सकता

यहाँ हर एक चेहरे पर अलग तहरीर लिखी है
मेरी आँखों में ऑंसू हैं , अभी कुछ पढ़ नहीं सकता

मैं उस घर का मुक़ीमी हूँ , जिसे औक़ात कहतें है
मैं अपनी हद में रहता हूँ , सो आगे बढ़ नहीं सकता

अभी कुछ शेयर बाकी है , मगर लिखने नहीं हरगिज़
किसी की लाज रखनी है , सो ज़ाहिर कर नहीं सकता

*************

Irada Roz Karta Hoon,Magar Kuch Kar Nahi Sakta
Main Paisewar Fraibi Hoon , Mohabbat Kar Nahi Sakta

Yahan Har Ek Chehre Par Alag Tehreer Likhi Hai
Meri Aankhon Mein Ansu Hain, Abhi Kuch Padh Nahi Sakta

Main Us Ghar Ka Muqeemi Hoon, Jisy Oqat Kehtein Hai
Main Apni Had Mein Rehta Hoon, So Agay Badh Nahi Sakta

Abhi Kuch Sher Baki Hai, Magar Likhnay Nahi Hargiz
Kisi Ki Laaj Rakhni Hai, So Zahir Kar Nahi Sakta


नया एक रिश्ता पैदा क्यों करें हम
बिछड़ना है तो झगड़ा क्यों करें हम

ख़ामोशी से अदा हो रास-ऐ-दूरी
कोई हंगामा बरपा क्यों करें हम

यह काफी है की दुश्मन नहीं है हम
वफादारी का दावा फिर क्यों करें हम

*************

Naya Ek Rishta Paida Kyun Karein Hum
Bichhadna Hai To Jhagda Kyun Karien Hum

Khamoshi Se Ada Ho Ras-Ae-Duri
Koi Hungama Barpa Kyun Karein Hum

Yeh Kaafi Hai Ki Dushman Nahi Hai Hum
Wafadari Ka Daava Kyun Karein Hum


कितनी दिलकश हो तुम, कितना दिल-जू हूँ मैं
क्या सितम है की हम लोग मर जाएंगे

*************

Kitni Dilkash Ho Tum , Kitna Dil-Ju Hoon Main
Kya Sitam Hai Ji Hum Log Mar Jaayenge…

मुहब्बत की जुबान

मुहब्बत की जुबान

यहां तक आये हो कुछ ज़ुबान से कह दो
लफ्ज़ मुहब्बत नहीं कह सकते सलाम तो कह दो

पलकें तो उठाओ अपनी इतनी भी हया कैसी
ज़ुबान से नहीं कुछ कहते निगाह से ही कह दो

दिल को यकीन आये कहदो आप हमारे हो
अपने लिखे खतों का जवाब साथ लाए हो

खत में तो तुम ने हर बात लिख दी
आये हो तो मुस्कुरा कर इक़रार भी कर दो

माना की तारीफ से बढ़ कर ग़ज़ल तुम हो
जुम्बिश लबों को कह अपनी तक़दीर हमें कह दो

Mohabbat ki Juban

ahan tak aaye ho kuch zuban se keh do
lafz muhabbat nahi keh saktay salam to keh do

palkain to uthao apni etni bhi haya kaisi
zuban se nahi kuch kehte nighah se hi keh do

dil ko yaqeen aaye keh aap hamare ho
apne likhe khaton ka jawab sath laye ho

khat mein to tum ne har baat likh di
aaye ho to muskura kar iqraar bhi kar do

mana keh tareef se barh kar ghazal tum ho
jumbish labon ko keh apni taqdeer hamain keh do…

दोस्तों में खुलूस न ढूँढो , वरना तुम दोस्त को खो दोगे – दोस्ती की शायरी

मेरा इक शौक था

बेरुखी के तीर खाना भी मेरा इक शौक था
दोस्तों को आज़माना भी मेरा इक शौक था
दर्द उन का अपने सीने से लगाया इस लिए
के चोट खा कर मुस्कराना भी मेरा इक शौक था

Mera Ek Shauk Tha

Berukhe Ke Teer Khana Be Mera Ik Shauk Tha
Dostoon Ko Azmana Be Mera Ik Shauk Tha
Dard Un Ka Apnay Senay Se Lagaya Is Leay
K Chot Kha Kar Muskrana Be Mera Ik Shauk Tha


दोस्तों में खुलूस न ढूँढो

दोस्तों में खुलूस न ढूँढो , वरना तुम दोस्त को खो दोगे
या ग़नीमत है साथ है इस ज़माने में और क्या लोगे ….

Doston Mein Khuloos Na Dhundo

Doston mein khuloos na dhundo, warna tum dost ko khodoge,
Ya ghanimath hai saath hai is zamane me aur kya loge…


हंसी आप की

अज़ीज़ है मुझे हर शह से दोस्ती आप की
उतर गयी मेरे दिल में  सादगी आप की
कभी पड़े न उदासी का आप पर साया
और आंसुओं में न बदले कभी हंसी आप की

Hansi Aap ki

Aziz hai Mujhe har shey se Dosti Aap ki
Utar gayi Mere Dil mai Saadgi Aap ki
Kabhi pare na Udaasi ka Aap per Saaya
Aur Aansu’on mai na Badle kabhi Hansi Aap ki


मेरे दोस्त

यह और बात के दुश्मन हुए हैं आज मगर
कल तक थे मेरे दोस्त उन्हे बुरा न कहो

Mere Dost

Yeh aur baat ke dusman huey hain ajj magar
kal tak they merey dost unhay bura na kaho…

सुन्दर परिवारिक ज्ञान

पति सुख अकेला काट लेता है लेकिन दुःख में  वो अपनी पत्नी को जरूर याद करता है
पत्नी दुःख तो अकेले काट लेती है लेकिन सुख में अपने पति को जरूर याद करती है

pati sukh akeela kat leta hai lekin dukh main wo apni patni ko jaroor yaad karna hai
patni dukh to akele kat leti hai lekin sukh main apne pati ko jaroor yaad karti hai

Family Value and Gyan – Husband and wife relationship quote

अच्छा  इंसान  बनने  के  लिए  अच्छे   कर्म  करने  पड़ते  है ,
जो  लोग  दिखावे  की  बजाए   अच्छे   काम  करते  है  दुनिया  उन  को खुद  ढूंढ  लेती  है 

Accha insan banne ke liye achhe karm karne padte hai,
jo log dekhawe ki bajaye ache karm karte hai duniya unn ko khud hi doond leti hai

Family Value and Gyan -Humanity and morality quote 

इंसान हमेशा कोशिश करता है वो एक आदर्श माता और पिता साबित हो ..
ऐसा करने के लिए उसे आदर्श बनने  की जरूर नहीं..
बल्कि उसे अपने माता पिता की सेवा और साथ की जरूरत पड़ती है ..क्योकि इंसान जैसा सीखता है बैसा बनता है

insaan hamesha kosis karta hai wo ek adarsh mata aur pita sabit ho..
aisa karne ke liye use adarsh banne ki jaroor nahi
balki use apne mata pita ki seva aur stah do ki jaroorat padthi hai..kyoni insaan jaisa sikkta hai baisa banta hai

Family Value and Gyan – Parents quote

पैसा  और  परिवार  दोनों  ही  महत्बपूर्ण   है 
पैसे  परिवार  को मजबूत  और  सक्षम  बनाने  के  लिए  और  परिवार  जीवन  मैं  अमृत  धारा  के  लिए 

Paisa aur parivar dono hi mahatbpurn hai
paise parivar ko majboot aur shaksaam banane ke liye aur parivar jivan main amrit dara ke liye

Family Value and Gyan – Family and Humanity , morality quote 

माँ  बाप  की  सेवा  ही  परम  धर्म  और  चारो धामों  का  पुण्य  है 

maa baap ki seva hi parm dharm aur charoo dhamoo ka puny hai

Family Value and Gyan -Humanity and morality quote 

गरीबो  और  भूखे को  देने  और खिलाने  से  धन  कभी  कम   नहीं  होता 

Garibon aur bhukhe ko dene aur khilane se dhan khabhi kam nahi hota

Family Value and Gyan -Humanity and morality quote 

संसार  का  कल्याण  ही  महा कल्याण  होता  है 

sansar ka kalyan hi maha kalyan hota hai

Family Value and Gyan -Humanity and morality quote 

स्त्री का स्थान हमेशा सबसे ऊपर होता है
तभी तो हर नाम से

hai jindagi ke do jhan

फूल को उड़ा ले गयी हवा

जब एक एक फूल को उड़ा ले गयी हवा
उस दिन बहार को मेरे घर का पता चला
जब उठा ले चले हमें चार लोग
उस दिन मेरे यार को मेरे प्यार का पता चला

PHOOL KO UDAA LE GAYI HAWA

JAB EK EK PHOOL KO UDAA LE GAYI HAWA,
US DIN BAHAAR KO MERE GHAR KA PATA CHALA.
JAB UTHA LE CHALE HAME CHAAR LOG,
US DIN MERE YAAR KO MERE PYAAR KA PATA CHALA ….


आसमान से दिल लगा बैठे

हुई हम से ये नादानी  के तेरी महफ़िल में आ बैठे
हो के ज़मीन की खाक आसमान से दिल लगा बैठे

Aasman Se Dil Lagaa Baithe

Hui hum se yeh nadani, Kay teri mehfil mein aa baithe
Ho kay zameen ki khakh aasman se dil laga baithe ….


दो जहाँ

है ज़िन्दगी के दो जहाँ
एक यह जहाँ एक वो जहाँ
इन दोनों जहाँ के दरम्यिान
बस फासला एक साँस का
जो चल रही तो यह जहाँ
जो रुक गई तो वो जहाँ

DO JAHAN

HAI  ZINDAGI KE DO JAHAN
EK YEH JAHAN EK WO JAHAN
IN DONO JAHAN KE DARMIAN
BUS FAASLA EK SAANS KA
JO CHAL RAHE TO YE JAHAN
JO RUK GAYE TO WO JAHAN ….


तेरी महफ़िल में हूँ

बदला न मेरे बाद भी मोज़ो -ऐ -गुफ्तगू
मैं जा चूका हूँ फिर भी तेरी महफ़िल में हूँ

Teri Mehfil Mein Hoon

Badla Na Meray Baad Bhi Mozo-e-Guftagoo
Mein Ja Chuka Hoon PHir BHi Teri Mehfil Mein Hoon…

मेरी सोचें भी परेशान मेरे ख़्यालो जैसी

मेरी सोचें भी परेशान मेरे ख़्यालो जैसी

ज़ुल्फ़ रातों सी है रंगत है उजालों जैसी ,
पर तबियत है वही भूलने वालों जैसी ….

ढूंढ़ता फिरता हूँ यूँ लोगों में शबाहत उसकी ,
के “वो ” ख़्वाबों में भी लगती है ख्यालों जैसी ….

उसकी बातें भी दिल फरेब हैं सूरत की तरह ,
मेरी सोचें भी परेशान मेरे ख़्यालो जैसी ..

उसकी “आँखों ” को कभी गौर से देखा है “फ़राज़ ”
सोने वालों की तरह जागने वालों जैसी …

Meri Sochein Bhi Preshan Mere khyaloon Jaisi

Zulf Raaton si Hai Rangat Hai ujaloon jaisi,
Par Tabiyaat Hai Wohi Bhoolney Waloon jaisi….

Dhoondta Phirta Hoon Yun Logon mein Shabahat Uski,
Ke “WO” Khawabon mein Bhi Lagti Hai Khyaaloon Jaisi….

Uski Baatein Bhi diL faraib hain Surat Ki Tarah,
Meri Sochein Bhi Preshan Mere khyaloon Jaisi..

Uski “AANKHON” Ko Kabhi gaur Se Dekha Hai “FARAZ”
Soney Walon Ki Tarah Jagney Walon Jaisi……

पंजाबी और उर्दू शायरी – हीर राँझा शायरी

जेल बिच बंद ग़ुलाम रह जाँदै न
किताबां बिच लिखे पैग़ाम रह जाँदै न
पहली मुलाकात किसी नु याद रवे न रवे
याद सब नू आखरी सलाम रह जाँदै न ​

jailaan ch band ghulaam reh janday ne
kitaabaan ch likhay paighaam reh janday ne
pehli mulakaat kissi nu yaad raway na raway
yaad sab nu akhari SALAAM reh janday ne​


वेख के उदास चेहरा यार दा , जिदी आँख भर आवे .
रब्ब ऐसे सजना नु कदे भी न तड़फावे ….
अस्सी रब्ब तक पहुँच बनायीं होई है …
मेरे हुंदियां न डरीं मौत कोलों …
तेरी मौत अस्सी अपनी लक़ीरां च लिखाई होई है …

vekh k udass chehra yaar da, jeedi akhh par aave.
Rabb aise sajna nu kade vi na tarpave….
Assi rabb tak pohach banayi hoyi hai…
Mere hundiyaa na darrin maut kolon…
Teri maut assi apni lakeran ch likhayi hoyi hai…


तू मेरी जिंद ते जान वरगा
मेरे पिंड नूं जांदी राह वरगा
तैनू भुला वे किंज यारा
तू आंदी जांदी साह वरगा

To meri Jind Tay jaan Wergaa
Mery Pind Nou Jaandi Raah Wergaa
tainoo Pullaan V Kainj yaraaaaaaaa
Tou Aandi jaandi Saah Wergaaaaa


हाजी लोक मक्का  ” नू जांदे ” मेरा रांझा माहि मक्का नी मैं कमली हाँ
मैं तां मांग रांझे  “दी होई ” आन मेरा बाबल करदा धक्का नी मैं कमली हाँ

हाजी लोक मक्के  “नू जांदे “, असां जाना तख़्त हज़ारे ‘ नी मैं कमली हाँ
जिथ वल यार ओथे  “वल क़ाबा ” भावें फूल किताबां चारे ‘ नी मैं कमली हाँ

हाजी लोक मक्के  “नू जांदे ”  मेरे घर विच नोशाह मक्का नी में कमली हाँ
विच्चे ‘ हाजी , विच्चे ग़ाज़ी , विच्चे चोर उचक्का नी मैं कमली हाँ ​

Haaji lok makke nuu jaaNde mera raanjha maahi maakka Ni main kamli haan
Main taaN mang raanjhe’ di hoe’aaN mera baabal karda dhakka Ni main kamli haan

Haaji lok makke’ nu jaaNde, asaaN jaana takht hazare’ Ni main kamli haan
Jhith bal yaar othe’ bal kaaba, bhaavein phool kitaabaaN chaare’ Ni main kamli haan

Haaji lok makke’ nu jaaNde’ mere ghar vich naoshah makka Ni mein kamli haan
Wicche’ haaji, wiche ghaazi, wicche chor uchakka Ni main kamli haan​…

दिल जले तो दीवाने बने – Funny वाह वाह शायरी

खुदा की कसम

खुदा ने मुझे बहुत वफादार दोस्तों से नवाज़ा है
याद मैं न करूँ तो खुदा की कसम ज़हमत वो भी नहीं करते ..

Khuda ki kasam

Khuda Ne Mujhe Boht WaFadar Dostoon se Nawaza hai
Yaad Main Na Kron to khuda ki kasam Zehmat wo b nahi karte…


दिल जले तो दीवाने बने

दिल जले तो दीवाने बने
शमा जली तो परवाने बने
शराब बनी तो महखाने बने
ऐ दोस्त अपनी बर्थ -डेट तो बता
पता तो चले किस दिन पागल खाने बने

Dil Jaly To Diwany Bane

Dil jaly To Diwany Bane
Shama Jali To Parwane Bane
Sharab Bani To Me’Khane Bane
Ay Dost Apni Birth-Date To Bata.?
Pata To Chale Kis Din Pagal Khane Bane…


दफा करो उसको

वो बेवफा है तो क्या हुआ …मत बुरा कहो उसको ,
तुम मुझ से सेट हो जाओ …दफा करो उसको ..

Dafa Karo Usko

Woh Bewafa Hy Tou Kia Hua…Mat Bura Kaho Usko,
Tum Mujh Say Set Ho Jao…Dafa Karo Usko…


आशियाना सजाने से डरते है

हम आज भी दिल का आशियाना सजाने से डरते है ,
बागों में फूल खिलने से डरते है ,
हमारी एक पसंद से टूट जाएंगे हज़ारो दिल ,
तभी तो हम आज भी गर्ल फ्रेंड बनने से डरते है …

Aashiyana Sajane Se Darte Hai

Hum Aaj Bhi Dil Ka Aashiyana Sajane Se Darte Hai,
Baagon Mein Phool Khilaney Se Darte Hai,
Hamari Ek Pasand Se Tut Jaayeinge Hazaaro Dil,
Tabhi Toh Hum Aaj Bhi Girl friend Bananey Se Darte Hai……

मेरे दामन में तो काँटों के सिवा कुछ भी नहीं

मेरे दामन में तो काँटों के सिवा कुछ भी नहीं

मेरे दामन में तो काँटों के सिवा कुछ भी नहीं ..
आप फूलों के खरीदार नज़र आते हैं .

कल जिन्हें छु नहीं सकती थी फरिश्तों की नज़र ..
आज वो रौनक -ऐ -बाजार नज़र आते हैं ..

हशर मैं कौन गवाही मेरी दे ग “साग़र ”
सब तुम्हारे हे तरफदार नज़र आते हैं …

 

Mere Daaman Main To Kanton Ke Siwa Kuch Bhee Nahin

Mere Daaman Main To Kanton Ke Siwa Kuch Bhee Nahin..
Aap Phoolon Ke Kharidaar Nazar Aate Hain.

Kal Jinhein Choo Nahin Sakti Thee Farishton Ki Nazar..
Aaj Wo Ronaq-e-Bazaar Nazar Aate Hain..

Hashr Main Kon Gawahi Meri De Ga “SAGHAR”
Sab Tumhare He Tarafdaar Nazar Aate Hain…


शमा और परवाना 

लोग लेते हैं यूं ही शमा और परवाने का नाम ,
कुछ नहीं है इस जहाँ में गम के अफ़साने का नाम

Shamma or parwaney

log letey hain yoon hi shamma or parwaney ka naam,
Kuch nahi hai is jahan me gum kay afsaney ka naam


आगोश- ऐ- मोहब्बत

फूल चाहे थे मगर हाथ में आए पत्थर ,
हम ने आगोश- ऐ- मोहब्बत में सुलाये पत्थर ..

Aghosh-ae-mohabbat

Phool chahey they magar hath mein aye pathar,
Hum ne aghosh-ae-mohabbat me sulaye pathar..


जश्न-ऐ-बहाराँ

उठा कर चूम ली हैं चंद मुरझाई हुई कलियाँ ,
न तुम आए  तो यूं जश्न -ऐ -बहाराँ  कर लिया मैने ..

Jashn-ae-baharan

Utha kar choom lee hain chand murjhayi huyi kaliyan,
Na tum ayee too yoon jashn-ae-baharan kar liya mene.…

हिंदी और उर्दू शायरी – हुस्न -ऐ -अदा – शायरी

सांवली सी सूरत

हुस्न -ऐ-मुजसिम हो या सांवली सी सूरत …!!
इश्क़ अगर रूह से हो तो हर रूप बा-कमाल दिखता है …!!

Saanwali si Surat

Hussn AE Mujasim ho ya Saanwali si Surat…!!
Ishq Agar Rooh say ho to har Roop Ba_ Kamaal Dikhta Hai…!!


हटा कर जुल्फें चेहरे से

हटा कर जुल्फें चेहरे से न छत पर शाम को जाना
कहीं कोई ईद न कर ले अभी रमजान बाकी है ..

Hata Kar Zulfien Chehre Se

Hata Kar Zulfien Chehre Se Na chaat Par Sham Ko Jana
Kahin Koi Eid Na Kar Le Abhi Ramzan Baki Hai…


हुस्न भी लाजवाब है 

तेरी सादगी का हुस्न भी लाजवाब है
मुझे नाज़ है के तू मेरा इंतखाब हाय

Husan Bhi LaaJawab Hai

Teri sadgi ka husan bhi laa jawab hai
Mujhe naaz hai ke tu mera intkhaab hai


हसरत हैं सिर्फ

हसरत हैं सिर्फ तुम्हे पाने की ,
और कोई ख़्वाहिश नहीं इस दीवाने की ,
शिक़वा मुझे तुमसे नहीं खुद से है ,
क्या ज़रूरत थी तुम्हे इतना खूबसूरत बनाने की

Hasrat Hain Sirf

Hasrat hain sirf tumhey paaney ki,
Aur koi khawahish nahi is deewane ki,
Shikwa mujhe tumse nahi khuda se hai,
Kya zarurat thi tumhe itna khubsurat bnane ki..


वो  दुल्हन सी

दुपट्टा क्या रख लिया सर पर
वो  दुल्हन सी नज़र आने लगी
उनकी तो अदा होगी
अपनी जान जाने लगी

Wo Dulhan Si

Dhupatta Kiya Rakh Liya Sar Par
Wo Dulhan si Nazar Aanay Lagi
Unki To Adaa Hogayi
Apni Jaan Jaanay Lagi.…