Best Collection Of Gulzar Shayari, Gulzar Famous Shayari

Gulzar Shayari In Hindi, Gulzar Sahab Famous Shayar, Inko Sab Gulzar Ke Naam Se Jante Hai. Inka Pura Naam Sampooran Singh Kalra Hai. Aap Is Article Mein Gulzar Shayari Hindi, Gulzar Shayari In Hindi, Gulzar Shayari On Love, Gulzar Shayari Quotes Hindi, Gulzar Shayari Images Inse Related Hindi Shayari Milegi. Inhe Aap Apne Facebook, Whatsapp Per Bhi Share Kar Sakte Hai.

Best Collection Of Gulzar Shayari

शाम से आँख में नमी सी है,
आज फिर आप की कमी सी है।


वो उम्र कम कर रहा था मेरी,
मैं साल अपने बढ़ा रहा था।


हम ने अक्सर तुम्हारी राहों में,
रुक कर अपना ही इंतिज़ार किया।


ख़ुशबू जैसे लोग मिले अफ़्साने में,
एक पुराना ख़त खोला अनजाने में।


कितनी लम्बी ख़ामोशी से गुज़रा हूँ,
उन से कितना कुछ कहने की कोशिश की।


एक ही ख़्वाब ने सारी रात जगाया है,
मैंने हर करवट सोने की कोशिश की।


हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते,
वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते।


Best Collection Of Gulzar Shayari

आप के बाद हर घड़ी हम ने,
आप के साथ ही गुज़ारी है।


कल का हर वाक़िआ तुम्हारा था,
आज की दास्ताँ हमारी है।


देर से गूँजते हैं सन्नाटे,
जैसे हम को पुकारता है कोई।


अपने साए से चौंक जाते हैं,
उम्र गुज़री है इस क़दर तन्हा।


फिर वहीं लौट के जाना होगा,
यार ने कैसी रिहाई दी है।


राख को भी कुरेद कर देखो,
अभी जलता हो कोई पल शायद।


कोई ख़ामोश ज़ख़्म लगती है,
ज़िंदगी एक नज़्म लगती है।


शाम से आँख में नमी सी है,
आज फिर आप की कमी सी है।


आदतन तुम ने कर दिए वादे,
आदतन हम ने एतिबार किया।


ज़ख़्म कहते हैं दिल का गहना है,
दर्द दिल का लिबास होता है।


आइना देख कर तसल्ली हुई,
हम को इस घर में जानता है कोई।


जब भी ये दिल उदास होता है,
जाने कौन आस-पास होता है।


तुम्हारे ख़्वाब से हर शब लिपट के सोते हैं,
सज़ाएँ भेज दो हम ने ख़ताएँ भेजी हैं।


काँच के पार तिरे हाथ नज़र आते हैं,
काश ख़ुशबू की तरह रंग हिना का होता।


वक़्त रहता नहीं कहीं टिक कर,
आदत इस की भी आदमी सी है।


गो बरसती नहीं सदा आँखें,
अब्र तो बारा मास होता है।


आप ने औरों से कहा सब कुछ,
हम से भी कुछ कभी कहीं कहते।


दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई,
जैसे एहसाँ उतारता है कोई।


आँखों के पोछने से लगा आग का …

Read More