Two Line Shayari | Short Hindi Shayari | 2 Liner Shayari | दो लाइन शायरी

आप सभी जानते है हमरे लिए सिर्फ दो पंक्तियों में अपनी इच्छा और अपनी भवनाओ व्यक्त करने का यह एक सबसे
अच्छा और बेस्ट तरीका है इन सभी छोटी बड़ी शायरी के बहुत गहरे और दिल छू लेने वाले अर्थ है यदि आपको कोई
शायरी पसंद आए तो आप उसको अपने व्हाट्सएप, फेसबुक और अन्य सोशल मीडिया पर शेयर करते है इसी प्रकार से
आज हम आपके लिए Best Two Line Shayari लेकर आए है। 2 line shayari, 2 Line Quotes, Quotes in Hindi, Heart Touching 2 line Shayari, Two Line Shayari In Hindi, Sad Two Line Shayari

shayarisms4lovers.in- New Hindi Shayari on Love, Sad, Funny, Friendship, Bewafai, Dard, GoodMorning, GoodNight, Judai, Whatsapp Status in Hindi

Best Two Line Shayari

कोशिश बहुत की के राज-ए-मोहब्बत बयां न हो,
पर मुमकिन कहां है के आग लगे और धुंआ न हो..!!

भूल जाऊं मैं तुम्हे, लोग मुझसे ये आसानी से कह देते हैं,
शायद खेल समझते हैं इश्क़ को वो, इसलिए इसे मुंह ज़ुबानी कह देते हैं।

तुम्हे पाकर भी खुश न था, तुम्हे खोने का भी गम है,
तेरे जाने के बाद भी, ‘तेरा’ होने का गम है।

मै क्या बताऊं कैसी परेशानियों में हूं,
काग़ज़ की एक नाव हूं और पानियों में हूं.!

सोचा नही था जिंदगी में ऐसे भी फसाने होंगे,
रोना भी जरूरी होगा और आसूं भी छुपाने होंगे।

Two Line Shayari

कर के बेचैन मुझे फिर मेरा हाल ना पूछा,
उसने नजरें फेर ली मैने भी सवाल ना पूछा !!

बे-नाम सा ये दर्द ठहर क्यों नही जाता,
जो बीत गया है वो गुज़र क्यों नही जाता।

बंदगी की और मोहब्बत को खुदा लिखा,
बस यही वजह थी कि वो शख्स मुझसे जुदा मिला।।

हजारों ख्वाहिश ऐसी कि हर ख्वाहिश पे दम निकले,
बहुत निकले मिरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले।।

गुलों में रंग भरे बाद-ए-नौ-बहार चले
चले भी आओ कि गुलशन का कारोबार चले।।

धीरे धीरे ढलते सूरज का सफ़र मेरा भी है
शाम बतलाती है मुझ को एक घर मेरा भी है।।

Awesome Two Line Shayari In Hindi

बीच राह में कुछ इस अंदाज़ से छोड़ा उसने हाथ मेरा,
कोई अब सहारा भी दे तो घबरा जाता हूं मैं!

रास्ता सुनसान था तो मुड़ के देखा क्यूं नही
मुझ को तन्हा देखकर उसने पुकारा क्यों नही

अपनी मर्जी से कहाँ अपने सफ़र के हम हैं
रुख़ हवाओं का जिधर का है उधर के हम हैं

दुआ करो की मै उसके लिए दुआ हो जाऊं,
वो एक शख्स जो दिल को दुआ सा लगता है।।

जो चाहती दुनिया है वो मुझ से नही होगा
समझौता कोई ख़्वाब के बदले नही होगा।।

जिस्म खुश, रूह उदास लिए फिरते हो

ये किस किस्म की मोहब्बत किए फिरते हो।

Two Line Shayari

मुझे फुर्सत कहां, कि मैं मौसम सुहाना देखूं…
तेरी यादों से निकलूं, तब तो जमाना देखूं..!

चेहरे पर खुशी छा जाती है आंखों में सुरूर आ जाता है
जब तुम मुझे अपना कहते हो अपने पे गुरुर आ जाता है

चुपके चुपके रात दिन आसूं बहाना याद है
हम को अब तक आशिक़ी का वो ज़माना याद है।।

मुस्कुराहट की बनावट में छुपाए हमने गम,
दिखावट की हंसी से दुनिया के सामने खड़े हैं हम

ये दिल डूबेगा समंदर में किसी के,
हम भी तो लिखे होंगे मुकद्दर में किसी के

मै तो आबाद ही होता हूं उजड़ने के लिए,
देखें इस बार कौन मिले बिछड़ने के लिए,,

Two Line Shayari In Hindi On Life

हर तमन्ना जब दिल से रुखसत हो गई,
यकीन मानिए फुरसत ही फुरसत हो गई..!

अब नही होती किसी से भी परेशानी मुझे
कितनी मुश्किल से हुई हासिल ये आसानी मुझे।।

जहर दिल में है जुबां गुड की डली है यारों
ये जो दुनिया है बस ऊपर से भली है यारों

खामोशियां भी देखी हैं हमने और गहरी उदासियां भी
इन शामों के मुकद्दर में आजकल तन्हाईयां बहुत हैं।।

तड़प कर गुज़र जाती है हर रात आखिर
कोई याद ना करे तो क्या सुबह नही होती

बेशुमार जख्मों की मिसाल हूं मैं,
फिर भी हंस लेता हूं कमाल हूं मैं!!

koshish bahut kee ke raaj-e-mohabbat bayaan na ho,
par mumakin kahaan hai ke aag lage aur dhuna na ho..!!

bhool jaoon main tumhe,
log mujhase ye aasaanee se kah dete hain,

shaayad khel samajhate hain ishq ko vo,
isalie ise munh zubaanee kah dete hain.

tumhe paakar bhee khush na tha,
tumhe khone ka bhee gam hai,

tere jaane ke baad bhee,
‘tera’ hone ka gam hai.

mai kya bataoon kaisee pareshaaniyon mein hoon,
kaagaz kee ek naav hoon aur paaniyon mein hoon.!

socha nahee tha jindagee mein aise bhee phasaane honge,
rona bhee jarooree hoga aur aasoon bhee chhupaane honge.

kar ke bechain mujhe phir mera haal na poochha,
usane najaren pher lee maine bhee savaal na poochha !!

be-naam sa ye dard thahar kyon nahee jaata,
jo beet gaya hai vo guzar kyon nahee jaata.

bandagee kee aur mohabbat ko khuda likha,
bas yahee vajah thee ki vo shakhs mujhase juda mila..

hajaaron khvaahish aisee ki har khvaahish pe dam nikale,
bahut nikale mire aramaan lekin phir bhee kam nikale..

gulon mein rang bhare baad-e-nau-bahaar chale chale bhee,

Aao ki gulashan ka kaarobaar chale..
dheere dheere dhalate sooraj ka safar,

Mera bhee hai shaam batalaatee hai mujh ko ek ghar mera
bhee hai..

beech raah mein kuchh is andaaz se chhoda usane haath mera,
koee ab sahaara bhee de to ghabara jaata hoon main!

raasta sunasaan tha to mud ke dekha kyoon nahee mujh ko tanha dekhakar usane pukaara
kyon nahee apanee marjee se kahaan apane safar ke ham hain

rukh havaon ka jidhar ka hai udhar ke
ham hain dua karo kee mai usake lie dua ho jaoon,

vo ek shakhs jo dil ko dua sa lagata hai..
jo chaahatee duniya hai vo mujh se nahee hoga samajhauta koee

khvaab ke badale nahee hoga.. jism khush,
rooh udaas lie phirate ho ye kis kism kee mohabbat kie phirate ho.

mujhe phursat kahaan,
ki main mausam suhaana dekhoon…

teree yaadon se nikaloon,
tab to jamaana dekhoon..!

chehare par khushee chha jaatee hai aankhon mein suroor aa jaata hai
jab tum mujhe apana kahate ho apane pe gurur aa jaata hai

chupake chupake raat din aasoon bahaana yaad hai
ham ko ab tak aashiqee ka vo zamaana yaad hai..

muskuraahat kee banaavat mein chhupae hamane gam,
dikhaavat kee hansee se duniya ke saamane khade hain ham

ye dil doobega samandar mein kisee ke,
ham bhee to likhe honge mukaddar mein kisee ke

mai to aabaad hee hota hoon ujadane ke lie,
dekhen is baar kaun mile bichhadane ke lie,,

har tamanna jab dil se rukhasat ho gaee,
yakeen maanie phurasat hee phurasat ho gaee..!

ab nahee hotee kisee se bhee pareshaanee mujhe
kitanee mushkil se huee haasil ye aasaanee mujhe..

jahar dil mein hai jubaan gud kee dalee hai yaaron

ye jo duniya hai bas oopar se bhalee hai yaaron

khaamoshiyaan bhee dekhee hain hamane aur gaharee udaasiyaan bhee
in shaamon ke mukaddar mein aajakal tanhaeeyaan bahut hain..

tadap kar guzar jaatee hai har raat aakhir
koee yaad na kare to kya subah nahee hotee

beshumaar jakhmon kee misaal hoon main,
phir bhee hans leta hoon kamaal hoon main!!

Two Line Shayari In Hindi

ख्वाब बोए थे और अकेलापन काटा है,
इस मोहब्बत में यारों बहुत घाटा है।

एक शख्स की खातिर हंसना छोड़ देते हैं…
इश्क़ में ठुकराए हुए.. अक्सर जीना छोड़ देते हैं..!

के देख के मेरी हालत को जब वो मुस्कुराने लगे,
खूब रोए थे हम जब वो बिछड़ के ऐसे जाने लगे।

ऐसा नहीं कि दिल में तेरी तस्वीर नही थी..
बस हाथों में तेरे नाम की लकीर नही थी।

कितनी मोहब्बत है तुमसे, कोई सफाई नही देंगे,
साए की तरह रहेंगे तेरे साथ, पर दिखाई नही देंगे..!!

2 Line Love Shayari In Hindi

जरूरी नही की तुम भी चाहो मुझे,
मेरा इश्क है, एक तरफा भी हो सकता है!

मैंने कब कहा तुम मिल जाओ मुझे,
गैर ना हो जाना बस इतनी सी हसरत है…

मोहब्बत सरेआम नही बस एहसास होना चाहिए,
हम उन्हे चाहते हैं ये पता सिर्फ उन्हें होना चाहिए।

तब से मोहब्बत हो गई है खुद से
जब से उसने कहा अच्छे लगते हो।

जरा जरा सी बात पर तकरार करने लगे हो,
लगता है तुम मुझे बे-इंतिहा प्यार करने लगे हो..

तुम फरमाइश तो करो हम सुनेंगे जरूर,
भले पूरा न कर सके लेकिन कोशिश करेंगे जरूर।

Two Line Shayari

बेवक्त बेवजह बेसबब सी बेरुखी तेरी
फिर भी बेइंतहा चाहने की बेबसी मेरी।

हम लड़-झगड़कर एक दूसरे से, खुद से नाराज़ रहते हैं
उसको कह दिया मैसेज मत करना कभी, और हम इंतज़ार में रहते हैं।

कुछ तो बात है जो मुझे खोने से डरते हो,
मेरे ना होकर भी मेरे होने के लिए मरते हो..

मै ना नज़र आऊं और बेचैन हो जाओ तुम

इश्क में ऐसा मुकाम चाहिए मुझे।

वो चंद लम्हे जो गुजरे तेरे साथ,
न जाने कितने बरस मेरे काम आयेंगे..

बदले बदले से रहते हैं वो इन दिनों,
वो बात तो करते हैं पर बातें नही करते।

Two Line Shayari On lehja

ना जख्म भरे, ना शराब सहारा हुई
ना तुम लौटे, ना मोहब्बत दोबारा हुई !

दूरियां जब बढ़ी तो गलतफहमियां भी बढ़ गईं,
फिर उसने वो भी सुना जो मैने कहा ही नहीं।

कल तक था जो प्यार वो आज अनजान बन गया
मोहब्बत का वो इक किस्सा, जो आज सूली चढ़ गया।।

खबर नही लगी ऐसा साथ छोड़ा है उसने,
बड़ी नज़ाकत के साथ ये दिल तोड़ा है उसने।

कभी उसे पढ़ा तो कभी उसे याद किया
ये जिंदगी तू देख कैसे इक प्यार की खातिर खुद को बर्बाद किया..

रंग देखने को तब मिलते हैं बड़े नसीब से,
जब गुजरना पड़ता है किसी के बेहद करीब से।।

Two Line Shayari In Hindi

यहां सब खामोश हैं कोई आवाज नहीं करता,
सच बोलकर कोई, किसी को नाराज नहीं करता

कभी देर रात बात करते करते अचानक सो जाते थे
आज उन्ही बातों को याद करते रात को जागा करते हैं।

लग गया हूं ख़ुद को ख़ुद से मिलाने में,
गुम हो गया था मैं मोहब्बत के किसी फसाने में

जो लोग दूर जाने के बाद भी सता रहे हैं,
प्यार क्या होता है, असल में ये हमे बता रहे हैं

इस उदास चेहरे को छुपाने की कोशिश करता रहता हूं,
प्यार तुमसे अब भी है ये बताने की कोशिश करता रहता हूं..

शिकायतें बहुत हैं तुमसे पर अब वो बात नही,
मिलना चाहता हूं तुमसे पर अब वो जज़्बात नही।।

khvaab boe the aur akelaapan kaata hai,
is mohabbat mein yaaron bahut ghaata hai.

ek shakhs kee khaatir hansana chhod dete hain…
ishq mein thukarae hue..

aksar jeena chhod dete hain..!
ke dekh ke meree haalat ko jab vo muskuraane lage,

khoob roe the ham jab vo bichhad ke aise jaane lage.
aisa nahin ki dil mein teree tasveer nahee thee..

bas haathon mein tere naam kee lakeer nahee thee.
kitanee mohabbat hai tumase,

koee saphaee nahee denge,
sae kee tarah rahenge tere saath,

par dikhaee nahee denge..!!
jarooree nahee kee tum bhee chaaho mujhe,

mera ishk hai,
ek tarapha bhee ho sakata hai!

mainne kab kaha tum mil jao mujhe,
gair na ho jaana bas itanee see hasarat hai…

mohabbat sareaam nahee bas ehasaas hona chaahie,
ham unhe chaahate hain ye pata sirph unhen hona chaahie.

tab se mohabbat ho gaee hai khud se jab se usane kaha achchhe lagate ho.
jara jara see baat par takaraar karane lage ho,

lagata hai tum mujhe be-intiha pyaar karane lage ho..
tum pharamaish to karo ham sunenge jaroor,

bhale poora na kar sake lekin koshish karenge jaroor.
bevakt bevajah besabab see berukhee teree phir bhee beintaha chaahane kee bebasee meree.

ham lad-jhagadakar ek doosare se,
khud se naaraaz rahate hain usako kah diya maisej mat karana kabhee,

aur ham intazaar mein rahate hain.

kuchh to baat hai jo mujhe khone se darate ho,

mere na hokar bhee mere hone ke lie marate ho..
mai na nazar aaoon aur bechain ho jao tum ishk mein aisa mukaam chaahie mujhe.

vo chand lamhe jo gujare tere saath,
na jaane kitane baras mere kaam aayenge..

badale badale se rahate hain vo in dinon,
vo baat to karate hain par baaten nahee karate.

na jakhm bhare,
na sharaab sahaara huee na tum laute,

na mohabbat dobaara huee !
dooriyaan jab badhee to galataphahamiyaan bhee badh gaeen,

phir usane vo bhee suna jo maine kaha hee nahin.
kal tak tha jo pyaar vo aaj anajaan ban gaya mohabbat ka vo ik kissa,

jo aaj soolee chadh gaya..
khabar nahee lagee aisa saath chhoda hai usane,

badee nazaakat ke saath ye dil toda hai usane.
kabhee use padha to kabhee use yaad kiya

ye jindagee too dekh kaise ik pyaar kee khaatir
khud ko barbaad kiya..

rang dekhane ko tab milate hain bade naseeb se,
jab gujarana padata hai kisee ke behad kareeb se..

yahaan sab khaamosh hain koee aavaaj nahin karata,
sach bolakar koee, kisee ko naaraaj nahin karata

kabhee der raat baat karate karate achaanak so jaate
the aaj unhee baaton ko yaad karate raat ko jaaga karate hain.

lag gaya hoon khud ko khud se milaane mein,
gum ho gaya tha main mohabbat ke kisee phasaane mein

jo log door jaane ke baad bhee sata rahe hain,
pyaar kya hota hai, asal mein ye hame bata rahe hain

is udaas chehare ko chhupaane kee koshish karata rahata hoon,
pyaar tumase ab bhee hai ye bataane kee koshish karata rahata hoon..

shikaayaten bahut hain tumase par ab vo baat nahee,
milana chaahata hoon tumase par ab vo jazbaat nahee..

दो लाइन शायरी

तबियत अपनी घबराती है जब सुनसान रातों में
हम ऐसे में तिरी यादों की चादर तान लेते हैं

होशियारी दिल-ए-नादान बहुत करता है
रंज कम सहता है एलान बहुत करता है।

सब तरह की दीवानगी से वाकिफ हुए हैं हम,
पर मां जैसा चाहने वाला जमाने भर में ना है।

Two Line Shayari

इक आदत सी पड़ी है सब ठीक है कहने की,
इक आदत सी पड़ी है सब कुछ ही सहने की।

खाली पन्नो की तरह दिन पलटते जा रहे हैं,
खबर नही की ये “आ रहे हैं” या “जा रहे हैं”..!

मानता ही नहीं ये दिल तुम्हे भूलने को
मै हाथ जोड़ता हूं तो पांव पकड़ लेता है।।

इस छोटे से दिल में किस किस को जगह दूं मैं,
गम रहे दम रहे फरियाद रहे या तेरी याद।

तेरी बातें ही सुनाने आए
दोस्त भी दिल ही दुखाने आए।

बिछड़ कर फिर मिलेंगे यकीन कितना था
ख्वाब ही था मगर हसीन कितना था।।

दो लाइन हिंदी शायरी

फिर बारिश हो रही है, शायद बादल रोया है,
लगता है जैसे उसने भी मेरी तरह कोई अपना खोया है.!

कुछ इस तरह से हमारी बातें कम हो गई
कैसे हो से शुरू और ठीक हूं पर खत्म हो गई।

माना की मरने वालों को भुला देते हैं सभी..!
मुझे जिंदा भूलकर तुमने तो कहावत ही बदल दी.!!

बेर-सबब बात बढ़ाने की जरूरत क्या है
हम खफा कब थे मनाने की जरूरत क्या है।

तेरी याद आती है तो दिन में कई बार रो लेते हैं हम,
तेरी तस्वीर को देख कर हर बार तुझे खो लेते हैं हम।

जिंदगी होगी तो कल फिर फिकर होगी तेरी,
अगर इसी रात हम चल बसे तो ख्याल रखना अपना..!

Two Line Shayari In English

कुछ टूटे हैं ख़्वाब मेरे कुछ को अब भी बुन रहा,
जो उठ रहीं आवाजें मुझ पर उनको भी सुन रहा..!

दरख़्त ऐ नीम हूं मेरे नाम से घबराहट तो होगी,
छांव ठंडी ही दूंगा बेशक पत्तों में कड़वाहट तो होगी.

हद से बढ जाए ताल्लुक तो गम मिलते हैं,
हम इसी वास्ते हर शख्स से कम मिलते हैं..

न जाने कौन सी शिकायतों का हम शिकार हो गए,
जितना दिल साफ रखा उतना गुनहगार हो गए।

जो गैर थे वो इसी बात पर हमारे हुए
कि हम से दोस्त बहुत से बे-खबर हमारे हुए।

जो मिल गया उसी को मुकद्दर समझ लिया
जो खो गया मैं उसको भुलाता चला गया।

Short Hindi Shayari

माहौल गरम हो या हो बातों में चिंगारी
मै मसरूफ हूं अपने काम में, मुझे भाती नही ये दुनियादारी।

क्या ही फर्क पड़ा है किसी को तुम्हारे नाराज़ होने से,
वक्त के साथ बदल जाओ, इतना बर्बाद होने से।

जिंदगी संवारने को तो सारी जिंदगी पड़ी है,
अभी बस वो लम्हा संभाल लो.. जहां जिंदगी खड़ी है।

कभी लौट आएं तो पूछना नही देखना उन्हे गौर से
जिन्हें रास्ते में ख़बर हुई कि ये रास्ता कोई और है।

यूं तो हर शाम उम्मीदों में गुजर जाती है,
आज कुछ बात है जो शाम पे रोना आया।।

कुछ भी बचा ना कहने को हर बात हो गई
आओ कहीं शराब पिए रात हो गई।

tabiyat apanee ghabaraatee hai jab sunasaan raaton mein
ham aise mein tiree yaadon kee chaadar taan lete hain

hoshiyaaree dil-e-naadaan bahut karata hai ranj kam sahata hai
elaan bahut karata hai.

sab tarah kee deevaanagee se vaakiph hue hain ham,
par maan jaisa chaahane vaala jamaane bhar mein na hai.

ik aadat see padee hai sab theek hai kahane kee,
ik aadat see padee hai sab kuchh hee sahane kee.

khaalee panno kee tarah din palatate ja rahe hain,
khabar nahee kee ye “aa rahe hain” ya “ja rahe hain”..!

maanata hee nahin ye dil tumhe bhoolane ko
mai haath jodata hoon to paanv pakad leta hai..

is chhote se dil mein kis kis ko jagah doon main,
gam rahe dam rahe phariyaad rahe ya teree yaad.

teree baaten hee sunaane aae dost bhee dil hee dukhaane aae.
bichhad kar phir milenge yakeen kitana tha khvaab hee tha magar haseen kitana tha..

phir baarish ho rahee hai,
shaayad baadal roya hai,

lagata hai jaise usane bhee meree tarah koee
apana khoya hai.! kuchh is tarah se hamaaree baaten kam ho gaee
kaise ho se shuroo aur theek hoon par khatm ho gaee.

maana kee marane vaalon ko bhula dete hain sabhee..!
mujhe jinda bhoolakar tumane to kahaavat hee badal dee.!!

ber-sabab baat badhaane kee jaroorat kya hai
ham khapha kab the manaane kee jaroorat kya hai.

teree yaad aatee hai to din mein kaee baar ro lete hain ham,
teree tasveer ko dekh kar har baar tujhe kho lete hain ham.

jindagee hogee to kal phir phikar hogee teree,
agar isee raat ham chal base to khyaal rakhana apana..!

kuchh toote hain khvaab mere kuchh ko ab bhee bun raha,
jo uth raheen aavaajen mujh par unako bhee sun raha..!

darakht ai neem hoon mere naam se ghabaraahat to hogee,
chhaanv thandee hee doonga beshak patton mein kadavaahat to hogee.

had se badh jae taalluk to gam milate hain,
ham isee vaaste har shakhs se kam milate hain..

na jaane kaun see shikaayaton ka ham shikaar ho gae,
jitana dil saaph rakha utana gunahagaar ho gae.

jo gair the vo isee baat par hamaare hue
ki ham se dost bahut se be-khabar hamaare hue.

jo mil gaya usee ko mukaddar samajh liya
jo kho gaya main usako bhulaata chala gaya.

maahaul garam ho ya ho baaton mein chingaaree
mai masarooph hoon apane kaam mein, mujhe bhaatee nahee ye duniyaadaaree.

kya hee phark pada hai kisee ko tumhaare naaraaz hone se,
vakt ke saath badal jao, itana barbaad hone se.

jindagee sanvaarane ko to saaree jindagee padee hai,
abhee bas vo lamha sambhaal lo.. jahaan jindagee khadee hai.

kabhee laut aaen to poochhana nahee dekhana unhe gaur se
jinhen raaste mein khabar huee ki ye raasta koee aur hai.

yoon to har shaam ummeedon mein gujar jaatee hai,
aaj kuchh baat hai jo shaam pe rona aaya..

kuchh bhee bacha na kahane ko har baat ho gaee
aao kaheen sharaab pie raat ho gaee.

Two Line Shayari

उन्हें कल हैरानी हुई हमे इस हाल में देख कर,
के भला टूट कर भी कोई इतना मुस्कुराता है क्या।

बात रोने की लगे और हंसा जाता है
यूं भी हालात से समझौता किया जाता है।

मेरी उदासियां तुम्हे कैसे नजर आएंगी
तुम्हे देखकर तो हम मुस्कुराने लगते हैं।

ऐसी गज़ब की ख़ामोशी देखी नही कहीं
दोनो यहीं पर हैं, मगर कोन गया पता नही।

वो भी जिंदा हुआ, मै भी जिंदा हूं,
कत्ल सिर्फ़ इश्क़ का हुआ है..!!

unhen kal hairaanee huee hame is haal mein dekh kar,
ke bhala toot kar bhee koee itana muskuraata hai kya.

baat rone kee lage aur hansa jaata hai
yoon bhee haalaat se samajhauta kiya jaata hai.

meree udaasiyaan tumhe kaise najar aaengee

tumhe dekhakar to ham muskuraane lagate hain.

aisee gazab kee khaamoshee dekhee nahee kaheen
dono yaheen par hain, magar kon gaya pata nahee.

vo bhee jinda hua, mai bhee jinda hoon,
katl sirf ishq ka hua hai..!!

Two Line Shayari In Hindi English

काट कर गैरों की टांगे, खुद लगा लेते हैं लोग,
इस शहर में इस तरह भी कद बढ़ा लेते हैं लोग…

Kaat kar gairon ki taange, khud laga lete hain log,
Is shahar me is tarah bhi kad badha lete hain log…

कुछ टूटे हैं ख़्वाब मेरे कुछ को अब भी बुन रहा
जो उठ रही आवाज़ें मुझ पर उनको भी सुन रहा।

Kuch toote hain khwab mere kuch ko ab bhi bun raha
Jo uth rahi aawajen mujh par unko bhi sun raha.

गहराई जख्म की किसी को दिखाता नही हूं,
माफ़ तो कर देता हूं मगर मैं भुलाता नही हूं..

Gahrai jakhm kee kisi ko dikhaata nahi hoon,
Maaf to kar deta hoon magar mai bhulata nahi hoon..

तुम से बिछड़ के कुछ यूँ वक्त गुजारा,
कभी जिंदगी को तरसे कभी मौत को पुकारा।।

Tum se bichhad ke kuch yun waqt guzaara,
Kabhi zindagi ko tarse kabhi maut ko pukaara…

शाम तक सुबह की नज़रों से उतर जाते हैं,
इतने समझौतों पर जीते हैं कि मर जाते हैं..

Shaam tak subah kee nazaron se utar jaate hain,
Itne samjhauton par jeete hain ki mar jaate hain..

Hindi 2 Line Shayari

ज़िंदगी थोड़ी बेहतर होती अगर तुम ज़िंदगी से जाते ही नहीं,
थोड़ी ज़्यादा बेहतर होती अगर तुम ज़िंदगी में आते ही नहीं।

Zindagi thodee behtar hoti agar tum zindagi se jaate hi nahi,
Thodee jyada behtar hoti agar tum zindagi mein aate hi nahi

कुछ शिकायतें बनी रहें तो बेहतर हैं
चाशनी में डूबे रिश्ते वफादार नही होते।

Kuch shikaayaten banee rahein to behatar hain
Chaashanee mein doobe rishte vafhaadar nahi hoote.

ज़िंदगी रोज़ कोई ताज़ा सफ़र मांगती है
और थकान शाम को अपना घर मांगती है।

zindagi roz koi taaza safar mangati hai
aur thakaan shaam ko apana ghar mangati hai.

हर कदम साथ चलने वाले हम कहीं खो गए
इतने करीब थे हम और अब अजनबी हो गए

Har kadam saath chalne wale ham kahin khoo gaye
Itne kareeb the ham aur ab ajnabi ho gaye.

मै लोगों से मुलाकातों के लम्हें याद रखता हूं
बातें भूल भी जाऊं पर लहजे याद रखता हूं।

Main logon se mulakaaton ke lamhen yaad rakhata hoon
Baaten bhool bhi jaun par lahaze yaad rakhata hoon.

Beautiful 2 Line Shayari

तितली से दोस्ती न गुलाबों का शौक है
मेरी तरह उसे भी किताबों का शौक है।

Titalee se dosti na gulaabon ka shauq hai
meri tarah use bhi kitaabon ka shauq hai.

वो एक बात जिसे बोलने को मरते थे
वो एक बात हमें बोलनी नही आई।

Wo ek baat jise bolane ko marte the
Wo ek baat hamen bolani nahi aai.

सब कर लेना लम्हें ज़ाया मत करना
गलत जगह पर जज़्बे ज़ाया मत करना।

Sab kar lena lamhen zaaya mat karna

Galat jagah par jazbe zaaya mat karna.

कैसा अज़ीब रिवाज़ दुनिया का हो चला
खुश दिखना खुश होने से ज़रूरी हो गया।

Kaisa azeeb riwaaz duniya ka ho chala
Khush dikhana khush hone se zaroori ho gaya.

गमों की मुझ पर कुछ ऐसी नजर हो गई,
जब भी हम हंसे ये आँखें नम हो गई !!

Gamon ki mujh par kuch esi najar ho gai,
Jab bhi ham hanse ye aankhen nam ho gai..

Deep Meaning two Line Shayari

सारी दुनिया से मुलाकातें एक तरफ
तेरे साथ बैठना तुझे देखना एक तरफ़।

Saree duniya se mulakaaten ek taraf
Tere sath baithana tujhe dekhana ek taraf.

हमें पता है तुम कहीं और के मुसाफ़िर हो,
जरा ठहर जाओ बस फिर चले जाना।

Hame pata hai tum kahin aur ke musaafir ho,
Zara thahar jao bas fir chale jana.

मेरी तन्हाई देखेंगे तो हैरत ही करेंगे लोग
मोहब्बत छोड़ देंगे या मोहब्बत ही करेंगे लोग।

Meri tanhai dekhenge to hairat hi karenge log
Mohabbat chhod denge ya mohabbat hi karenge log.

औरों का बताया हुआ रस्ता नही चुनते
जो इश्क़ चुना करते हैं, दुनिया नही चुनते।

Auron ka bataya hua rasta nahi chunte
Jo ishq chuna karte hain, duniya nahi chunte.

न रूठने का डर न मनाने की कोशिश
दिल से उतरे हुए लोगों से शिकायतें कैसी।

N ruthane ka dar n manane ki koshish
Dil se utare huye logon se shikaayaten kaisi.

Two Line Sher o Shayari

किसी एक की चाहत बनो हर किसी की तमन्ना नही,
जो मजा उस एक के इश्क में है वो नशा किसी और में नही..

Kisi ek ki chahat bano har kisi ki tamanna nahi,
Jo maza us ek ke ishq me hai wo nasha kisi aur me nahi.

तू खास है मेरे लिए, आम नही
गहराई बहुत है रिश्ते में, बस कोई नाम नहीं।

Tu khaas hai mere liye, aam nahi
Gahrai bahut hai rishte me, bas koi naam nahi.

तेरी एक झलक के लिए तरस जाता हूं,
खुश किस्मत हैं वो लोग जो तुझे रोज देखते हैं!

Teri ek jhalak ke liye taras jata hoon,
Khush kismat hain wo log jo tujhe roz dekhte hain.

मेरा सबसे प्यारा एहसास हो तुम,
दूर हो लेकिन मेरे दिल के पास हो तुम।

Mera sabse pyaara ehsaas ho tum,
Door ho lekin mere dil ke paas ho tum.

जब हम नज़र ना आएं तो मत घबराना तुम,
कुछ दिन आसूं बहाकर किसी और के हो जाना तुम।

Jab ham najar na aayen to mat ghabrana tum,
Kuch din aansun bahakar kisi aur ke ho jana tum.

Two Line Shayari on Evening

कैसे करूं मैं साबित तुम याद बहुत आते हो,
एहसास तुम समझते नही और अदाएं हमें आती नहीं।

Kaise karun mai sabit tum yaad bahut aate ho,
Ehsaas tum samjhte nahi adayen hamen aati nahi.

एक तरसी हुई निगाहें इशारे में कह गई..!
दिल ले गए हो तुम बस जान रह गई..!

Ek tarasi hui nigaahen ishaare me kah gai..

Dil le gaye ho tum bas jaan rah gai..!

मुझको पढ़ना हो तो, मेरी शायरी पढ़ लेना,
बेशक लफ्ज़ बेमिसाल ना सही, पर जज़्बात लाजवाब होंगे !!

Mujhko padhna ho to, meri shayari padh lena,
Beshaq lafz bemisaal na sahi, par zazbat lajwab honge !!

क्या फ़र्क पड़ता है असल में हम कैसे हैं,
जिसने जैसी सोच बना ली उसके लिए हम वैसे हैं।

Kya fark padta hai asal me ham kaise hain,
Jisne jaisi soch bana li uske liye ham waise hain.

कौन है जिसमे कमी नहीं होती,
आसमान के पास भी तो जमीं नही होती..

Kaun hai jisme kami nahi hoti,
Aasman ke paas bhi to jamin nahi hoti.

2 Line Shayari on life

भर जायेंगे जख्म मेरे भी तुम जमाने से जिक्र मत करना,
मै ठीक हूं तुम दुबारा कभी मेरी फिक्र मत करना।

Bhar jayenge jakhm mere bhi tum jamane se jikr mat karna,
Main theek hoon tum dubara kabhi meri fikr mat karna.

समझ रहे हैं मगर बोलने का यारा नही
जो हम से मिल के बिछड़ जाए वो हमारा नही

Samjh rahe hain magar bolane ka yaara nahi
Jo ham se mil ke bichhad jaaye wo hamara nahi.

मै तो चाहता हूं हमेशा मासूम बने रहना,
ये जो दुनिया है समझदार किए जाती है।

Mai to chahata hoon hamesha masoom bane rahna,
Ye jo duniya hai samajhdar kiye jati hai.

हवा चुरा ले गई मेरी शायरी की किताब,
देखो आसमां पढ़ के रो रहा है बेहिसाब आज।

Hava chura le gai meri shayari ki kitaab,
Dekho aasma padh ke ro raha hai behisaab aaj.

कोई कहता है मूरत में, कोई कहता है आसमान में रहता है,
और मुझ जाहिल को लगता था, खुदा हर इंसान में रहता है।

Koi kahata hai murat me, koi kahata hai aasman me rahata hai,
Aur mujh jahil ko lagta tha, khuda har insaan me rahta hai.

ज़रूरी तो नहीं कि शायरी सिर्फ़ आशिक़ ही करें,
ज़िंदगी भी कुछ ज़ख्म बेमिसाल दे जाती है।

Zaruri to nahi ki shayari sirf aashiq hi Karen,
Zindagi bhi kuch zakhm bemisaal de jati hai.

%d bloggers like this: