Umeed par hindi shayari

यहां मै उम्मीदों का जहा बसाते रहा
वो भी पल पल मुझे आजमाते रही
जब इश्क़ में मरने का वक्त आया;
हम मर गए और वो बस मुस्कुराते रहे।”

Yaha Main Umeedo Ka Jaha Basate Raha
Wo Bhi Pal Pal Mujhe Aajmaate Rahi
Jab Ishq Me Marne Ka Waqt Aaya
Hum Mar Gaye Or Wo Bus Muskurate Rahe

Leave a Reply