Usne Mahboob Hi Toh Badla

Usne Mahboob Hi Toh Badla Hai Phir Tajjub Kaisa,
Dua Kabool Na Ho Toh Log Khuda Tak Badal Dete Hain.

उसने महबूब ही तो बदला है फिर ताज्जुब कैसा,
दुआ कबूल ना हो तो लोग खुदा तक बदल लेते है।