Waqt to ab lafzo mein diya jata hai, Shayari

Waqt to ab lafzo mein diya jata hai,
rubaru to mahaj dikhawa kiya jata hai.

वक़्त तो अब लफ़्ज़ों में दिया जाता है,
रूबरू तो महज दिखावा किया जाता है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: