Yaad Shayari – Ab na jaane kahan khone lage hain hum

Ab na jaane kahan khone lage hain hum,
Akele me bekhyaal hone lage hain hum,
Ishq ke samndar me gota kya lagaya,
Ab uski yaad me rone bhi lage hain hum.

अब न जाने कहां खोने लगे है हम,
अकेले मे बेखयाल होने लगे हैं हम,
इश्क के समन्दर में गोता क्या लगाया,
अब उसकी याद में रोने भी लगे है हम।

Leave a Reply