Yaad Shayari – So jane de mujhe neend ki gahraaiyon men

So jane de mujhe neend ki gahraaiyon men,
Jeene nahi deti uski yaden tanhaiyon men.

सो जाने दे मुझे नींद की गहराईयों में,
जीने नहीं देती उसकी यादें तन्हाइयों में।


Do jawan dilon ka ghum dooriyan samajhati hain,
Kaun yaad karta hai, hichkiyan samajhti hain.

दो जवाँ दिलों का ग़म, दूरियाँ समझती हैं,
कौन याद करता है , हिचकियाँ समझती हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: