Yaadein Shayari – Beeti Hui Baatein

Har mulakat par waqt ka takaza hua,
Jab jab tujhe dekha dil ka dard taza hua,
Sunithi baatein judai ko sirf gazalon mein,
Ab jab khud par beeti to haqikat ka andaza hua..

हर मुलाकात पर वक़्त का तक़ाज़ा हुआ,
जब जब तुझे देखा दिल का दर्द ताज़ा हुआ,
सुनीति बातें जुदाई को सिर्फ़ ग़ज़लों में,
अब जब खुद पर बीती तो हक़ीकत का अंदाज़ा हुआ…

Leave a Reply