Ye Chiraag E Jaan Bhi

Ye Chiraag E Jaan Bhi

ये चिराग-ए-जान भी अजीब है,
कि जला हुआ है अभी तलक,
उसकी बेवफाई की आँधियाँ तो,
कभी की आ के गुजर गईं।

Ye Chiraag-e-jaan Bhi Ajib Hai,
Ki Jala Hua Hai Abhi Talak,
Usaki Bevaphai Ki Aandhiyaan To,
Kabhi Ki Aa Ke Gujar Gain.

Leave a Reply

%d bloggers like this: