Zara Si Baat Der Tak Rulati Rahi, Shayari

Zara Si Baat Der Tak Rulati Rahi,
Khushi Mein Bhi Aankhein Aansu Bahati Rahi,
Jise Chaha Wo Mil Kar Bhi Na Mila,
Zindagi Bas Hum Ko Yuhi Azmati Rahi!

ज़रा सी बात देर तक रूलाती रही,
खुशी में भी आँखें आँसू बहाती रही..
कोई खो के मिल गया तो कोई मिल के खो गया,
ज़िंदगी हम को बस ऐसे ही आज़माती रही!

Leave a Reply