Zindagi Shayari in Hindi om Kismat Ki lakeer

मेरी ज़िन्दगी किसी की जागीर नही है,
अन्धेरी कोठरियां मेरी तकदीर नही है,
क्यूं दबाया जाता है हर फैंसले मे मुझको,
क्यूं मेरे हाथो मे किस्मत की लकीर नही है..

Leave a Reply